Submit your post

Follow Us

लखीमपुर खीरी: मृत किसानों के परिजनों को मुआवजे के तौर पर ये सब देगी योगी सरकार

लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) में 3 अक्टूबर को हुई वारदात में मारे गए चार किसानों के परिजनों को यूपी सरकार की तरफ से 45 लाख रुपये का मुआवजा देने की घोषणा हुई है. वहीं घायलों को 10-10 लाख रुपये दिए जाएंगे. इसके अलावा मृतक किसानों के परिवार के एक सदस्य को नौकरी दी जाएगी. उत्तर प्रदेश के एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार और किसान नेता राकेश टिकैत ने साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह घोषणा की. प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एडीजी प्रशांत कुमार ने यह भी ऐलान किया कि एक रिटायर्ड जज की देखरेख में इस पूरे मामले की जांच होगी.

प्रेस कॉन्फ्रेंस में एडीजी प्रशांत कुमार ने लखीमपुर खीरी पहुंचने की कोशिश के दौरान हिरासत में लिए गए विपक्षी नेताओं पर भी प्रतिक्रिया दी. उन्होंने कहा कि धारा 144 लागू होने के कारण विपक्ष के नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने की मंजूरी नहीं दी गई है. हालांकि, किसान संगठन से जुड़े लोग आ सकते हैं.

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान राकेश टिकैत ने कहा कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री का नाम FIR में दर्ज हुआ है, लेकिन प्रशासन ने जो 10-11 दिन का समय मांगा है उसमें  अगर कार्रवाई नहीं हुई तो हम पंचायत करेंगे. टिकैत ने कहा कि हम किसानों के दाह संस्कार तक यहीं रहेंगे और पांच डॉक्टरों की निगरानी में पोस्टमार्टम होगा. टिकैत ने ये भी कहा कि अभी इंटरनेट नहीं चल रहा है इसलिए उन्हें बहुत सारे वीडियो सबूत नहीं मिले हैं. लेकिन जैसे ही इंटरनेट चलेगा, जिसके पास जो भी वीडियो हो वो उन्हें भेजा जाए.

‘मामले की हो CBI जांच’

इस बीच, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा का एक बयान भी सामने आया है. इसमें उन्होंने आरोप लगाया है कि बीजेपी कार्यकर्ताओं की लाठियों और तलवारों के जरिए हत्या की गई. हत्या करने वालों ने बीजेपी कार्यकर्ताओं से जबरन बुलवाया कि उन्हें किसानों को रौंदने के लिए अजय कुमार मिश्रा की तरफ से भेजा गया है. केंद्रीय मंत्री ने अपने बेटे आशीष उर्फ मोनू मिश्रा पर लगे आरोपों को भी निराधार बताते हुए कहा कि अगर उनका बेटा घटनास्थल पर होता, तो उसकी जान चली जाती. यह बयान देते हुए अजय कुमार मिश्रा ने मारे गए बीजेपी कार्यकर्ताओं के परिजनों को 50-50 लाख रुपये देने की मांग की. उन्होंने पूरे मामले की जांच CBI या फिर SIT से कराने की भी मांग की. इससे पहले उनका बेटा आशीष मिश्रा भी इस पूरे मामले में खुद को बेकसूर बता चुका है.

यह पूरा मामला 3 अक्टूबर की शाम का है. लखीमपुर खीरी में आयोजित एक कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य आने वाले थे. कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों ने उन्हें काले झंडे दिखाने की योजना बनाई थी. आरोप है कि जब किसान काले झंडे लेकर पहुंचे तो आशीष मिश्रा ने उनके ऊपर गाड़ियां चढ़ा दीं. इससे चार किसानों की मौत हो गई. इस घटनाक्रम के बाद गुस्साए किसानों ने आशीष मिश्रा की तीन गाड़ियों में आग लगा दी. इसी दौरान भीड़ की हिंसा में चार लोगों की मौत हो गई.

फिलहाल, पुलिस ने आशीष मिश्रा के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया है. इसके अलावा 13 अन्य लोगों के खिलाफ बलवा और साजिश रचने का मामला भी दर्ज किया गया है. विपक्षी नेता भी लामबंद हैं और अजय कुमार मिश्रा के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं. प्रियंका गांधी, अखिलेश यादव, शिवपाल यादव इत्यादि नेताओं को यूपी पुलिस ने हिरासत में ले लिया है. ये नेता लखीमपुर जाने की कोशिश कर रहे थे.

यह पूरा घटनाक्रम तब सामने आया है, जब इससे पहले 25 सितंबर को केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी ने लखीमपुर खीरी के एक विधानसभा क्षेत्र में किसानों को खुलेआम धमकी दी थी. उन्होंने कहा था कि कृषि कानूनों का विरोध कर रहे लोग सुधर जाएं, नहीं तो उन्हें दो मिनट में सुधार दिया जाएगा.

योगी सरकार के काम आए टिकैत

इस पूरे मामले में किसानों की नाराजगी चरम पहुंच गई. इससे राज्य की योगी सरकार के हाथ पांव फूल गए. दूसरी तरफ, विपक्षी नेताओं ने भी सरकार की नाक में दम कर दिया. ऐसे में राकेश टिकैत ही योगी सरकार के काम आए.

योगी सरकार ने प्रियंका गांधी से लेकर अखिलेश यादव को तो हिरासत में ले लिया, लेकिन राकेश टिकैत को लखीमपुरी खीरी के तुकिनिया के उस गुरुद्वारे जाने दिया, जहां चार मृतक किसानों के शव रखे हुए थे. किसान तब तक मृतकों का अंतिम संस्कार करने के लिए तैयार नहीं थे, जब तक केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा के खिलाफ मुकदमा और उनके बेटे आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी ना हो जाए.

सरकारी सूत्रों के मुताबिक, योगी सरकार ने ही राकेश टिकैत से संपर्क साधा था और किसानों को मृतकों का पोस्टमार्टम और दाह संस्कार करने के लिए मनाने का आग्रह किया था. राकेश टिकैत भी मान गए और उन्होंने मृतकों के परिजनों के साथ-साथ दूसरे प्रदर्शनकारी किसानों से बात की. जिसके बाद इस समझौते पर पहुंचा जा सका.


वीडियो- लखीमपुर जा रहीं प्रियंका को पुलिस ने रोका तो संविधान और कानून का पाठ पढ़ा दिया!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

कम मात्रा में ड्रग्स मिलने पर जेल न हो, इस मंत्रालय ने दिया NDPS एक्ट में बदलाव का सुझाव

कम मात्रा में ड्रग्स मिलने पर जेल न हो, इस मंत्रालय ने दिया NDPS एक्ट में बदलाव का सुझाव

कम मात्रा में ड्रग्स मिलने को अपराध की परिभाषा से अलग करने की मांग की.

UP: जौनपुर में सपा कार्यकर्ताओं में मारपीट, विधायक सहित 4 के खिलाफ केस दर्ज

UP: जौनपुर में सपा कार्यकर्ताओं में मारपीट, विधायक सहित 4 के खिलाफ केस दर्ज

मारपीट का वीडियो सोशल माडिया पर वायरल.

बर्थ-डे मनाने मैक्सिको गई हिमाचल की ट्रैवल ब्लॉगर की ड्रग माफिया के बीच हुई गोलीबारी में मौत

बर्थ-डे मनाने मैक्सिको गई हिमाचल की ट्रैवल ब्लॉगर की ड्रग माफिया के बीच हुई गोलीबारी में मौत

अमेरिका में रह रही थीं.

विंडीज़ की रिकॉर्ड हार में CSK को क्या क्रेडिट मिल गया?

विंडीज़ की रिकॉर्ड हार में CSK को क्या क्रेडिट मिल गया?

इंग्लैंड से हारकर क्या बोले पोलार्ड?

अबू धाबी में ये कैसी जगह में बैठ रहे हैं फ़ैन्स?

अबू धाबी में ये कैसी जगह में बैठ रहे हैं फ़ैन्स?

ये कैसी माया है!

NIA ने 'घी' का मतलब विस्फोटक निकाला, कोर्ट ने पूछा- किस आधार पर ये मतलब निकाला?

NIA ने 'घी' का मतलब विस्फोटक निकाला, कोर्ट ने पूछा- किस आधार पर ये मतलब निकाला?

कोर्ट ने टेरर फंडिंग के चार आरोपियों को बरी किया.

इंडिया को हराया तो कितने पैसे पाएगा पाकिस्तान?

इंडिया को हराया तो कितने पैसे पाएगा पाकिस्तान?

पैसा-पैसा, मिलेगा पैसा-पैसा.

भगत सिंह की किताब रखना गुनाह नहीं, ये कह कोर्ट ने आदिवासी बाप-बेटे को छोड़ा

भगत सिंह की किताब रखना गुनाह नहीं, ये कह कोर्ट ने आदिवासी बाप-बेटे को छोड़ा

नक्सलियों से संबंध के आरोप में पुलिस ने 12 साल पहले पकड़ा था, UAPA लगाया था.

पाकिस्तान से भिड़ने पर ये क्या बोल गए विराट कोहली?

पाकिस्तान से भिड़ने पर ये क्या बोल गए विराट कोहली?

कोहली ने हार्दिक पर भी कुछ कहा है.

उद्धव ठाकरे का तंज-महाराष्ट्र पुलिस ने हीरोइन नहीं हेरोइन पकड़ी, इसलिए पब्लिसिटी नहीं मिली

उद्धव ठाकरे का तंज-महाराष्ट्र पुलिस ने हीरोइन नहीं हेरोइन पकड़ी, इसलिए पब्लिसिटी नहीं मिली

कहां इन दिनों बस एक ही बात हो रही है- ड्रग्स,ड्रग्स और ड्रग्स.