Submit your post

Follow Us

वैक्सीन की कमी से कई राज्यों के सेंटरों पर लगे ताले, केंद्र सरकार का जवाब सुन लीजिए

कोविड के मोर्चे पर देश इस वक्त दोहरी मार झेल रहा है. एक तरफ कोरोना केसों में भारी उछाल आया है, दूसरी तरफ वैक्सीनेशन की मुहिम को भी झटका लगा है. कई राज्यों में वैक्सीन की पर्याप्त सप्लाई न हो पाने की बात सामने आ रही है. राज्यों ने इसे लेकर केंद्र सरकार से गुहार लगाई है. महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और झारखंड ने वैक्सीन की कमी का दावा किया है. उधर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने राज्यों पर इस तरह की बातें करके राजनीति करने का आरोप लगाया. हालांकि उन्होंने राज्यों को भरोसा दिलाया है कि वैक्सीन की कमी नहीं होने दी जाएगी.

मोदी के संसदीय क्षेत्र तक में वैक्सीन की कमी

कोरोना वैक्सीन की किल्लत का असर पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस में भी दिख रहा है. वैक्सीन की कमी के चलते यहां 66 सरकारी टीकाकरण केंद्रों में से बुधवार को सिर्फ 25 पर ही वैक्सीनेशन हुआ. जिले के वैक्सीन स्टोरेज सेंटर पर भी ताला लटका दिखा. वैक्सीन की कमी कब तक पूरी होगी, इस बारे में स्वास्थ्य विभाग को भी नहीं मालूम है.

वैक्सीन सेंटर चौकाघाट से वैक्सीन वितरण करने वाले स्वास्थ्य कर्मी श्यामजी प्रसाद ने बताया कि दो दिन से कोवैक्सीन और कोवीशिल्ड दोनों ही खत्म हैं. चौकाघाट राजकीय आयुर्वेदिक अस्पताल की एमएस प्रो. नीलम गुप्ता ने बताया कि वैक्सीन नहीं मिल पाने से वैक्सीनेशन रोकना पड़ा है. लोगों को वापस लौटाना पड़ा है. बनारस के डिस्ट्रिक्ट इम्यूनाइजेशन ऑफिसर डॉ. विजय शंकर राय ने बताया कि लखनऊ में भी वैक्सीन उपलब्ध नहीं है. इसलिए वैक्सीनेशन सेंटर कम करने का आदेश आया है.

यूपी में बनारस ही नहीं, गाजियाबाद और नोएडा में भी वैक्सीन की कमी के चलते वैक्सीनेशन के कई स्लॉट कैंसल कर दिए गए हैं. गाजियाबाद में मंगलवार को जहां 65 सेंटरों पर वैक्सीनेशन हुआ, वहीं बुधवार को सिर्फ 48 सेंटर ही टीके लगाए गए.

महाराष्ट्र, उड़ीसा, आंध्र प्रदेश में भी किल्लत

यही हाल दूसरे कई राज्यों का भी है. महाराष्ट्र में कोरोना केस तेजी से बढ़ रहे हैं. ऐसे में महाराष्ट्र के हेल्थ मिनिस्टर राजेश टोपे ने वैक्सीन की पर्याप्त सप्लाई न होने की बात कही. उन्होंने कहा कि-

हमारे टीकाकरण केंद्रों पर वैक्सीन का पर्याप्त स्टॉक नहीं है. टीका लगवाने आए लोगों को वापस लौटना पड़ रहा है. ज्यादातर केंद्र बंद करने पड़े हैं. हमने केंद्र से और वैक्सीन पहुंचाने की मांग की है. हमने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन के सामने मांग रखी है कि 20 से 40 साल तक के लोगों का भी टीकाकरण किया जाना चाहिए. हम अभी 4.5 लाख टीकाकरण कर रहे हैं, हमारा लक्ष्य हर दिन 6 लाख टीकाकरण का है. मेरी केंद्र से अपील है कि हमें वैक्सीन उपलब्ध कराई जाए.

मुंबई के मेयर किशोरी पेडनेकर ने कहा कि मंगलवार को हमारे पास 1,76,000 वैक्सीन का स्टॉक था, लेकिन हमें और ज्यादा स्टॉक जरूरत होगी.

आंध्र प्रदेश ने भी केंद्र को चिट्ठी लिखकर एक करोड़ वैक्सीन डोज़ की मांग की है. प्रदेश सरकार का कहना है कि उसके पास महज 3.7 लाख डोज बचे हैं जबकि राज्य में हर दिन 1.3 लाख वैक्सीन लगाई जा रही हैं. और नहीं मिले तो जल्दी ही राज्य में वैक्सीन का स्टॉक खत्म हो जाएगा.

ओडिशा ने भी केंद्र से तुरंत कोविशील्ड की 25 लाख डोज उपलब्ध कराने की मांग की है. राज्य के स्वास्थ्य मंत्री नाबा किशोर दास ने केंद्र को चिट्ठी लिखकर कहा है कि उनके पास जो स्टॉक मौजूद है, उससे सिर्फ दो दिन टीकाकरण हो सकता है. 9 अप्रैल को राज्य में वैक्सीन आउट ऑफ स्टॉक हो जाएगी.

झारखंड ने वैक्सीनेशन को रफ्तार देने के लिए 4 से 14 अप्रैल के बीच विशेष अभियान शुरू किया था, लेकिन वैक्सीन की कमी से ब्रेक लग गया. राज्य में दो दिनों में वैक्सीन का स्टॉक खत्म हो जाएगा. अधिकारी केंद्र से 9 और 10 अप्रैल को 1- 10 लाख वैक्सीन डोज़ मिलने की उम्मीद जता रहे हैं.

दिल्ली में आम आदमी पार्टी ने बुधवार को प्रदर्शन करते हुए दूसरे देशों को वैक्सीन भेजे जाने का विरोध किया. पार्टी का कहना है कि दूसरे देशों को सप्लाई से पहले अपने देश के लोगों को वैक्सीन मिलनी चाहिए.

हर्षवर्धन बोले- राजनीति कर रहे हैं राज्य

एक तरफ कई राज्य केंद्र सरकार के सामने वैक्सीन की कम सप्लाई पर सवाल उठा रहे हैं, वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन इसे ‘राजनीति’ और ‘ध्यान भटकाने वाला’ कदम बता रहे हैं. बुधवार को वह सबसे ज्यादा महाराष्ट्र, दिल्ली और पंजाब पर बरसे. उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर में सबसे ज्यादा मामले इन्हीं प्रदेशों से आ रहे हैं. वैक्सीनेशन की उम्र घटाने और वैक्सीन की कमी जैसी बातें करके ये कोरोना से निपटने के अपने कमजोर प्रयासों पर पर्दा डाल रहे हैं. हालांकि उन्होंने माना कि वैक्सीन की सप्लाई सीमित है. जब तक ऐसा रहेगा, उम्र के आधार पर प्राथमिकता देते हुए वैक्सीनेट करने के अलावा दूसरा विकल्प नहीं है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन.
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन कई राज्यों से वैक्सीनेशन की आयु सीमा कम करने की बातों को राजनीति से प्रेरित बताया है.

वैक्सीन बनाने वाली कंपनी का क्या कहना है?

कोविशील्ड वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला ने एक टीवी इंटरव्यू में कहा था कि हालात काफी तनावपूर्ण हैं. पूनावाला ने बताया कि फिलहाल कंपनी 6 करोड़ से 6.5 करोड़ डोज़ हर महीने बना रही है. अब तक हम 10 करोड़ डोज़ भारत सरकार को और 6 करोड़ डोज़ देश के बाहर सप्लाई कर चुके हैं. लेकिन हम अब भी हर उस भारतीय तक वैक्सीन पहुंचाने से पीछे हैं, जिसे इसकी जरूरत है. उन्होंने कहा कि अगर कंपनी को जून तक अपनी क्षमता बढ़ानी है तो इसके लिए 3000 करोड़ रुपए की जरूरत होगी. इसके लिए हमने केंद्र सरकार को लिखा है. वहां से मदद नहीं मिली तो लोन लेने जैसे दूसरे रास्ते खोजे जाएंगे.

बहरहाल, हालात को देखते हुए फिलहाल ऐसा लग रहा है कि आने वाले कुछ दिन वैक्सीनेशन के लिहाज से तनावपूर्ण रहने वाले हैं. इसका सबसे बड़ा कारण डिमांड और सप्लाई में दिख रहा साफ अंतर है.


वीडियो- वैक्सीन लगवाने बाद भी लोग कोरोना पॉजिटिव क्यों हो रहे हैं, पता चल गया!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अनिल देशमुख का महाराष्ट्र के गृह मंत्री पद से इस्तीफा, जानिए क्या कारण बताया है

अनिल देशमुख का महाराष्ट्र के गृह मंत्री पद से इस्तीफा, जानिए क्या कारण बताया है

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने उन पर गंभीर आरोप लगाए थे.

अमेरिकी संसद पर हमले के बारे में अब तक क्या-क्या पता चला है?

अमेरिकी संसद पर हमले के बारे में अब तक क्या-क्या पता चला है?

हमले में पुलिसवाले की मौत हो गई, हमलावर मारा गया.

यूपी पुलिस ने जिस हिस्ट्रीशीटर आबिद को गनर दिया है, वो है कौन?

यूपी पुलिस ने जिस हिस्ट्रीशीटर आबिद को गनर दिया है, वो है कौन?

आबिद पर आरोप है कि उसने अतीक के कहने पर अपनी बहन की हत्या करवाई थी.

मनसुख हिरेन मर्डर केस: NIA को मीठी नदी में कौन से अहम सुराग मिले हैं?

मनसुख हिरेन मर्डर केस: NIA को मीठी नदी में कौन से अहम सुराग मिले हैं?

आरोपी सचिन वाझे को लेकर नदी पहुंची थी जांच एजेंसी.

फिल्मी अंदाज में अस्पताल से भागने वाला गैंगस्टर कुलदीप फज्जा एनकाउंटर में मारा गया!

फिल्मी अंदाज में अस्पताल से भागने वाला गैंगस्टर कुलदीप फज्जा एनकाउंटर में मारा गया!

पुलिस की आंखों में मिर्च पाउडर फेंक कुलदीप को भगा ले गए थे उसके साथी.

सुशांत सिंह राजपूत की बहन के खिलाफ़ मुकदमा खारिज करने से सुप्रीम कोर्ट ने साफ़ इंकार कर दिया

सुशांत सिंह राजपूत की बहन के खिलाफ़ मुकदमा खारिज करने से सुप्रीम कोर्ट ने साफ़ इंकार कर दिया

सुशांत को गैरकानूनी दवाइयां देने के मामले में रिया चक्रवर्ती ने केस दर्ज करवाया था.

पंजाब से यूपी की जेल भेजा जाएगा मुख्तार अंसारी, SC में काम कर गई विजय माल्या वाली दलील!

पंजाब से यूपी की जेल भेजा जाएगा मुख्तार अंसारी, SC में काम कर गई विजय माल्या वाली दलील!

यूपी सरकार के बार-बार कहने पर भी मुख्तार को क्यों नहीं भेज रही थी पंजाब सरकार?

लॉकडाउन के दौरान लोन की EMI टाली थी तो ब्याज को लेकर सुप्रीम कोर्ट का ये फैसला पढ़ लीजिए

लॉकडाउन के दौरान लोन की EMI टाली थी तो ब्याज को लेकर सुप्रीम कोर्ट का ये फैसला पढ़ लीजिए

EMI टालने की छूट बढ़ाने और पूरा ब्याज माफ करने पर भी कोर्ट ने रुख साफ कर दिया है.

भारत में कोरोना की सेकेंड वेव पहले से भी ज्यादा खतरनाक?

भारत में कोरोना की सेकेंड वेव पहले से भी ज्यादा खतरनाक?

पिछले 24 घंटे में नवंबर 2020 के बाद अब सबसे ज़्यादा मामले आए हैं.

महाराष्ट्र के गृहमंत्री वसूली कर रहे या राज्य में सरकार गिराने की कोशिश चल रही?

महाराष्ट्र के गृहमंत्री वसूली कर रहे या राज्य में सरकार गिराने की कोशिश चल रही?

मनसुख हीरेन की मौत के बाद क्या सब चल रहा है?