Submit your post

Follow Us

मुख्य आर्थिक सलाहकार केवी सुब्रमण्यन ने भी इस्तीफा दिया, जाते-जाते पीएम मोदी के लिए कुछ कह गए

भारत सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार (CEA) केवी सुब्रमण्यन ने शुक्रवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया. उन्होंने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी. कहा कि 3 साल का कार्यकाल पूरा होने के बाद उन्होंने शिक्षा जगत में वापस लौटने का फैसला किया है. ये भी कहा कि इस पद पर रहते हुए उन्हें देश की सेवा करने ‘परम सौभाग्य’ मिला.

ट्वीट के साथ केवी सुब्रमण्यन ने अपना एक भी स्टेटमेंट जारी किया है. इसमें लिखा है,

भारत सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार के रूप में 3 साल का कार्यकाल पूरा होने के बाद मैंने शिक्षा जगत में वापस लौटने का फैसला किया है. मुझे राष्ट्र की सेवा करने का सौभाग्य मिला. हर दिन जब मैं नॉर्थ ब्लॉक में गया, तो मैंने अपनेआप को इस विशेषाधिकार की याद दिलाई. विशेषाधिकार के साथ आने वाली जिम्मेदारी के साथ न्याय करने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया.

बयान में सुब्रमण्यन ने आगे लिखा,

मुझे सरकार के अंदर से बहुत समर्थन मिला. सीनियर्स के साथ काम करने का मौका मिला. लगभग तीन दशक की अपने प्रोफेशनल लाइफ में मैंने पीएम नरेंद्र मोदी से ज्यादा इंस्पायरिंग नेता नहीं देखा. आर्थिक नीतियों को लेकर उनकी समझ शानदार है.

उनके इस्तीफे पर पीएम मोदी ने ट्वीट किया,

केवी सुब्रमण्यन के साथ काम करना एक खुशी की बात है. उनकी अकादमिक प्रतिभा, प्रमुख आर्थिक और नीतिगत मामलों पर अद्वितीय दृष्टिकोण और सुधारवादी उत्साह उल्लेखनीय है. आने वाले समय के लिए शुभकामनाएं.

आईआईटी कानपुर और आईआईएम कलकत्ता के पूर्व छात्र सुब्रमण्यम मुख्य आर्थिक सलाहकार से पहले इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस में प्रोफेसर थे. केवी सुब्रमण्यन को 2018 के अंत में CEA बनाया गया था. उनसे पहले मोदी सरकार के CEA थे अरविंद सुब्रमण्यम. उन्होंने जून 2018 में अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. अरविंद सुब्रमण्यन ने निजी कारणों को हवाला देते हुए ऐसा किया था. उनके इस्तीफे के 5 महीने बाद 7 दिसंबर 2018 को केवी सुब्रमण्यम देश के मुख्य आर्थिक सलाहकार बनाए गए थे.

अरविंद सुब्रमण्यम ने कार्यकाल पूरा होने से पहले ही ‘पारिवारिक प्रतिबद्धताओं’ का हवाला देते हुए पद छोड़ दिया था. वहीं, केवी सुब्रमण्यन अपना कार्यकाल पूरा करके ऐकडेमिक्स की तरफ वापस जा रहे हैं. मोदी सरकार की तरफ से अब तक अगले मुख्य आर्थिक सलाहकार का नाम सामने नहीं आया है.

 


खर्चा पानी: तेल के दाम पर ठंड और UPA को दोष दे रही मोदी सरकार की असली दिक़्क़त क्या है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

राजीव गांधी के हत्यारे को सुप्रीम कोर्ट ने रिहा किया, जानिए किस कानून का इस्तेमाल हुआ?

राजीव गांधी के हत्यारे को सुप्रीम कोर्ट ने रिहा किया, जानिए किस कानून का इस्तेमाल हुआ?

वो पेरारिवलन, जिसने राजीव गांधी की हत्या में इस्तेमाल जैकेट के लिए बैटरी सप्लाई की थी

सुप्रीम कोर्ट में बाबरी मस्जिद वाले जज सुनेंगे ज्ञानवापी मस्जिद वाला केस!

सुप्रीम कोर्ट में बाबरी मस्जिद वाले जज सुनेंगे ज्ञानवापी मस्जिद वाला केस!

मामला सुप्रीम कोर्ट क्यों गया?

LIC-IPO की लिस्टिंग पर लगी 42,500 करोड़ की चपत, अब क्या करें ?

LIC-IPO की लिस्टिंग पर लगी 42,500 करोड़ की चपत, अब क्या करें ?

ऑफर प्राइस से 8% नीचे लिस्ट हुआ देश का सबसे बड़ा IPO

मुंडका अग्निकांड: मृतकों का आंकड़ा 26 तक पहुंचा, बचाव के लिए NDRF को बुलाया गया

मुंडका अग्निकांड: मृतकों का आंकड़ा 26 तक पहुंचा, बचाव के लिए NDRF को बुलाया गया

इस घटना ने दिल्ली के लोगों को हिलाकर रख दिया है.

छत्तीसगढ़ के रायपुर एयरपोर्ट पर सरकारी हेलीकॉप्टर क्रैश, दो पायलटों की मौत

छत्तीसगढ़ के रायपुर एयरपोर्ट पर सरकारी हेलीकॉप्टर क्रैश, दो पायलटों की मौत

क्रैश का कारण अभी साफ नहीं हो सका है.

जम्मू-कश्मीर में एक और कश्मीरी पंडित की हत्या, आतंकियों ने सरकारी दफ्तर में घुसकर गोली मारी

जम्मू-कश्मीर में एक और कश्मीरी पंडित की हत्या, आतंकियों ने सरकारी दफ्तर में घुसकर गोली मारी

मृतक राहुल भट्ट राजस्व विभाग में कार्यरत थे.

क्या क्रिप्टो करंसी के बुरे दिन शुरू हो गए हैं ? छह महीने में आधी हो गईं कीमतें

क्या क्रिप्टो करंसी के बुरे दिन शुरू हो गए हैं ? छह महीने में आधी हो गईं कीमतें

30% इनकम टैक्स के बाद अब 28% जीएसटी लगाने की तैयारी

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल मीटिंग में पीएम मोदी ने नाम ले-लेकर सुनाया.

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

जानकारों ने जहांगीरपुरी में निकले जुलूस पर सवाल उठाए हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

मौजूदा आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवणे के रिटायर्ड होने पर पदभार संभालेंगे.