Submit your post

Follow Us

राजौरी गार्डन हार के बाद AAP को अगली बुरी खबर कुमार विश्वास से मिलेगी!

दिल्ली की राजौरी गार्डन विधानसभा सीट से उपचुनाव लड़ने वाले ‘आप’ कैंडिडेट हरजीत सिंह की जमानत जब्त हो गई. 13 अप्रैल को आए नतीजे में हरजीत तीसरे नंबर पर रहे. इस सीट पर पिछला चुनाव ‘आप’ के टिकट पर ही जरनैल सिंह ने जीता था, लेकिन पंजाब विधानसभा चुनाव में पार्टी ने उन्हें परकाश सिंह बादल के खिलाफ चुनाव लड़ने भेज दिया. उपचुनाव की हार-जीत पर सभी पार्टियों की तरफ से प्रत्याशित टिप्पणियां आई हैं, लेकिन जिस शख्स पर सबसे ज्यादा गौर किए जाने की जरूरत है, वह हैं कुमार विश्वास.

जिस वक्त AAP राजौरी गार्डन की हार का दुख मना रही थी, कुमार विश्वास एक शेर ट्वीट कर रहे थे:

3

 

बाद में कभी कुमार कह सकते हैं कि यह सिर्फ एक शेर है और इसके राजनीतिक अर्थ नहीं हैं. लेकिन इस ट्वीट की ‘टाइमिंग’ ने उन सुगबुगाहटों को उर्वरक दे दिया है, जो पंजाब चुनावों के समय से जारी हैं. AAP के टॉप-5 नेताओं में शुमार कुमार विश्वास तभी से पार्टी से नाराज दिख रहे हैं. और इस बार यह सूत्रों के हवाले से आने वाली विशुद्ध पतंगबाजी नहीं है. खुद उनकी पिछली गतिविधियां इस ओर संकेत कर रही हैं. 

अगला सवाल है कि अगर कुमार नाराज हैं तो क्यों नाराज हैं?

कहानी शुरू हुई थी पंजाब से

ये मई 2016 था, जब AAP ने पंजाब में  नशाखोरी के खिलाफ अपना चुनावी कैंपेन लॉन्च किया. एक वीडियो बनाया गया- जिसका टाइटल था ‘केवी नशा’. यह कुमार विश्वास का एक गीत था, जिसमें नशाखोरी और बादल सरकार पर सीधे हमले किए गए. इसी वीडियो की वजह से कुमार पर बादल ने केस तक दर्ज करा दिया था.

इसके तीन महीने बाद ही कुमार ने पंजाब में एक सभा संबोधित करते हुए जरनैल सिंह भिंडरावाले को ‘भस्मासुर’ करार दिया. आतंकवादी को आतंकवादी या भस्मासुर कहने में कोई बुराई नहीं है, लेकिन पंजाब के राजनीतिक समीकरण इसकी इजाजत नहीं देते. परिणाम ये निकला कि कुमार की क्लिप सोशल मीडिया से लेकर वॉट्सऐप तक वायरल हो गई और फिर उन्हें माफी भी मांगनी पड़ी. देखिए माफी का वीडियो:

इसके बाद से कुमार पंजाब चुनाव में कहीं भी ‘आप’ का प्रचार करते नहीं दिखे. पार्टी ने उन्हें पंजाब, गोवा या यूपी, कहीं भी स्टार प्रचारक तक नहीं बनाया, जबकि कुमार ‘आप’ में सबसे ज्यादा भीड़ और तालियां बटोरने वाले नेताओं में से हैं. 2013 और 2015 के चुनावों में उन्होंने खूब सभाएं की थीं. लेकिन अब वह MCD चुनाव की तस्वीर से भी बाहर हैं. आप याद करिए कि आखिरी बार बतौर प्रवक्ता पार्टी का पक्ष रखते, टीवी चैनलों को बाइट देते आपने उन्हें कब देखा था. न वह पार्टी के बारे में कुछ कह रहे हैं और न पार्टी उनके बारे में कुछ कह रही है.

कार्यकर्ताओं तक को री-ट्वीट करने वाला नेता अब हाईकमान से भी दूर

कुमार विश्वास का ट्विटर हैंडल खंगालिए. अपने कवि सम्मेलनों, पार्टी गतिविधियों और टिप्पणियों के प्रचार के लिए यही माध्यम चुनने वाले कुमार का ट्विटर इस्तेमाल करने का तरीका बदल गया है. पहले वह ‘आप’ के जमीनी कार्यकर्ताओं से लेकर पार्टी सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल और पार्टी हैंडल को री-ट्वीट करते रहते थे, लेकिन महीनेभर से उन्होंने यह बंद कर दिया है. ‘आप’ से जुड़ा उनका आखिरी ट्वीट 15 मार्च का है.

2

ऐसा भी नहीं है कि कुमार राजनीति से दूर हो रहे हैं. राजनीतिक मुद्दों और विवादों पर वह पहले से कहीं बेबाकी से अपनी राय रख रहे हैं, लेकिन अब वह पार्टी लाइन पर नहीं हैं. वह अलवर में गो-गुंडों का विरोध करते हैं, तो योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनने पर बधाई भी देते हैं. वह संसद के सामने नंगे होकर प्रदर्शन कर रहे किसानों का समर्थन करते हैं, तो प्रेमी जोड़े के कमरे में घुसने वालों की लानत-मलानत भी करते हैं. सोशल मीडिया की रोजमर्रा की लड़ाई में कभी ‘आप’ के ‘योद्धा’ रहे कुमार अब उससे दूर हैैंं और अधिक स्वतंत्र रूप से विचार रख रहे हैं.

4

कुमार दोस्ताना मिजाज वाले शख्स हैं. आम आदमी पार्टी के नंबर-2 मनीष सिसोदिया उनके बचपन के दोस्त हैं. शायद मित्रता की वजह से ही वह फिलहाल चुप्पी साधे हुए हैं. चुनाव बाद शायद उन्हें मनाने की कोशिश भी की जाए. लेकिन इस बीच सोनू निगम से अपनी दोस्ती के सहारे वो इंडियन आइडल के मंच पर हो आए और क्रिकेटर सुरेश रैना से पार्टी मांग ली. 

5

पहले भी आई हैं बीजेपी में जाने की खबरें, पर यह अलग है

कुमार विश्वास के बारे में पहले कई बार ऐसी अफवाहें उड़ चुकी हैं कि वह बीजेपी में शामिल हो रहे हैं. वह बीजेपी के लिए निस्संदेह एक आदर्श संभावना हैं. उन पर बीजेपी के लिए सॉफ्ट कॉर्नर रखने का आरोप भी लगता है. कुमार ने हमेशा खुद को एक भावनात्मक और बेबाक शख्स के तौर पर पेश किया है. न तो वह पार्टी को इंडोर्स कर रहे हैं और न पार्टी उन्हें इंडोर्स कर रही है. उल्टा कुमार इशारों-इशारों में पार्टी और आलाकमान को नसीहत देते दिख जाते हैं.

6

कुमार की असहमतियों को पार्टी में पहले भी जगह मिलती रही है. लेकिन इस बार दो घटनाओं ने कुछ सुगबुगाहटों को हवा दे दी है.

मनोज तिवारी और अवनीश अवस्थी का कद बढ़ना

एक कार्यक्रम में मनोज तिवारी और कुमार विश्वास
एक कार्यक्रम में मनोज तिवारी और कुमार विश्वास

सिंगर से नेता बने मनोज तिवारी और कुमार अच्छे दोस्त हैं. दिल्ली बीजेपी का अध्यक्ष बनाए जाने के से मनोज का कद काफी बढ़ा है.  मनोज लोकसभा चुनावों के समय भी उन्हें बीजेपी में आने का प्रस्ताव दे चुके हैं. दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश है, जहां योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद नवनीत सहगल को हटाकर अवनीश अवस्थी को प्रधान सचिव बनाया गया है. अवनीश लोकगायिका मालिनी अवस्थी के पति हैं. पिछले साल पद्मश्री जीत चुकीं मालिनी से विश्वास की अच्छी दोस्ती है.

विश्वास के दूर होने का नुकसान ‘आप’ को

8

अगर कुमार ‘आप’ से दूर होते हैं, तो इसका ज्यादा नुकसान पार्टी को ही होगा. कुमार के पास अच्छी-खासी फैन-फॉलोइंग है. बोलने के लिए उनके पास इतना कुछ होता है कि मंच पर वह कई घंटे आसानी से निकाल सकते हैं. वह बिलाशक भीड़ जुटाने वाले वक्ता हैं.

एक कार्यक्रम में कुमार विश्वास
एक कार्यक्रम में कुमार विश्वास

इस पूरे मामले पर देखिए दी लल्लनटॉप के एडिटर सौरभ द्विवेदी और उनके साथ कुलदीप सरदार का वीडियो:

<p>

</p>


ये भी पढ़ें:

कुमार विश्वास के वो जोक्स जिन पर पब्लिक आज भी तालियां बजाती नहीं थकती

कुमार विश्वास और चेतन भगत के बीच बातों की जूतमपैजार

इन वीडियोज के वायरल होने से डर रहे कुमार विश्वास

ट्विटर पर कुमार विश्वास और रिजिजू के बीच ‘भभ्भड़’ मच लिया!

लो सुन लो कुमार विश्वास को

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

औरतों के काम करने को लेकर तालिबान ने अब कौन सी अजीब शर्त रख दी?

औरतों के काम करने को लेकर तालिबान ने अब कौन सी अजीब शर्त रख दी?

काबुल के मेयर पुराना आदेश बदलने की जो वजह बताई, वो उनकी सोच बताती है.

IT डिपार्टमेंट के चार दिन चले 'सर्वे' के बाद सोनू सूद ने पहली बार क्या कहा?

IT डिपार्टमेंट के चार दिन चले 'सर्वे' के बाद सोनू सूद ने पहली बार क्या कहा?

'पिछले चार दिनों से मैं अपने घर आए कुछ मेहमानों को अटेंड करने में लगा हुआ था' - सोनू सूद.

यूपी विधानसभा अध्यक्ष ने कम कपड़ों पर महात्मा गांधी की तुलना राखी सावंत से कर दी, अब दे रहे सफाई

यूपी विधानसभा अध्यक्ष ने कम कपड़ों पर महात्मा गांधी की तुलना राखी सावंत से कर दी, अब दे रहे सफाई

इससे पहले AAP के विधायक ने सिद्धू को 'पंजाब की राखी सावंत' बता दिया था.

चेन्नई से हारकर बड़ी बात बोल गए मुंबई के कप्तान पोलार्ड

चेन्नई से हारकर बड़ी बात बोल गए मुंबई के कप्तान पोलार्ड

पोलार्ड ने किसके सर फोड़ा हार का ठीकरा?

मुंबई को पीटकर धोनी ने अंबाती रायुडु की फिटनेस पर दी बड़ी अपडेट

मुंबई को पीटकर धोनी ने अंबाती रायुडु की फिटनेस पर दी बड़ी अपडेट

रुतुराज और ब्रावो पर भी बोले थला.

ऐसी शुरुआत के बाद तो सिर्फ चेन्नई ही मुंबई को हरा सकती है!

ऐसी शुरुआत के बाद तो सिर्फ चेन्नई ही मुंबई को हरा सकती है!

कमाल है धोनी की टीम!

एमएस धोनी ने सिर्फ तीन रन बनाकर क्या रिकॉर्ड बना दिया?

एमएस धोनी ने सिर्फ तीन रन बनाकर क्या रिकॉर्ड बना दिया?

वक्त ने खुद को दोहरा दिया.

विकेट के पीछे से महेंद्र सिंह धोनी के एक फैसले ने कैसे पलटा गेम?

विकेट के पीछे से महेंद्र सिंह धोनी के एक फैसले ने कैसे पलटा गेम?

फिर चला 'धोनी रिव्यू सिस्टम'

मुंबई की बैटिंग शुरू होने से पहले ही तय हो गया था मैच का रिजल्ट?

मुंबई की बैटिंग शुरू होने से पहले ही तय हो गया था मैच का रिजल्ट?

रुतुराज ने तय कर दी थी CSK की जीत.

विराट कोहली ने अब कहां की कप्तानी छोड़ दी?

विराट कोहली ने अब कहां की कप्तानी छोड़ दी?

धोनी के मैच में विराट क्यों ट्रेंड कर गए.