Submit your post

Follow Us

ये नेपोमीटर क्या है, जो बता देगा कि किसी फिल्म से जुड़े कितने लोग रिश्तेदारी के कनेक्शन से आए हैं

एक्टर सुशांत सिंह राजपूत. 34 बरस के थे. 14 जून को मुंबई के अपने घर पर सुसाइड कर लिया. जांच चल रही है. इधर सोशल मीडिया पर लोग सुसाइड का कारण बॉलीवुड में पसरे नेपोटिज़म (भाई-भतीजावाद) को बता रहे हैं. इंडस्ट्री के बड़े-बड़े लोगों पर भयंकर आरोप लग रहे हैं. इन सबके बीच अब सुशांत के परिवार की तरफ से भी नेपोटिज़म पर कुछ बोला गया है और एक नया अविष्कार भी किया गया है. क्या अविष्कार? नेपोमीटर.

सुशांत की बहन श्वेता कीर्ति के पति, यानी सुशांत के जीजू विशाल कीर्ति ने ट्विटर पर इसकी जानकारी दी. उन्होंने 25 जून को नेपोमीटर की पहली झलक शेयर करते हुए लिखा,

‘मेरे भाई मयुरेश कृष्णा ने मेरी पत्नी के भाई सुशांत सिंह राजपूत की याद में नेपोमीटर बनाया है.’

इस ट्वीट के साथ उन्होंने नेपोमीटर के ट्विटर हैंडल से हुए पोस्ट को भी शेयर किया. जिस पर लिखा था,

‘जानकारी के साथ बॉलीवुड के नेपोटिज़म से लड़ना है. फिल्म का क्रू कितना नेपोस्टिक है या कितना स्वतंत्र है, इसके आधार पर हम फिल्मों को रेटिंग देंगे और आप तक ये रेटिंग पहुंचाएंगे. अगर नेपोमीटर हाई यानी चढ़ा हुआ आता है, तो बॉलीवुड की नेपोटिज़म वाली फिल्म का बहिष्कार (बॉयकॉट) करना होगा और नेपोटिज़म से लड़ना होगा.’

इस ट्वीट के साथ नेपोमीटर की एक तस्वीर भी शेयर की. जिस पर लिखा है,

‘जल्द आ रहा है नेपोमीटर. जो ये बताएगा कि बॉलीवुड की फिल्म या टीवी कितनी नेपोस्टिक है और कितनी स्वतंत्र है.’

क्या है नेपोमीटर?

‘दी लल्लनटॉप’ ने मयुरेश कीर्ति का फेसबुक अकाउंट भी चेक किया. जहां उन्होंने नेपोमीटर को लेकर और जानकारी दी है. जिससे ये पता चला कि नेपोमीटर एक वेबसाइट/ऐप है, जो अपने बल पर आगे बढ़ने वाले कलाकारों की मदद के लिए बनाया जा रहा है.

ये ऐप किसी भी अपकमिंग फिल्म का एनालिसिस करके बताएगा कि फिल्म कितने फीसद नेपोस्टिक है. आसान भाषा में कहें तो फिल्म में कितने लोग ऐसे हैं, जिनका बॉलीवुड से पहले से कोई नाता है. कितनों के रिश्तेदार पहले से इंडस्ट्री में मौजूद हैं? इन सब बातों की जानकारी नेपोमीटर लोगों को देगा.

इसके अलावा ये भी बताएगा कि फिल्म में कितने फीसद इंडिपेंडेंट कलाकार हैं. इंडिपेंडेंट फिल्म, यानी जिनमें नेपोटिज़म का बोलबाला नहीं होगा, उसका नोटिफिकेशन नेपोमीटर लोगों तक पहुंचाएगा. जिन फिल्मों में नेपोटिज़म की भरमार होगी, यानी नेपोमीटर का पारा चढ़ा हुआ होगा, उनका बहिष्कार (बॉयकॉट) करने की अपील की जाएगी.

क्या वेबसाइट/ऐप बन गया?

नहीं. अभी तक पूरा बना नहीं है. बनने की प्रक्रिया में है. नेपोमीटर के लिए अलग से इंस्टाग्राम, ट्विटर और फेसबुक अकाउंट बना दिया गया है. वेबसाइट भी बन गई है, लेकिन उस पर ‘कमिंग सून’ यानी जल्द आने वाला है, लिखा हुआ है.

थोड़ी बात नेपोमीटर के लोगो पर

नेपोमीटर के लोगो में धरती, तारे, सैटेलाइट वगैरह दिख रहे हैं. अंतरिक्ष का फील आ रहा है. शायद ये इस बात को ध्यान में रखकर बनाया गया है कि सुशांत खुद अंतरिक्ष से जुड़ी बातों में दिलचस्पी रखते थे. सितारों के बारे में जानने का उनका मन था और वो खुद कभी एस्ट्रोनॉट बनना चाहते थे.

मयुरेश ने और क्या मैसेज दिया?

नेपोमीटर की जानकारी देते हुए फेसबुक पर मयुरेश ने सुशांत के लिए इमोशनल पोस्ट डाला. उनकी तस्वीर के साथ. लिखा,

‘हम सब सुशांत के लिए न्याय चाहते हैं. हम चाहते हैं कि हर कोई इसकी मांग करे. बॉलीवुड का अंधेरा पहलू सामने आ गया है. कुछ लोग इंडिपेंडेंट कलाकारों को पेरशान करते हैं, उनका फायदा लेते हैं. इस पर अब कोई ठोस एक्शन लेने का वक्त है. मुझे डर है कि लोगों के अंदर जो गुस्सा है, वो कुछ हफ्तों में कम न हो जाए. हम सबने चेंज डॉट org की पेटिशन पर साइन किया है. ये एकता दिखाती है कि हम बॉलीवुड में पसरे नेपोटिज़म को बदलना चाहते हैं. मेरे हिसाब से इसके लिए हमें उन फिल्मों का, जिनमें इंडिपेंडेंट कलाकार न हों, सपोर्ट नहीं करना चाहिए.’

कुछ नमूने भी डाले

भले ही नेपोमीटर ने अभी काम करना शुरू नहीं किया है, लेकिन तैयारी चल रही है. नेपोमीटर के ट्विटर हैंडल से एक तस्वीर 28 जून को पोस्ट की गई थी. पूछा गया था कि नेपोमीटर का नोटिफिकेशन कैसे दिखना चाहिए. तीन तरह की तस्वीरें थीं. नंबर दिया था- एक, दो और तीन. तीनों में nepometer शब्द लिखने का तरीका अलग-अलग था. लोगों से पूछा गया था कि किस शैली को प्राथमिकता दी जाए.

नेपोमीटर कब लॉन्च होगा, ये अभी पता नहीं है. लेकिन लोगों के रिएक्शन से लग रहा है कि इसका इंतज़ार बेसब्री से हो रहा है.


वीडियो देखें: 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

'कोरोनिल' पर पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण पूरी तरह यू-टर्न मार गए!

पतंजलि का दावा था कि 'कोरोनिल' दवा कोरोना वायरस ठीक करने में कारगर होगी.

चीन के ऐप तो बैन हो गए, पर उन भारतीयों का क्या जो इनमें काम करते हैं

चीनी ऐप के कर्मचारियों में घबराहट है.

चीनी ऐप पर बैन के बाद चीन ने भारत के बारे में क्या बयान दिया है?

भारत को कैसी जिम्मेदारी याद दिलाई चीन ने?

लगभग 16 मिनट के राष्ट्र के नाम संदेश में नरेंद्र मोदी ने क्या काम की बात की?

संदेश का सार यहां पढ़िए.

भारत सरकार के चाइनीज़ ऐप बंद करने के स्टेप पर TikTok ने चिट्ठी में क्या लिखा?

अपने यूज़र्स के बारे में भी कुछ कहा है.

PM CARES के तहत बने देसी वेंटिलेटर इस हाल में मिले कि लौटाने की नौबत आ गई

और ख़राब वेंटिलेटर बनाने वालों ने क्या सफ़ाई दी?

भारत में चीन के 59 मोबाइल ऐप बैन, टिकटॉक, यूसी, वीचैट भी लपेटे में

कहा कि देश की सुरक्षा की ख़ातिर इन्हें बैन किया जा रहा है.

गैंगस्टर आनंदपाल एनकाउंटर के बाद हुई हिंसा के लिए CBI ने चार्जशीट में किस-किस का नाम जोड़ा है?

एनकाउंटर की सीबीआई जांच की मांग को लेकर हिंसा हुई थी.

क्या अरुणाचल में चीन भारतीय सीमा में 50 किलोमीटर तक घुस गया है?

बीजेपी सांसद ने यह दावा किया है.

पतंजलि का कोरोनिल लॉन्च करने वाले डॉक्टर ने दवा की सबसे बड़ी गड़बड़ी बता दी!

मरीज़ों को केवल कोरोनिल नहीं दी गई थी.