Submit your post

Follow Us

क्या केरल बाढ़ का पैसा सही हाथों में पहुंचा रहा है पेटीएम?

केरल में बाढ़ ने काफी तबाही मचा रखी है. केरल के साथ पूरा देश परेशान है. जो जिस तरह मदद कर सकता है, कर रहा है. मुख्यमंत्री राहत कोष और बहुत सारे NGO के अलावा और भी कई स्वयंसेवी समूह बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं. ऐसे में पेटीएम ने केरल फ्लड के नाम से पैसे डोनेट करने की पहल शुरू की है. यहां से आप जितना भी मन हो, पैसे दान कर सकते हैं. लेकिन हममें से ऐसे बहुत से लोग हैं जो ऐसे प्राइवेट ऐप को पैसे देने से हिचकिचाते हैं. उन्हें लगता है कि उनका पैसा असल पीड़ित तक नहीं पहुंच पाएगा या कंपनी सहायता के नाम पर उनके पैसे ठग लेगी. अगर आपके मन में भी ऐसे विचार आए हैं, तो आप अकेले नहीं हैं. ऐसी शंकाएं इसलिए भी हो रही हैं, क्योंकि पेटीएम ने अपने ऐप पर टर्म्स एंड कंडीशंस रसीद ना देने की भी बात लिखी है.

तो फिर क्या लोग मदद नहीं करेंगे. करेंगे, क्योंकि उनकी शंकाओं का समाधान करने के लिए हमने पेटीएम के कस्टमर केयर अधिकारी से बात की है और जानने की कोशिश की है कि आखिर ये पैसा बाढ़ पीड़ितों तक पहुंचता कैसे है? और पैसे डोनेट करने वाला ये कैसे मान ले कि उसका पैसा सही आदमी तक पहुंच गया है.

 

पेटीएम के रसीद ना देने के कारण कुछ लोग इस पहल पर सवाल उठा रहा हैं.
पेटीएम के रसीद ना देने के कारण कुछ लोग इस पहल पर सवाल उठा रहा हैं.

पेटम के सीईओ विजय शेखर भी इस मामले को खुद मॉनिटर कर रहे हैं. पेटीएम ऐप के जरिए जो भी मदद की जा रही है, उसका हिसाब वो खुद भी रख रहे हैं. अभी तक पेटीएम के जरिए कुल 10 करोड़ रुपये से ज्यादा की सहायता राशि जुटा ली गई है. विजय शेखर ने ट्वीट कर सारी आशंकाओं को खारिज़ किया है.

 उन्होंने बताया है कि ये ऐप सीधे मुख्यमंत्री राहत कोष से जुड़ा हुआ है. इस वजह से जो भी पैसा पेटीएम के जरिए दान करता है, वो पेटीएम के पास न जाकर सीधे मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा हो जाता है. बीच में किसी धोखाधड़ी का कोई चांस ही नहीं बनता है.

क्या पेटीएम केरल बाढ़ का पैसा सही हाथों में पहुंचा रहा है?

केरल के मौजूदा हालात पर हमने वहां के रेवेन्यू एडिशनल चीफ सेक्रेटरी पीएच कुरियन से बात की. उन्होंने बताया कि केरल को देश भर से सहायता और सहानुभूति मिल रही है. बहुत सारे लोग स्वयंसेवा कर रहे हैं. सरकार ने भी पर्याप्त मात्रा में राशन, मेडिकल हेल्प और हेलीकॉप्टर आदि दिए हैं. इन सब के बावजूद हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं. मौसम विभाग ने बारिश की चेतावनी जारी कर रखी है और सरकार हाई अलर्ट पर है. पैसे को सही हाथों में पहुंचने की बात पर उन्होनें कहा कि ऐसे हालात में कोई बेईमानी करने की बात नहीं सोच सकता.


ये भी पढ़ें:

केरल में 94 साल में सबसे भयंकर बाढ़ के पीछे वजह क्या है?

वीडियो: केरल की बाढ़ में इस बच्चे को बचाने कोई फरिश्ता आया था

कहानी उस चेन्नई महानगर की, जहां हर साल बारिश अपने साथ मौतें भी लाती है

जब केरल के एक पादरी ने इमरजेंसी के समय इंदिरा को फटकार लगाई थी


केरल की बाढ़ और अटल बिहारी वाजपेयी के राजनीतिक किस्से |दी लल्लनटॉप शो| Episode 25

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

गोरखपुर कचहरी में युवक की हत्या करने वाले के बारे में पुलिस ने क्या बताया?

गोरखपुर कचहरी में युवक की हत्या करने वाले के बारे में पुलिस ने क्या बताया?

मृतक व्यक्ति पर नाबालिग से बलात्कार का आरोप था.

5जी नेटवर्क कैसे बन गया हवाई जहाज़ के लिए खतरा?

5जी नेटवर्क कैसे बन गया हवाई जहाज़ के लिए खतरा?

5G के रोल आउट को लेकर दिक्कतें चालू.

गाड़ी का इंश्योरेंस कराने वालों को दिल्ली हाई कोर्ट का ये आदेश जान लेना चाहिए

गाड़ी का इंश्योरेंस कराने वालों को दिल्ली हाई कोर्ट का ये आदेश जान लेना चाहिए

बीमा कंपनी गाड़ी चोरी या दुर्घटनाग्रस्त होने का बहाना बनाए तो ये आदेश दिखा देना.

राजस्थान पुलिस अलवर गैंगरेप की जांच सड़क हादसे के ऐंगल से क्यों कर रही है?

राजस्थान पुलिस अलवर गैंगरेप की जांच सड़क हादसे के ऐंगल से क्यों कर रही है?

दबी जुबान में क्या कह रही है पुलिस?

बजट में FD को लेकर बैंकों की ये बात मानी गई तो आप और सरकार दोनों की मौज आ जाएगी!

बजट में FD को लेकर बैंकों की ये बात मानी गई तो आप और सरकार दोनों की मौज आ जाएगी!

जानेंगे बैंक FD में क्यों घट रही है लोगों की दिलचस्पी.

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

तौकीर रजा कांग्रेस पर आरोप लगा चुके हैं कि उसने मुसलमानों पर आतंकी का टैग लगाया.

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

जानिए UPA के समय हुई इस डील ने कैसे देश को शर्मसार किया.

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

बीबीसी का आरोप, टीम के साथ नरसिंहानंद के समर्थकों ने गाली-गलौज और धक्का-मुक्की की.

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

मुख्य आरोपी के साथ उसके दोस्तों को पुलिस ने पकड़ लिया है.

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

पार्टी के इस कदम से आहत हरक सिंह रावत मीडिया के सामने भावुक हो गए.