Submit your post

Follow Us

200 रुपए उधार लिए, बिना चुकाए अपने देश चला गया, सांसद बना, अब 30 साल बाद लौटकर चुकाया

5
शेयर्स

अफ्रीका में एक देश है केन्या. भारत से लगभग पांच हजार किलोमीटर दूर. बात लगभग 30 साल पहले की है. यहां का एक लड़का पढ़ने के लिए भारत आया. महाराष्ट्र के औरंगाबाद के एक कॉलेज में एडमिशन लिया और वानखेड़े नगर में रहने लगा. पढ़ाई के दौरान अक्सर लोग पैसे की कमी से जूझते रहते हैं. सभी तो नहीं लेकिन ज्यादातर स्टूडेंट्स को घर से मिलने वाला पैसा कम पड़ ही जाता है. ये लड़का भी पैसे की कमी से जूझ रहा था. अनजान देश में उसने पड़ोस में रहने वाले एक व्यक्ति से उधारी में सामान लेना शुरू किया. जब पैसे होते थे तो दे देते थे, नहीं होते थे तो नहीं देते थे. पढ़ाई खत्म हो गई और यह लड़का अपने देश वापस लौट गया.

वक्त का पहिया घूमा. केन्या से मुंबई आया लड़का केन्या लौट कर सांसद बन गया. इस लड़के का नाम रिचर्ड टोंगी है. अब आप कहेंगे कि हम आपको 30 साल पुरानी कहानी क्यों सुना रहे हैं. तो इसके पीछे एक बहुत ही खास वजह है.

200 रुपए उधार देने वाले काशीनाथ गवली के परिवार के साथ केन्या के सांसद और उनकी पत्नी.
200 रुपए उधार देने वाले काशीनाथ गवली के परिवार के साथ केन्या के सांसद और उनकी पत्नी.

आज की तारीख में पैसे को लेकर एक कहावत है, हर चीज़ से दोस्ती कर लो, लेकिन पैसे से नहीं. ऐसा क्यों. क्योंकि लोग पैसा लेकर अक्सर भूल जाते हैं. ऐसा ज्यादातर केस में होता ही है. लेकिन रिचर्ड टोंगी के साथ ऐसा नहीं है.

सांसद रिचर्ड टोंगी की पत्नी का शानदार स्वागत किया गया.

हाल ही में एक डेलिगेशन के साथ रिचर्ड भारत के दौरे पर थे. उन्होंने पीएम मोदी से मुलाकात की. इसके बाद उस जगह पहुंचे जहां उन्होंने कॉलेज के दिन बिताए थे. वह उधार देने वाले 70 वर्षीय काशीनाथ गवली को ढूंढने लगे.

सांसद रिचर्ड टोंगी ने काशीनाथ के परिवार के साथ खाना खाया.
सांसद रिचर्ड टोंगी ने काशीनाथ के परिवार के साथ खाना खाया.

लगभग दो घंटे बाद लोगों से पूछ-पूछ कर गवली के दरवाजे पर दस्तक दी. गवली ने दरवाजा खोला. सामने एक अजनबी विदेशी शख्स खड़ा था. यादें धुंधली हो गई थीं. इसलिए गवली टोंगी को पहचान नहीं पाए. टोंगी ने अपना परिचय दिया. बताया कि आपने मुझे 200 रुपए उधार दिए थे, उस समय जब मैं यहां रहता था. वही लौटाने आया हूं. इतना सुनते ही गवली की यादें ताजा हो गईं. उन्होंने इस विदेशी मेहमान का घर में स्वागत किया. खाना खिलाया. 30 साल पहले के उन लम्हों को याद किया.

रिचर्ड अपनी पत्नी के साथ आए थे. उन्होंने कहा-

मेरे लिये यह एक भावुक यात्रा थी. जब मैं गवली से मिला तो उनकी आंखें छलक उठीं. औरंगाबाद में जब मैं पढ़ाई कर रहा था तब मेरी स्थिति ठीक नहीं थी, तब इन लोगों (गवली परिवार) ने मेरी मदद की. मैंने सोचा था कि जरूर वापस आऊंगा और कर्ज लौटाऊंगा. मैं उन्हें शुक्रिया अदा करना चाहता था. यह मेरे लिये भावुक पल था. ईश्वर गवली और उनके बच्चों का भला करे. उन्होंने मेरा स्वागत किया. मुझे भोजन कराने के लिये होटल ले जाना चाहते थे, लेकिन मैंने उनके घर पर ही भोजन करने पर ज़ोर दिया.

औरंगाबाद से जाते वक्त केन्या के सांसद ने गवली काका को अपने देश आने का न्योता दिया. कहावत है कि जब आप किसी को पैसे उधार देते हैं तो आप या तो पैसा खो देते हैं या एक नया दुश्मन पैदा कर लेते हैं. लेकिन रिचर्ड के मामले में ऐसा नहीं था. उन्होंने इस बात को तवज्जो दी कि जो पैसा लिया है उसे किसी भी हालत में लौटाना है. और 30 साल बाद उन्होंने ये पैसा लौटा दिया.


गोवा में कांग्रेस के 15 में से 10 विधायक बीजेपी में शामिल हो गए हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Kenya MP Richard Tongi returns rs 200 debt after 30 years to Aurangabad’s Kashinath Gawli

टॉप खबर

भाजपा विधायक की बेटी ने दलित से शादी की तो बाप ने मरवाने के लिए गुंडे भेज दिए!

पति और पत्नी भागे-भागे वीडियो बना रहे हैं.

एक महीने से छात्र धरने पर हैं, किसी को परवाह नहीं

ये खबर हर स्टूडेंट को पढ़नी चाहिए.

बजट में सरकार ने अमीरों पर बंपर टैक्स लगाया

पेट्रोल-डीज़ल पर एक रुपया अतिरिक्त लेगी सरकार.

राहुल गांधी के पत्र की चार ख़ास बातें, तीसरी वाली में सारे देश की दिलचस्पी है

आज राहुल गांधी ने आखिरकार इस्तीफा दे ही दिया.

आकाश विजयवर्गीय पर मोदी बहुत नाराज़ हुए, उतना ही जितना साध्वी प्रज्ञा पर हुए थे!

"अफ़सोस! दिल से माफ़ नहीं कर पाएंगे."

नुसरत जहां के खिलाफ़ जिस फतवे पर बवाल मचा, वैसा फ़तवा जारी ही नहीं हुआ

निखिल से शादी के बाद सिन्दूर-साड़ी में संसद पहुंची थीं नुसरत

क्या ज़ायरा ने इस्लाम के लिए फ़िल्म लाइन छोड़ दी?

जिन चीज़ों से रील लाइफ में लड़कर सुपर स्टार बनीं, निजी ज़िंदगी में वो लड़ाई ही छोड़ दी है.

मायावती ने गठबंधन क्या तोड़ा, खुद की लुटिया ही डुबो ली है

गठबंधन तोड़कर अखिलेश और माया चवन्नी भर सीटें भी नहीं जीत रहे हैं.

खट्टर सरकार रेपिस्ट बाबा की जेल से छुट्टी का समर्थन कर रही, लेकिन जानिए ऐसा होना संभव क्यूं नहीं

जेल से छुट्टी क्यों चाह रहा है बलात्कारी बाबा राम रहीम?

चमकी बुखार में जिनके बच्चे मरे, उन्होंने विरोध किया तो केस दर्ज हो गया

बिहार में एक दो नहीं पूरे 39 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है.