Submit your post

Follow Us

कर्नाटकः इस्तीफे की घोषणा के बाद बीएस येदियुरप्पा ने रोते हुए क्या-क्या कहा?

कर्नाटक की राजनीति में चल रही खींचतान के एक अध्याय का सोमवार 26 जुलाई को पटाक्षेप हो गया. सीएम बीएस येदियुरप्पा ने पद से इस्तीफा दे दिया. इस्तीफे की घोषणा के बाद वह सीधे राज्यपाल थावर चंद्र गहलोत के निवास पर पहुंचे, और उन्हें इस्तीफा सौंप दिया. राज्यपाल ने इस्तीफा स्वीकार कर लिया है. इस्तीफे की घोषणा येदियुरप्पा ने अपनी सरकार के 2 साल पूरे होने के एक कार्यक्रम में की. इस दौरान भाषण देते हुए वह काफी भावुक नजर आए.

‘मेरी तो हमेशा अग्निपरीक्षा रही है’

येदियुरप्पा के इस्तीफे के कयास कई दिनों से लगाए जा रहे थे. वह खुद भी इसके संकेत दे रहे थे. हालांकि शायद ही किसी ने सोचा होगा कि अपनी सरकार के 2 साल पूरे होने पर वह इस्तीफे का ऐलान करेंगे. कार्यक्रम में येदियुरप्पा ने कर्नाटक में पिछले 78 साल में बीजेपी के उभार की चर्चा की. भाषण देते-देते वह रोने लगे. उन्होंने भावुक होते हुए कहा कि-

“जब अटल बिहारी वायपेयी प्रधानमंत्री थे तो उन्होंने मुझसे केंद्र में मंत्री बनने के लिए कहा था. लेकिन मैंने कहा कि नहीं मैं तो कर्नाटक में ही रहूंगा. मेरी तो हमेशा ही अग्निपरीक्षा रही है. पिछले 2 साल कोविड 19 से लड़ते हुए गुजरे हैं.”

मोदी और शाह को दिया धन्यवाद

येदियुरप्पा अपने भाषण में पीएम मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का शुक्रिया अदा करते नजर आए. उन्होंने इस्तीफा देने के बाद राज्य की जनता को धन्यवाद देते हुए ट्वीट किया-

“पिछले 2 साल राज्य की सेवा करना मेरे लिए सम्मान की बात है. मैंने कर्नाटक के चीफ मिनिस्टर पद से इस्तीफा देने का फैसला लिया है. मैं राज्य की जनता को धन्यवाद देता हूं कि उन्होंने मुझे सेवा का मौका दिया.”

इस्तीफा देने के बाद येदियुरप्पा ने दावा किया कि उनके ऊपर किसी भी तरह का दबाव नहीं हैं. इस्तीफा देने का फैसला उन्होंने अपनी मर्जी से किया है, ताकि कोई दूसरा सीएम की कुर्सी पर बैठ सके. उन्होंने कहा कि वह अगले इलेक्शन में फिर से बीजेपी को सत्ता में लाने का प्रयास करेंगे.उन्होंने यह भी बताया कि उन्होंने किसी का नाम अपने उत्तराधिकारी के तौर पर नहीं दिया है. जो भी सीएम की कुर्सी पर बैठेगा, उसे 100 फीसदी समर्थन दिया जाएगा.

2020 से ही येदियुरप्पा हैं मुश्किलों में

बीएस येदियुरप्पा पिछले साल से ही विवादों में बने हुए हैं. इसकी शुरुआत 2020 में विधानसभाओं में फंड आवंटन को लेकर हुई एक इंटरनल मीटिंग से हुई थी. कुछ बीजेपी विधायकों ने येदियुरप्पा के खिलाफ बातें कही थीं. इसके बाद, कैबिनेट विस्तार को लेकर भी कुछ विधायक बागी मूड में आ गए. जून में बीजेपी विधायक बसनगौड़ा यत्नाल ने पंचामशाली लिंगायतों को आरक्षण के मुद्दे पर येदियुरप्पा को घेरा. इनके अलावा, कई मंत्री और विधायक कोविड मैनेजमेंट को लेकर भी सीएम पर सवाल उठा चुके हैं.

यही नहीं, साल 2018 में जब येदियुरप्पा को सीएम बनाया जा रहा था, तब भी उनका बढ़ती उम्र को लेकर विरोध हुआ था. हालांकि बीजेपी ने इस विरोध को नजरअंदाज कर दिया था. बता दें कि 2018 में शपथग्रहण के बाद फ्लोर टेस्ट से ऐन पहले येदियुरप्पा को इस्तीफा देना पड़ा था. तब जेडीएस और कांग्रेस ने मिलकर सरकार बनाई थी, और एचडी कुमारस्वामी सीएम बने थे. हालांकि कुछ समय बाद ही दोनों पार्टियों के कुछ विधायक बीजेपी में शामिल हो गए. इसका नतीजा ये हुआ कि 26 जुलाई 2019 को 78 साल के येदियुरप्पा को चौथी बार सीएम पद की शपथ दिला दी गई.

कर्नाटक की राजनीति में 2018 का साल काफी नाटकीय रहा था. एचडी कुमारस्वामी के सीएम बनने के कुछ दिन बाद ही उनकी पार्टी में फूट पड़ गई और कुछ विधायक बीजेपी में शामिल हो गए. येदियुरप्पा फिर सीएम बन गए.
कर्नाटक की राजनीति में 2018 का साल काफी नाटकीय रहा था. पहले येदियुरप्पा सीएम बने लेकिन फ्लोर टेस्ट से पहले ही उन्हें इस्तीफा देना पड़ा. एचडी कुमारस्वामी के सीएम बनने के कुछ दिन बाद ही बाजी पलटी, और येदियुरप्पा फिर सीएम बन गए थे.

मार्च के महीने में कर्नाटक के ग्रामीण विकास मंत्री केएस ईश्वरप्पा ने ही येदियुरप्पा के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था. उन्होंने राज्यपाल से मुलाकात करके आरोप लगाया था कि सीएम येदियुरप्पा उनकी सहमति और मंजूरी के बिना ही उनके मंत्रालय से जुड़े तमाम अहम फैसले ले रहे हैं. ईश्वरप्पा के अलावा विधायक बसनगौड़ा यत्नाल भी सार्वजनिक तौर पर येदियुरप्पा को हटाने की मांग कर चुके हैं.

इस घमासान के चलते कर्नाटक की सियासत को लेकर लंबे वक्त से अटकलें लगाई जा रही थीं. हाल ही में येदियुरप्पा ने नई दिल्ली आकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की थी. तभी ये बात कही जा रही थी कि येदियुरप्पा अब अपना पद छोड़ सकते हैं.

लिंगायत मठाधीश भी काम नहीं आए

बीएस येदियुरप्पा कर्नाटक के लिंगायत समुदाय से आते हैं. जब उन्हें हटाए जाने के लिए दबाव बढ़ने लगा था तो लिंगायत समुदाय के जरिए दबाव बनाने की कोशिश की गई. राज्य के सबसे प्रभावशाली लिंगायत समुदाय के मठाधीशों ने बैठक करके येदियुरप्पा को हटाने की कोशिशों का विरोध जताया. उन्होंने बैठक में फैसला लिया कि यदि येदियुरप्पा को पद से हटाया गया तो आंदोलन किया जाएगा.

बैठक के बाद लिंगेश्वर मंदिर के मठाधीश शरनबासवलिंगा ने कहा था कि कर्नाटक में चुनाव कैसे जीते जाते हैं, यह दिल्ली के लोगों को नहीं पता है. राज्य में येदियुरप्पा ने भाजपा की सरकार बनाई है इसलिए अब उन्हें हटाना भाजपा को बड़े कष्ट में डाल सकता है. माना जाता है कि कर्नाटक राज्य की कुल आबादी में लिंगायत समुदाय की क़रीब 17 प्रतिशत की हिस्सेदारी है. हालांकि ये कवायद भी काम नहीं आई और येदियुरप्पा को अब इस्तीफा देने के लिए मजबूर होना पड़ा.

बीजेपी ने अब नया सीएम चुनने की प्रक्रिया शुरू कर दी है. सूत्रों के मुताबिक, बीजेपी जल्द ही कर्नाटक के लिए ऑब्जर्वर के नाम तय करेगी. ये ऑब्जर्वर अगले 1-2 दिन में राज्य का दौरा करेंगे. इसके बाद हफ्ते के आखिर तक राज्य के नए चीफ मिनिस्टर के नाम पर फैसला हो सकता है. तब तक येदियुरप्पा ही कार्यवाहक सीएम बने रहेंगे.


वीडियो – कर्नाटक में सीएम बीएस येदियुरप्पा की कुर्सी को खतरा क्यों है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

राज कुंद्रा ने 121 कथित पॉर्न वीडियोज़ की इंटरनेशनल डील की, जिसकी कीमत हैरान कर देती है

राज कुंद्रा ने 121 कथित पॉर्न वीडियोज़ की इंटरनेशनल डील की, जिसकी कीमत हैरान कर देती है

ये वीडियोज़ इतनी महंगी बिकने वाली थीं, इसका उनमें काम करने वालों को अंदाज़ा भी नहीं होगा.

तस्वीरों में: महाराष्ट्र में भारी बारिश से बाढ़ के हालात, पानी बसों की छत तक पहुंचा

तस्वीरों में: महाराष्ट्र में भारी बारिश से बाढ़ के हालात, पानी बसों की छत तक पहुंचा

ठाणे, रत्नागिरी, यवतमाल समेत राज्य के इलाकों में हालात बदतर होते दिख रहे हैं.

संसद: TMC सांसद ने मंत्री के हाथ से पेपर छीनकर फाड़े, लेकिन हरदीप पुरी पर क्या आरोप लगे?

संसद: TMC सांसद ने मंत्री के हाथ से पेपर छीनकर फाड़े, लेकिन हरदीप पुरी पर क्या आरोप लगे?

TMC सांसद पर क्या कार्रवाई की तैयारी कर रही सरकार?

बंगाल: क्या सुवेंदु अधिकारी ने जाने-अनजाने फोन टैपिंग का सच बता दिया है?

बंगाल: क्या सुवेंदु अधिकारी ने जाने-अनजाने फोन टैपिंग का सच बता दिया है?

बंगाल के IPS अधिकारी को चेतावनी देने के चक्कर में सुवेंदु अधिकारी बड़ी बात कह गए.

मुंबई में बारिश से बड़ा हादसा, चेंबूर में दीवार गिरने से 17 की मौत

मुंबई में बारिश से बड़ा हादसा, चेंबूर में दीवार गिरने से 17 की मौत

विक्रोली में भी 6 की मौत, पीएम ने दुख जताया, मुआवजे की घोषणा की.

टी-सीरीज़ वाले भूषण कुमार पर रेप का आरोप लगा, मुंबई में रिपोर्ट दर्ज

टी-सीरीज़ वाले भूषण कुमार पर रेप का आरोप लगा, मुंबई में रिपोर्ट दर्ज

मुंबई के डीएन थाने में तीस साल की महिला ने रिपोर्ट दर्ज कराई.

अफगानिस्तान में भारतीय पत्रकार दानिश सिद्दीकी की हत्या, तालिबान ने किया था हमला

अफगानिस्तान में भारतीय पत्रकार दानिश सिद्दीकी की हत्या, तालिबान ने किया था हमला

दानिश सिद्दीकी अपनी तस्वीरों के लिए फेमस थे, 2018 में Pulitzer अवार्ड भी मिला था.

MP के विदिशा में 30 से ज्यादा लोग कुएं में गिरे, 4 की मौत, 13 लापता, 19 बचाए गए

MP के विदिशा में 30 से ज्यादा लोग कुएं में गिरे, 4 की मौत, 13 लापता, 19 बचाए गए

बच्चा कुएं में गिरा, तो बड़ी संख्या में ग्रामीण कुएं की छत पर चढ़ गए थे.

'नदिया के पार' जैसी बड़ी फ़िल्मों में काम कर चुकीं एक्ट्रेस सविता बजाज की हताशा,

'नदिया के पार' जैसी बड़ी फ़िल्मों में काम कर चुकीं एक्ट्रेस सविता बजाज की हताशा, "मेरा गला घोंट दो"

इलाज के लिए पैसे नहीं हैं.

PM मोदी ने वाराणसी में जिस रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर का उद्घाटन किया, वो है क्या?

PM मोदी ने वाराणसी में जिस रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर का उद्घाटन किया, वो है क्या?

योगी सरकार के लिए क्या बोले PM?