Submit your post

Follow Us

कांवड़ियों पर 'पुष्पवर्षा' के लिए किराए पर आए हेलिकॉप्टर पर तगड़ा खर्च आया

1.35 K
शेयर्स

सावन का महीना चल रहा है. भोले के भक्त विभिन्न रूपों में उन्हें प्रसन्न करने निकले हैं. पुलिस प्रशासन भी मुस्तैद है. कहा जा रहा है कि उत्तर प्रदेश सरकार ने सीमा से बाहर जाकर इंतजाम किए. भोले को प्रसन्न करने की आस लिए भक्तों को प्रसन्न करने के लिए मेरठ जोन के एडीजी प्रशांत कुमार ने भी हवाई निरीक्षण किया. लेकिन अब उनकी छीछालेदर हो रही है. क्योंकि उन्होंने ड्यूटी पर रहते हुए कांवड़ियों पर फूल बरसाए. वो भी सरकारी खर्चे पर लिए हेलिकॉप्टर से. और इस हेलिकॉप्टर के लिए उनके डिपार्टमेंट ने 14.31 लाख रुपए खर्च किए हैं.

इकॉनमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक यूपी सरकार ने मेरठ और नजदीकी जिलों में हवा से नजर रखने के लिए किराए पर हेलिकॉप्टर लिया. स्टेट के गृह विभाग की ओर से 4 तारीख को ये आदेश जारी हुआ था. 7 से 9 अगस्त तक सतर्क निगरानी करने के लिए ये कवायद की जा रही थी. एयर चार्टर सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड से 14.31 लाख रुपये पर हेलिकॉप्टर लिया गया. उसी हेलिकॉप्टर से मेरठ जोन के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक यानी एडीजी प्रशांत कुमार ने फूल बरसाए.

एडीजी प्रशांत कुमार के साथ दूसरे अफसर भी नजर आए
एडीजी प्रशांत कुमार के साथ दूसरे अफसर भी नजर आए

जिस डिपार्टमेंट में हेलिकॉप्टर किराए पर लेने को कहा था उसने कांवड़ियों पर पुष्पवर्षा का आदेश नहीं दिया था. ऐसा कोई स्पष्ट निर्देश अब तक सामने आया नहीं है. जब एडीजी साहब के सामने मीडिया वाले दनादन माइक घुसेड़ने लगे तो उन्होंने जवाब भी दिया. न्यूज एजेंसी ANI को बताया कि इसके धार्मिक एंगल न दिया जाए. लोगों का स्वागत करने के लिए फूलों का इस्तेमाल किया गया. शासन प्रशासन तो सभी धर्मों का सम्मान करता है और हम गुरुपर्व, ईद बकरीद, जैन त्योहार सबमें हिस्सा लेते हैं.

ये थी खबर और उस पर एडीजी की सफाई. और अब सवाल. कि पुलिस की ड्यूटी व्यवस्था दुरुस्त कराना है या ड्यूटी के दौरान अपनी आस्था साबित करना. एडीजी ने फूल बरसाए, कुछ पुलिस अफसर लोग कांवड़ियों की सेवा करते भी दिखे. सवाल ये उठता है कि उनको इसकी जरूरत कैसे पड़ गई. घायलों को पट्टी वट्टी करने का काम डॉक्टर्स का है. रास्तों में शिविर लगे रहते हैं, जिनमें लोकल लोग और कांवड़ियों के साथी पूरा खयाल रखते हैं. पुलिस का काम व्यवस्था संभालना है. कि आम जनता की वजह से कांवड़ियों को या कांवड़ियों की वजह से आम जनता को दिक्कत न हो.

शामली पुलिस का ट्वीट गौर करने लायक है. उन्होंने अपने जिले में आ रहे कांवड़ियों को पंपलेट बांटे. जिसमें कांवड़ियों को क्या करना है और क्या नहीं करना- दोनों साफ लिखा था. अगर वो इसका पालन नहीं करते हैं तो मनवाना किसकी जिम्मेदारी है? जाहिर है पुलिस की.

कांवड़ियों ने अगर पुलिस के निर्देशों का पालन किया होता तो कार उलटने वाला वीडियो या ये वीडियो देखने को नहीं मिलते.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Kanwar yatra 2018: ADG Prashant Kumar from meerut zone showers rose petals on kanwariyas from chopper hired at rs 14.31 lakh

क्या चल रहा है?

रिकी पोंटिग की इस बात से विराट कोहली के चेहरे पर चवन्नी मुस्कान आ जाएगी

2019 वर्ल्ड कप में जीत का फॉर्म्युला बता दिया.

भारत की सर्जिकल स्ट्राइक 3.0 को हमसे क्यों छुपाया गया?

पूरे 15 दिनों तक चले इस ऑपरेशन की सबसे ख़ास बातें जानिए!

'मैं लाशों के बीच लेटा था और आतंकी को लगा मैं भी मर गया और वो आगे चला गया'

न्यूजीलैंड में मस्जिद पर हमले के प्रत्यक्षदर्शी ने बताई आपबीती.

अगर आतंकी अपने इन मंसूबों में भी कामयाब हो जाता तो दुनिया दहल जाती

2 साल से हमले की तैयारी कर रहा था, एक दिन में 49 को मारा, मंसूबे और भी खतरनाक थे.

न्यूज़ीलैंड हमले में बाल-बाल बची बांग्लादेशी टीम ने क्या कहा?

4 मिनट पहले अगर मस्ज़िद पहुंच जाते तो..

EVM को लेकर ये नया बवंडर क्या है?

जानिए VVPAT को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा है...

न्यूजीलैंड में हमला करने वाले आतंकी ने खुद बताया, क्यों उन्हीं दो मस्जिदों को चुना?

निशाने पर एक और मस्जिद भी थी. पूरी प्लानिंग कर रखी थी.

ढाई मिनट में पचास से ज्यादा गालियां देने वाले विधायक को सपा ने फिर दिया टिकट

कौन-से कद्दावर नेता पश्चिमी उत्तर प्रदेश में सपा की नैया पार लगाएंगे?

इंडिया के शोएब अख्तर और ब्रेट ली के बारे में एक और बुरी खबर आई है

अंडर-19 वर्ल्ड कप के बाद से दोनों के सितारे गर्दिश में हैं.