Submit your post

Follow Us

कानपुर: BJP MLA ने पुलिस पर लगाया दलित की हत्या का आरोप, पीछे भागते दिखे एसपी

उत्तर प्रदेश के कानपुर में दो पक्षों के बीच हुई मारपीट में एक बुजुर्ग की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई. दोनों पक्षों में जमकर ईंट-पत्थर भी चले जिसमें आधा दर्जन लोगों के घायल होने की खबर है. मृतक बुजुर्ग के परिजनों का आरोप है कि पुलिस के सामने हमलावर पत्थर चलाते रहे.

पुलिस की मौजूदगी में पथराव का आरोप

मामला कानपुर आउटर के चौबेपुर इलाके का है. यहां एक मोहल्ले में पड़ोसियों के बीच हुए विवाद में एक दलित बुजुर्ग की मौत हो गई. इंडिया टुडे से जुड़े पत्रकार रंजय सिंह की रिपोर्ट के मुताबिक मृतक के परिजनों का आरोप है कि पड़ोसी किशन और राजन द्विवेदी ने अपने परिजनों के साथ दलित परिवार के घर हमला किया था. इसमें बुजुर्ग आनंद की मौत हो गई और घर की दो महिलाएं घायल हो गईं.

परिजनों के मुताबिक हमलावरों ने पहले पथराव किया और फिर घर का दरवाजा तोड़कर घर के अंदर घुस आए. घर में मौजूद बुजुर्ग और महिलाओं को पीटने लगे. पीड़ित परिवार का आरोप है कि जब ये सब हो रहा था उस समय पुलिस मौके पर मौजूद थी, लेकिन किसी ने बचाने की कोशिश नहीं की. आरोप है कि इस वजह से बुजुर्ग की मौत हो गई और दो महिलाएं घायल हो गईं.

रंजय सिंह की रिपोर्ट के मुताबिक मृतक की बहू संगीता ने बताया,

राजन और किशन ने लड़कों के साथ मेरे घर पर हमला किया. जिसमें बाबूजी की मौत हो गई. घर में घुसकर मारा. पुलिस को सूचना दी थी. पुलिस सामने खड़ी थी. उसके सामने मेरे घर पर पत्थर चल रहे थे. लेकिन पुलिस ने रोका नहीं.

विधायक ने पुलिस पर लगाए आरोप

दलित बुजुर्ग की हत्या के बाद स्थानीय बीजेपी विधायक भगवती सागर मौके पर पहुंचे तो पीड़ित परिवार ने विधायक और एसपी के सामने शरीर पर पीटे जाने के निशान दिखाए. इसके बाद विधायक भगवती सागर का गुस्सा पुलिसकर्मियों पर उतरा. उन्होंने हत्याकांड में पुलिसकर्मियों की मिलीभगत का आरोप लगा दिया. कहा कि पुलिस पीड़ित परिवार को ही थाने लेकर चली आई.

सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी वायरल है. इसमें विधायक घटनास्थल से आगे-आगे चलते दिख रहे हैं और पीछे से एसपी अष्टभुजा सिंह उन्हें मनाने की कोशिश कर रहे हैं.

पीड़ित परिवार से मुलाकात के बाद विधायक भगवती सागर ने कहा,

दलित परिवार की ओर से एक साल पहले केस दर्ज हुआ था. लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की. रात को जो हत्या हुई है ये दरोगा और सिपाहियों ने मिलकर कराई है. जबकि ऊपर के एसपी अष्टभुजा और हमारे सीएम दोनों ठीक हैं.

वहीं एसपी अष्टभुजा सिंह ने बताया कि लापरवाही बरतने के आरोप में दो दरोगा लाइन हाजिर कर दिए गए हैं. उन्होंने कहा,

रात को दो पक्षों में लड़ाई हुई थी. पहले पुलिस कम थी. बाद में ज्यादा संख्या में आई. लापरवाही बरतने के आरोप में दो दरोगा लाइन हाजिर कर दिए गए हैं. मृतक की ओर से FIR भी दर्ज कराई गई है. आरोपियों को जल्द गिरफ्तार कर लेंगे.


आर्यन केस के फ़रार गवाह केपी गोसावी ने फोन पर जो कहा वो आपको हैरान कर देगा!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.