Submit your post

Follow Us

कमलेश तिवारी की मां, पत्नी और बेटा UP पुलिस पर भड़क गए

कमलेश तिवारी हत्याकांड में दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी हो गई है. गुजरात एटीएस ने श्यामलाजी के पास से दोनों को गिरफ्तार किया है. आरोपियों के नाम अशफाक और मोइनुद्दीन हैं. रिपोर्ट्स के मुताबिक, दोनों ने अपना नाम बदलकर लखनऊ में कमलेश से मुलाकात की थी. अशफाक रोहित बना था, मोइनुद्दीन ने संजय नाम रखा था.

आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद कमलेश का परिवार गुजरात एटीएस की कार्रवाई से तो संतुष्ट है, लेकिन यूपी पुलिस की कार्रवाई से नाराज है. कमलेश के बेटे का कहना है,

‘गिरफ्तारी हो गई है. हम चाहते हैं कि दोनों को फांसी की सजा हो. गुजरात एटीएस के ऐक्शन से संतुष्टि मिली. लेकिन यूपी पुलिस ने ठीक से काम नहीं किया. हमसे कहा गया कि आईजी लेवल की जांच हो रही है. जिस दिन उन्हें मारा गया था, उस दिन पुलिस ने लापरवाही की. एसएसपी और थाने ने पूरी लापरवाही की. भाई और मां पर लाठीचार्ज किया था. उन्हें मारा था. पोस्टमॉर्टम के बाद बॉडी नहीं दे रहे थे. तो सर ये सारी लापरवाही पुलिस ने की. हम मांग कर रहे हैं कि SSP के खिलाफ कार्रवाई हो. सीतापुर प्रशासन को हम धन्यवाद कहना चाहते हैं. उन्होंने हमारा साथ दिया.’

कमलेश की पत्नी ने कहा,

‘लखनऊ पुलिस, लखनऊ प्रशासन ने हमारे साथ बदतमीजी की है. हमारे परिवार के साथ में. हमारे छोटे बेटे को नाका पुलिस ने धकेल दिया था. लाठीचार्ज करने के बाद किसी ने माफी भी नहीं मांगी.’

कमलेश तिवारी की मां कुसुम तिवारी ने भी गुजरात एटीएस को धन्यवाद कहा, लेकिन लखनऊ पुलिस से नाराजगी जाहिर की. उन्होंने कहा,

‘हां, गुजरात पुलिस से संतुष्ट हैं. लेकिन यूपी पुलिस ने हमारे साथ कुछ नहीं किया है. कुछ नहीं कर रही है. और खासकर के नाके थाने की पुलिस ने, हम बयान नहीं कर सकते कितना दंडित किया है. हमको हमारे बेटे की लाश नहीं दे रहे थे. और जहां पर लाश रखी हो, उनके दो-दो बेटे वहां हो, परिवार के बाकी सदस्य हो, पत्नी हो, वहां हमको बुलाने की क्या जरूरत थी. मैं जब सीएम योगी आदित्यनाथ से मिली, तब भी मैंने पुलिस को लेकर बहुत शिकायत की. मीडिया में भी बार-बार ये मुद्दा उठा रही हूं. लेकिन मीडिया उतना दिखाती नहीं है, जितना पूछकर जाती है. हम कार्रवाई से संतुष्ट तो हैं, लेकिन पूरी तरह से नहीं.’

कमलेश तिवारी की हत्या के बाद यूपी डीजीपी ओपी सिंह ने कहा था कि पुलिस के डर से ही हत्यारे भागे थे. और गुजरात पहुंचे थे. इस पर कुसुम ने कहा,

‘भागने ही क्यों दिया. दिन का काम था. 11 बजे दिन में मर्डर हुआ है. क्यों भागने दिया? उनकी खबर आग की तरह फैली, तो कैसे गुजरात पहुंच गए. भागने कैसे दिया. क्या विदेश भेजना चाहते थे?’

इसके पहले कुसुम तिवारी पीएम नरेंद्र मोदी से भी नाराजगी जाहिर की थी. वो अपने बेटे की अस्थियां प्रवाहित करने बनारस गई थीं. जहां उनसे पूछा गया था कि वो अभी पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र में हैं, कुछ कहना चाहेंगी कि उन तक बात पहुंच सके. इस सवाल पर उन्होंने कहा था, ‘अरे मोदी जी क्या शंकर जी हैं? हम भोले बाबा के दरबार में आए हैं. मोदी जी हमारे भगवान हैं क्या? मैं मोदी जी से कतई संतुष्ट नहीं हूं.’


वीडियो देखें:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कोरोना वायरस की वजह से गेंद स्विंग नहीं करा पाएंगे भारतीय गेंदबाज़!

भुवी की बात से तो ऐसा ही लग रहा है.

इरफान पठान ने जो कहर ढाया है, वो देखकर ग्रेग चैपल को मैदान भर में दौड़ाने का मन करेगा!

पठान में अब भी दम बाकी है.

एंटी-CAA प्रोटेस्ट को उकसाने के आरोप में कपल गिरफ्तार, पुलिस ने कहा- ISIS से लिंक हो सकता है

दिल्ली के शाहीन बाग में 15 दिसंबर से प्रोटेस्ट चल रहा है.

सबसे ज्यादा रणजी मैच और सबसे ज्यादा रन, इस खिलाड़ी ने 24 साल बाद लिया संन्यास

42 की उम्र तक खेलते रहे, अब बल्ला टांगा.

लखनऊ में CAA विरोधी प्रदर्शन के दौरान 'तोड़फोड़ करने वाले' 57 लोगों के होर्डिंग लगाए

होर्डिंग पर पूर्व IPS एसआर दारापुरी और कांग्रेस कार्यकर्ता सदफ ज़फर जैसे लोगों का नाम.

दिल्ली दंगे के 'हिन्दू पीड़ितों' की मदद के लिए कपिल मिश्रा ने जुटाये 71 लाख, खुद एक पईसा नहीं दिया

अब भी कह रहे हैं, 'आप धर्म को बचाइये, धर्म आपको बचायेगा'

कांग्रेस सांसद का आरोप : अमित शाह का इस्तीफा मांगा, तो संसद में मुझ पर हमला कर दिया गया

कांग्रेस सांसद ने कहा, 'मैं दलित महिला हूं, इसलिए?'

निर्भया केस: चार दोषियों की फांसी से एक दिन पहले कोर्ट ने क्या कहा?

राष्ट्रपति ने पवन गुप्ता की दया याचिका खारिज कर दी है.

कश्मीर : हथियारों के फर्जी लाइसेंस बनवाने वाला IAS अधिकारी कैसे धरा गया?

हर लाइसेंस पर 8-10 लाख रूपए लेता था!

गृहमंत्री अमित शाह की रैली में आई भीड़ ने लगाया देश के गद्दारों को गोली मारो... का नारा!

ये नारा डरावना है, उससे भी डरावना है इसका गृहमंत्री की रैली में लगाया जाना.