Submit your post

Follow Us

जनता खेले सट्टा, मंत्री जी प्लीज माइंड द गैप

भारतीय क्रिकेट में सुधार के लिए जस्टिस लोढ़ा कमेटी ने सुप्रीम कोर्ट में अपनी रिपोर्ट सौंप दी है. सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस लोढ़ा कमेटी 2013 के IPL में स्पॉट फिक्सिंग और सट्टेबाजी की जांच के लिए बनाई थी.  उन्होंने इंडिया में क्रिकेट गवर्निंग बॉडीज के स्ट्रक्चर से जुड़ी कई बड़ी सिफारिशें की हैं. उन्होंने IPL के COO सुंदर रमण को क्लीन चिट दे दी है. साथ ही ये कहा है कि गवर्नेंस और मैनेजमेंट को अलग-अलग रखा जाना चाहिए.

इस कमेटी के हिसाब से BCCI की मदद के लिए तीन अथॉरिटीज होंगी. 

एक लोकपाल: जो अंदरूनी मामले देखेगा, BCCI और उसके अंदर के झगड़े निपटाएगा. ये सुप्रीम कोर्ट का रिटायर्ड जज या हाईकोर्ट का कोई रिटायर्ड चीफ जस्टिस होगा.
दूसरा एथिक्स ऑफिसर: हार्ई कोर्ट का कोई पूर्व जज. जिसका काम हितों के टकराव पर फैसला देना होगा. ये धांधली, भ्रष्टाचार और बुरे व्यवहार पर नजर रखेगा.
और तीसरा निर्वाचन अधिकारी: जो चुनाव से जुड़े काम देखेगा,वोटर लिस्ट तैयार करेगा. इसे चुनाव के कुछ हफ़्तों के पहले नॉमिनेट किया जाएगा.

ये हैं जस्टिस लोढ़ा कमेटी की सिफारिशें

1. देश में सट्टेबाजी को कानूनी मान्यता दी जाए. खिलाड़ियों और ऑफिशियल्स को छोड़कर बाकी लोगों को रजिस्टर्ड वेबसाइट्स पर सट्टा लगाने की परमिशन दी जानी चाहिए.

2. IPL और BCCI के लिए अलग गवर्निंग काउंसिल बनाई जाए. और BCCI को RTI के अंदर लाया जाए.

3. BCCI की देखरेख के लिए CEO नियुक्त हो. BCCI प्रेसिडेंट, वाइस प्रेसिडेंट, सेक्रेटरी, ज्वाइंट सेक्रेटरी और ट्रेजरर की एलिजिबिलिटी का एक पैमाना तय हो.

4. इस पोस्ट पर सिर्फ भारतीय हों, उनकी उम्र 70 साल से कम हो, कोई मंत्री या सरकारी एम्प्लॉई न हो और लगातार नौ साल तक BCCI में किसी पोस्ट पर न रहा हो.

5. IPL की गवर्निंग काउंसिल में 8 सदस्य हों.

6. एक शख्स को एक ही पद मिलेगा. साथ ही स्टेट एसोसिएशन में भी सिर्फ पूर्व क्रिकेटर होंगे,कोई नेता-नपाड़ी न होगा .

7. प्रॉक्सी वोटिंग नहीं की जाएगी.

8. कोई भी दो साल से ज्यादा समय तक प्रेसिडेंट की कुर्सी पर नहीं रहेगा. बाकी के अधिकारी भी ज्यादा से ज्यादा 3 साल रहेंगे.

9. किसी ऑफिस बियरर को लगातार दो कार्यकाल नहीं मिलेंगे.

10. पूर्व गह सचिव GK पिल्लई की अगुवाई में स्टीयरिंग कमेटी बने. इसमें मोहिंदर अमरनाथ, डायना एडुल्जी और अनिल कुंबले मेंबर हों.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

सरकार ने लॉकडाउन के बीच मजदूरों को बड़ी राहत दी है

20 अप्रैल से कुछ हद तक उनकी समस्या दूर होने वाली है.

लॉकडाउन: नीतीश कह रहे थे छात्रों को लाना गलत, बीजेपी विधायक बेटी को कोटा से घर ले आए

बाहर फंसे लोगों को वापस लाने का नीतीश कुमार लगातार विरोध कर रहे हैं.

कैंसर अस्पताल ने मुस्लिमों को लेकर ऐसा विज्ञापन छपवाया कि अगले दिन माफी मांगनी पड़ी

11 पॉइंट के इस विज्ञापन में 9 में 'मुस्लिम-मुस्लिम' किया गया था.

महिला ने गहलोत की जगह मोदी को अच्छा बताया, कांग्रेसी विधायक ने राशन रखवा लिया!

वीडियो वायरल होने पर विधायक राजेंद्र सिंह विधूड़ी बोले-मजाक कर रहा था.

लॉकडाउन: दिल्ली के बिहार भवन में आए 45 हज़ार से ज्यादा कॉल, सबकी सिर्फ एक ही मांग

राज्यों में फंसे बिहार निवासियों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किए गए थे.

लॉकडाउन में दी गई ये छूट अब वापस ले रहा है NHAI

20 अप्रैल से एक राज्य से दूसरे राज्य में गाड़ियां जा सकती हैं. पर एक झोल है.

यूपी: सैनिटाइजेशन के लिए गए युवक को पहले पीटा और फिर मुंह में सैनिटाइजर डाल दिया, मौत हो गई

जो कोरोना के ख़िलाफ़ लड़ रहे हैं, उन्हीं के साथ ये सब हो रहा है. जो दुखद है.

रंगोली के ट्वीट को रिपोर्ट करने वाली फराह खान ने कंगना को लंबी-चौड़ी चिट्ठी में जवाब भेजा है

कंगना की बहन का ट्विटर सस्पेंड होने के बाद से बहस चल रही है.

फेसबुक की 'निशा जिंदल' को गिरफ्तार कर पुलिस ने थाने से फोटो अपलोड करवाई, लोगों ने सिर पीट लिया

थाने से लिखा, 'मैं पुलिस कस्टडी में हूं. मैं ही निशा जिंदल हूं.'

इंदौर में अब कोरोना पॉजिटिव थाना प्रभारी की मौत, अब तक 49 लोगों की गई जान

जूनी पुलिस स्टेशन के थाना प्रभारी थे. 10 दिन से इलाज चल रहा था.