Submit your post

Follow Us

करवाचौथ वाले विज्ञापन पर सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस चंद्रचूड़ ने खरी-खरी सुना दी है

करवाचौथ पर डाबर के एक विज्ञापन को लेकर बवाल मच गया था. इसमें एक लेस्बियन जोड़े को करवाचौथ मनाते दिखाया गया था. मामला इतना बढ़ा कि भावनाओं के आहत होने की बात कही जाने लगी. मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मोर्चा संभाल लिया. डाबर को ये विज्ञापन वापस लेना पड़ा. अब इस विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस धनंजय वी चंद्रचूड़ (Justice Chandrachud) की टिप्पणी सामने आई है. उन्होंने कहा है कि जनता की असहिष्णुता की वजह से वो विज्ञापन हटाना पड़ा. उनका कहना था कि महिलाओं के अधिकारों के लिए कई कानून बने हैं लेकिन वास्तविक स्थिति में अब भी अंतर है.

क्या कहा जस्टिस चंद्रचूड़ ने?

National Legal Services Authority (NALSA) और राष्ट्रीय महिला आयोग ने 31 अक्टूबर को एक साझा कार्यक्रम आयोजित किया था, महिलाओं में कानूनी जागरूकता बढ़ाने के संदर्भ में. इस वेबिनार में जस्टिस चंद्रचूड़ ने साफगोई से कई मसलों पर अपनी बात रखी. उन्होंने दो टूक कहा कि,

“जैसा कि आप लोग जानते हैं कि अभी एक कंपनी को अपना विज्ञापन वापस लेना पड़ा है. ये विज्ञापन करवाचौथ का था जिसमें समलैंगिक कपल को दिखाया गया था. इसे जनता की असहिष्णुता की वजह से हटाना पड़ा है.”

उन्होंने आगे कहा कि,

“कानून के आदर्श प्रावधानों और समाज की सच्चाइयों में काफी फर्क दिखता है. तभी तो जनहित का हवाला देते हुए उस विज्ञापन को वापस लेने के लिए कंपनी को मजबूर होना पड़ा. जबकि महिलाओं के अधिकारों को मजबूती देने के लिए कई कानून बनाए गए हैं. लेकिन कानून और जनता समाज में महिलाओं की वास्तविक स्थिति दोनों में अंतर है.”

इंडिया टुडे के मुताबिक, जस्टिस चंद्रचूड़ ने महिलाओं के लिए भी कहा कि वे सिर्फ़ महिला के तौर पर एक पहचान नहीं हैं. अनुसूचित जाति या फिर ट्रांसजेंडर महिला को कई तरह के भेदभाव का सामना करना पड़ता है. कोर्ट के कई फैसलों में भी ये बातें साफ-साफ उजागर होती हैं. भेदभाव के कई मानदंड हैं. जाति, धर्म, विकलांगता या फिर लैंगिक आधार पर भेदभाव.

जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि,

“जब एक महिला से उसकी पहचान के साथ ही जाति, वर्ग, धर्म, विकलांगता और लैंगिक आधार जैसी पहचान जुड़ती हैं तो उसे हिंसा और भेदभाव का सामना करना पड़ सकता है. मिसाल के तौर पर ट्रांसवुमन को उनकी विषम लैंगिक पहचान के कारण हिंसा का सामना करना पड़ सकता है.”

जस्टिस चंद्रचूड़ ने आगे कहा कि महिलाओं के अधिकारों को लेकर सार्थक और सकारात्मक मजबूती तभी संभव होगी जब इस मुद्दे पर पुरुषों में भी जागरूकता आए. ज‌स्टिस चंद्रचूड़ ने हाल में ‌दिए एक फैसले का जिक्र किया जिसमें उन्होंने अनुसूचित जाति की महिलाओं पर हो रहे जुल्म और भेदभाव को देखा था.

बता दें कि जस्टिस चंद्रचूड़ सुप्रीम कोर्ट की उस बेंच के अध्यक्ष थे जिसने फरवरी में महिलाओं के आर्मी जॉइन करने पर लैंडमार्क जजमेंट दिया था. इसके जरिए महिला अधिकारी को भी पुरुष अधिकारी के समान परमानेंट कमीशन का अधिकार दिया गया है.

वो विज्ञापन, जिस पर बवाल हुआ

डाबर का एक ब्यूटी प्रोडक्ट है ‘फेम क्रेम’. चेहरे पर लगाने वाली ब्लीच. डाबर की मार्केटिंग टीम ने करवा चौथ को ध्यान में रखते हुए एक ऐड कैंपेन बनाया था. इस विज्ञापन में एक महिला दूसरी महिला को करवाचौथ पर रिवायती तौर से छलनी के जरिए देखती हैं. विज्ञापन के अंत में एक बैकग्राउंड आवाज आती है जो कहती है, “जब ऐसा हो निखार आपका तो दुनिया की सोच कैसे ना बदले!”

डाबर के इस विज्ञापन के आते ही सोशल मीडिया पर इसके खिलाफ तीखी टिप्पणियों की बाढ़ आ गई. मध्य प्रदेश के गृह मंत्री ने चेतावनी दी कि विज्ञापन वापस नहीं लिया गया तो नाराज जनता, डाबर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराएगी और कंपनी को जनता और कानूनी मुश्किल का सामना करना होगा. इसके बाद कम्पनी ने विज्ञापन वापस लेकर बिना शर्त माफी मांगी.


वीडियो – ‘डाबर’ ने करवा चौथ को लेकर ऐसा क्या कर डाला कि बवाल मच गया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

'स्पाइडरमैन: नो वे होम' ने पहले दिन करोड़ों की कमाई का वो जाला बुना कि बड़े-बड़े रिकॉर्ड फंस गए

'स्पाइडरमैन: नो वे होम' ने पहले दिन करोड़ों की कमाई का वो जाला बुना कि बड़े-बड़े रिकॉर्ड फंस गए

एक दिन में ही कई रिकॉर्ड टूट गए, अभी तो वीकेंड पड़ा है.

'स्पाइडर मैन : नो वे होम' का ऐसा भौकाल है कि एडवांस खिड़की पर रिकॉर्ड टूट गए

'स्पाइडर मैन : नो वे होम' का ऐसा भौकाल है कि एडवांस खिड़की पर रिकॉर्ड टूट गए

ब्लैक में टिकट खरीदने का ज़माना लौट आया है बॉस!

आतंकी हमले में जम्मू-कश्मीर के 14 पुलिसकर्मी घायल, 2 शहीद, PMO ने डिटेल्स मांगी

आतंकी हमले में जम्मू-कश्मीर के 14 पुलिसकर्मी घायल, 2 शहीद, PMO ने डिटेल्स मांगी

हमला श्रीनगर से जुड़े इलाके में हुआ है.

जानिए CDS बिपिन रावत के साथ हेलिकॉप्टर में कौन-कौन सवार था?

जानिए CDS बिपिन रावत के साथ हेलिकॉप्टर में कौन-कौन सवार था?

क्रैश हुए हेलिकॉप्टर में कुल 14 लोग मौजूद थे

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.