Submit your post

Follow Us

इज़रायल का दावा, कोरोना की दवा मिल गयी!

इज़रायल ने घोषणा की है. कहा है कि लैब में कोरोनावायरस से लड़ने वाली एंटीबॉडी बना ली है. इस मिश्रण को ऐंटिडोट कहा जाता है. अब इसके पेटेंट और बड़े स्केल पर प्रोडक्शन के लिए इज़रायल के रक्षा मंत्रालय लगा हुआ है.

दावा इजरायल के रक्षामंत्री नफताली बेनेट ने किया है. कहा कि इजरायल इंस्टीट्यूट फॉर बायोलॉजिकल रिसर्च (IIBR) ने कोरोना वायरस की एंटीबॉडी विकसित करने में सफलता हासिल कर ली है. जेरूसलम पोस्ट में छपी ख़बर की मानें तो बेनेट सोमवार 4 मई को IIBR की लैब गए हुए थे. वहां मौजूद रिसर्च टीम से उनकी बातचीत हुई. बातचीत में पता चला कि लैब में एंटीबॉडी बना ली गयी है.

रक्षामंत्री नफ़ताली बेनेट

कैसे काम करती है एंटीबॉडी? किसी कोरोना से संक्रमित व्यक्ति के शरीर में अगर इस एंटीबॉडी को डाल दिया जाता है, तो ये एंटीबॉडी कोरोनावायरस से लड़ती है और शरीर को वायरस से मुक्त करती है. भारत समेत कई देशों में इसी तर्ज़ पर प्लाज़्मा थेरेपी शुरू की गयी. ठीक हो चुके व्यक्ति के शरीर में से प्लाज़्मा निकाला जाता है, और संक्रमित व्यक्ति के शरीर में उसे डाल दिया जाता है. प्लाज़्मा में मौजूद एंटीबॉडी अपना काम शुरू कर देती हैं.

पिछले महीने ही IIBR ने कहा था कि वो एंटीबॉडी से जुड़े कुछ प्रयोग चूहों पर कर रही है. और अब ये ऐंटिडोट सामने है. कहा जा रहा है कि देश दुनिया की कम्पनियों से भी संपर्क साधने की कोशिश की जा रही है ताकि एंटीबॉडी का प्रोडक्शन बड़े स्तर पर शुरू किया जा सके.

थोड़ी पहले की बात

फ़रवरी 2020 के शुरुआती हफ़्तों में जब इज़रायल में कोरोनावायरस के केस दिखना भी नहीं शुरू हुए थे, उसी समय बेंजामिन नेतन्याहू ने IIBR और स्वास्थ्य मंत्रालय को आदेश जारी करके कहा था कि तत्काल इसकी वैक्सीन पर काम करना शुरू करें. ये भी आदेश थे कि वैक्सीन के बड़े स्तर पर निर्माण के लिए फ़ैक्टरी भी लगाई जाए.

IIBR के बारे में मार्च में ही ख़बर आई कि लैब ने कोरोना की वैक्सीन बना ली है. उस समय रक्षा मंत्रालय ने इन दावों को ख़ुद ही ख़ारिज कर दिया था. कहा था कि लैब के काम करने का अपना तरीक़ा है. जो काम नहीं हुआ है, उसके बारे में कुछ भी कैसे बोल सकते हैं. जब सफलता मिलेगी, तभी सबको जानकारी दे दी जाएगी.

थोड़ी बातें लैब की

IIBR प्रधानमंत्री कार्यालय के अधीन काम करती है. और सीधा प्रधानमंत्री कार्यालय को ही अपने कामों की जानकारी देती है. मुख्य लैब तेलअबीब से 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित नेस जिओना में है. कहा जाता है कि ज़मीन के नीचे है. चारों तरफ़ मोटे कंक्रीट की दीवारें हैं. किसी विमान को आसपास से उड़ने की इजाज़त नहीं है. इज़रायल की इस लैब के बारे में विदेशी मीडिया में दावे किए जाते हैं कि ये लैब जैविक और रासायनिक हथियार बनाने का काम करती है.


कोरोना ट्रैकर :

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

मुंबई के अस्पताल में बेटे से उठवाई गई कोरोना पॉज़िटिव मां की लाश, PPE किट भी नहीं दी

इस मामले में दो लोगों को सस्पेंड कर दिया गया है.

कानपुर में यूपी पुलिस क्या अपने थानेदार की साज़िश का शिकार हुई? SSP ने जवाब दिया

मुठभेड़ के समय गांव की लाइट चौबेपुर थाने के SHO ने कटवाई थी.

केआरके ने फिर कांड किया, इस बार ‘सरदार खान’ को गुस्सा आ गया है

हंसल मेहता ने भी ट्विटर पर कहा- भिड़ना मत.

पुलिस की हत्या पर विकास दुबे की तारीफ कर रहा था, पुलिस ने सबक सिखा दिया

आरोपी युवक कानपुर का ही है. फेसबुक पर पोस्ट लिखी थी.

हैदराबाद में 100 लोगों को बर्थडे पार्टी देने वाले जूलर की कोरोना से मौत

पार्टी अटेंड करने वाले लोग डरे हुए हैं और शहर में कोरोना टेस्ट करवा रहे हैं.

कानपुर: शहीद पुलिसवालों की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से पता चला, किस तरह की हैवानियत हुई थी

दर्दनाक: गोली मारने के बाद कुल्हाड़ी से काटने की भी कोशिश की गई थी.

कानपुर एनकाउंटर: विकास दुबे के गुंडों की गोलियों से IG और SSP ऐसे बचे!

पुलिस पर हमले के बाद हुआ था यह एनकाउंटर

कानपुर: शक के घेरे में पूरा चौबेपुर थाना, विकास दुबे की मदद करने वालों पर चलेगा हत्या का केस

कितने पुलिसकर्मियों ने विकास दुबे से बात की, इस मामले की जांच चल रही है.

पुलिसवालों के शव जलाना चाहता था विकास दुबे, रेड से ठीक पहले काटी गई थी गांव की बिजली

बिजली कटने में चौबेपुर थाने का नाम आया है.

विकास दुबे का करीबी दयाशंकर गिरफ्तार, हमले वाली रात को लेकर किए ये बड़े खुलासे

दयाशंकर को कानपुर पुलिस ने मुठभेड़ के बाद पकड़ा है.