Submit your post

Follow Us

कोरोना से जंग में शिखर धवन और जयदेव उनादकट ने किया दिल जीत लेने वाला काम

शिखर धवन और जयदेव उनादकट. दिल्ली कैपिटल्स और राजस्थान रॉयल्स के लिए IPL2021 में खेल रहे भारतीय क्रिकेटर्स. इन दोनों क्रिकेटर्स ने कोरोना के खिलाफ जंग में अपना योगदान दिया है. शिखर धवन ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट शेयर कर लिखा,

‘अभी हम अभूतपूर्व वक्त से गुजर रहे हैं, और यह वक्त की जरूरत है कि हम एक-दूसरे की मदद के लिए हरसंभव कोशिश करें. सालों साल तक मुझे आप सभी से अतुल्य प्रेम और समर्थन मिला है, जिसके लिए मैं हमेशा ही आपका आभारी रहूंगा. अब मेरी बारी है कि मैं इस देश के लोगों को कुछ वापस दूं.

मैं मिशन ऑक्सीजन के जरिए ऑक्सीजन की जरूरत को फंड करने के लिए 20 लाख रुपये और IPL2021 के दौरान मिलने वाले इंडिविजुअल परफॉर्मेंस अवॉर्ड्स से आने वाली सारी रकम दान करता हूं. मैं अतुल्य सेवा के लिए कभी ना थकने वाले सभी फ्रंटलाइन वर्कर्स को धन्यवाद देता हूं. हम हमेशा ही आपके कर्ज़ में रहेंगे.

मैं सभी लोगों से सभी हेल्थ प्रोटोकॉल फॉलो करने की अपील करता हूं. मास्क पहनिए, सैनेटाइजर का प्रयोग करिए और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करिए. प्लीज बाहर तभी निकलें जब बेहद जरूरी हो. साथ मिलकर हम जीतेंगे.’


शिखर से पहले जयदेव उनादकट ने IPL2021 की अपनी सैलरी का 10 परसेंट दान करने की घोषणा की थी. उनादकट ने ट्विटर पर लिखा,

‘मैं अपनी IPL सैलरी का 10 परसेंट जरूरतमंद लोगों को जरूरी मेडिकल सुविधाएं मुहैया कराने की दिशा में दान कर रहा हूं. मेरा परिवार इस बात को पक्का करेगा कि यह सही जगह पहुंचे. जय हिंद.’

अपने इसी ट्वीट में शेयर किए गए वीडियो संदेश में उनादकट ने अपनी बात आगे बढ़ाते हुए कहा,

‘हमारा देश एक बड़े संकट से गुजर रहा है. और इसे देखते हुए मुझे पता है कि ऐसे माहौल में भी क्रिकेट खेलने का मौका पाने वाले हम कितने विशेषाधिकार वाले लोग हैं. मुझे ये भी पता है कि एक पर्सनल लॉस और अपने क़रीबी लोगों को उनकी जिंदगी के लिए जूझते देखना कितना दर्दनाक और चिंतित करने वाला हो सकता है.

मैं यह नहीं कह रहा कि ऐसे पलों में क्रिकेट खेलना सही या गलत है. लेकिन ईमानदारी से कहूं तो ऐसे हाल में परिवार से दूर रहना मुश्किल है. जैसे भी हो सके, हमें एक-दूसरे की मदद करनी चाहिए, मैं भी अपने हिस्से का योगदान कर रहा हूं.’


IPL 2021: पृथ्वी शॉ ने KKR को हराने वाली पारी खेलने के बाद अपने पापा के बारे में क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.