Submit your post

Follow Us

कोलकाता के खिलाफ धोनी ने अपने चैम्पियन प्लेयर को क्यों बिठा दिया?

IPL 2021 में जीत के साथ शुरुआत करने वाली Chennai Super Kings और Kolkata Knight Riders के बीच शुरू हो रहे मुकाबले में कोलकाता नाइट राइडर्स ने टॉस जीत लिया है. टॉस जीतकर कोलकाता ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया है. चेन्नई के खिलाफ कोलकाता बिना बदलाव के उतरी है, वहीं चेन्नई ने एक बदलाव किया है.

# Bravo की जगह Curran

कोलकाता के खिलाफ टॉस हारकर अपनी टीम के बदलाव के बारे में बताते हुए चेन्नई के कप्तान धोनी ने कहा,

‘हमने एक चेंज किया है. ब्रावो की जगह सैम करन प्लेइंग XI में आ रहे हैं. CPL में उन्हें कुछ परेशानियां हुई थी, इसलिए हमें यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि वह फिर से उससे परेशान ना हों. सपोर्ट स्टाफ बहुत महत्वपूर्ण है. टीम में अनुभवी खिलाड़ी होने से मदद मिलती है. IPL में सब कॉम्बिनेशन मैनेज करने के बारे में हैं.’

वहीं, टॉस जीतकर KKR के कप्तान मॉर्गन ने कहा,

‘हम पहले बल्लेबाजी करेंगे, टीम में कोई बदलाव नहीं है. इस मैच में अलग चैलेंज होगा क्योंकि ये दिन का खेल है. पिछले साल की तुलना में विकेट में अधिक गति है. हालांकि इस तरह की गर्मी में बाद में यह धीमा हो सकता है.’

# पहले एनकाउंटर में क्या हुआ था ?

चेन्नई सुपर किंग्स और कोलकाता नाइट राइडर्स के फर्स्ट लेग के मुकाबले की बात करें तो उस मैच में चेन्नई ने कोलकाता को 18 रन से हराया था. टीम ने 20 ओवर में 220 रन बोर्ड पर टांगे थे, टीम के लिए फाफ डु प्लेसी ने 95, रुतुराज ने 64 और मोइन अली ने 25 रन की पारी खेली थी. वहीं कोलकाता के लिए वरुण चक्रवर्ती, सुनील नरेन और आंद्रे रसल ने एक-एक विकेट निकाले थे.

जवाब में 221 का लक्ष्य लेकर मैदान पर उतरी कोलकाता ने शुरू के 6 ओवर में ही अपने 5 विकेट खो दिए थे. जिसके बाद टीम को थोड़ा बहुत आंद्रे रसल और पैट कमिंस की जोड़ी ने संभाला था. रसल ने 22 गेंदों में 54 रन और कमिंस ने 34 गेंदों में 66 रन बनाकर टीम को जीत के करीब ला दिया था.

दिनेश कार्तिक ने भी 40 रन की पारी खेली थी. लेकिन इन तीन बल्लेबाजों के अलावा कोई भी खिलाड़ी 10 का आंकड़ा भी नहीं छू पाया था. जिसके कारण टीम 202 पर ऑल-आउट हो गई थी. बताते चलें कि IPL के सेकंड लेग में दोनों टीमों ने दो जीत हासिल की हैं.


IPL 2021: रुतुराज ने ऐसा क्या कमाल कर दिया कि वो धोनी-रोहित से आगे निकल गए?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.