Submit your post

Follow Us

दिल्ली ने 20 ओवर में बॉलिंग से खतरनाक तो फील्डिंग कर दी!

आईपीएल 2020 के 23वें मैच में भी राजस्थान रॉयल्स की खराब किस्मत ने साथ नहीं छोड़ा. शारजाह के मैदान में टॉस हारकर बल्लेबाजी करने उतरी दिल्ली ने 8 विकेट खोकर 184 रन बनाए. जवाब में राजस्थान की टीम स्कोर से 46 रन पीछे रह गई.

दिल्ली के बॉलर्स ने तो कमाल की बोलिंग की है. लेकिन राजस्थान की इनिंग में दिल्ली के बॉलर्स का जमकर साथ दिया दिल्ली की फील्डिंग ने. शिमरोन हेटमायर हों या फिर शिखर धवन. इन प्लेयर्स ने एक के बाद एक मैच टर्निंग कैचिज़ लिए और मैच राजस्थान से छीन लिया.

चलिए बताते हैं कि वो कौन से तीन कैच रहे. जिन्होंने राजस्थान को खूब परेशान किया.

पहला कैच- ओवर 2.3. अश्विन की गेंद बटलर को. बटलर ने उस गेंद को स्क्वायर लेग के ऊपर से मारना चाहा. लेकिन गेंद बल्ले के निचले किनारे से लगकर स्क्वायर लेग अंपायर के पास तैनात धवन के पास तेजी से गई. धवन ने अपने दाएं तरफ डाइव मारकर एक शानदार कैच पकड़ लिया. बटलर 13 रन मारकर आउट हो गए और अश्विन इस बैटल को जीत गए.

दूसरा कैच -ओवर 8.1. नॉर्खिया की गेंद स्टीव स्मिथ को. पैर पर आई गेंदों को स्टीव स्मिथ ने शानदार तरीके से फ्लिक किया. लेकिन गेंद बाउंड्री के पार नहीं गई. बाउंड्री के पास तैनात हेटमायर ने अपने आगे तरफ डाइव मारते हुए बेहतरीन कैच पकड़ा. इस तरह से स्मिथ 24 रन बनाकर आउट हो गए. ये कैच मैच टर्निंग भी रहा.

तीसरा कैच- ओवर 17.2. हर्षल पटेल की गेंद श्रेयस गोपाल को. गोपाल ने गेंद को बनाकर मारने की कोशिश की. लेकिन गेंद बल्ले पर अच्छी तरीके से आई नहीं. गेंद डिप पर खड़े हेटमायर के पास गई. जहां हेटमायर ने अपने बाएं और आगे की तरफ डाइव मारते हुए एक शानदार कैच फिर से पकड़ लिया. गोपाल ने सिर्फ 2 रन बनाए.

हालांकि इस वक्त तक राजस्थान की टीम मैच से बाहर हो गई थी. लेकिन इसके अलावा भी दिल्ली की टीम ने और भी अच्छे कैचिज़ पकड़े. आखिरकार दिल्ली ने अपनी शानदार बॉलिंग और फील्डिंग के दम पर राजस्थान को 46 रनों से हरा दिया.


शारजाह में अश्विन, नॉर्किये और रबाडा के आगे किसी की नहीं चली

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अयोध्याः 20 लाख की जमीन मेयर के भतीजे ने ट्रस्ट को 2.5 करोड़ में बेची, महंत ने उठाए सवाल

अयोध्याः 20 लाख की जमीन मेयर के भतीजे ने ट्रस्ट को 2.5 करोड़ में बेची, महंत ने उठाए सवाल

ट्रस्ट द्वारा खरीदी जा रही जमीनों के दो और सौदे विवादों के घेरे में.

चिराग पासवान के चचेरे भाई सांसद प्रिंस राज पर लगे रेप के आरोप का पूरा मामला है क्या?

चिराग पासवान के चचेरे भाई सांसद प्रिंस राज पर लगे रेप के आरोप का पूरा मामला है क्या?

आरोप लगाने वाली महिला के खिलाफ प्रिंस ने भी फरवरी में दर्ज कराई थी FIR.

किसान आंदोलन में शामिल लोगों पर आरोप- पहले ग्रामीण को शराब पिलाई, फिर जिंदा जला दिया!

किसान आंदोलन में शामिल लोगों पर आरोप- पहले ग्रामीण को शराब पिलाई, फिर जिंदा जला दिया!

बहादुरगढ़ की घटना, पुलिस ने दो लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया है.

CBSE ने सुप्रीम कोर्ट में बताया, 12वीं के मार्क्स देने का 30:30:40 फॉर्मूला क्या है

CBSE ने सुप्रीम कोर्ट में बताया, 12वीं के मार्क्स देने का 30:30:40 फॉर्मूला क्या है

31 जुलाई से पहले फाइनल रिजल्ट जारी करने की जानकारी भी दी है.

योगी सरकार के संपत्ति रजिस्ट्री को लेकर लगने वाले स्टाम्प शुल्क के नए नियम में क्या है?

योगी सरकार के संपत्ति रजिस्ट्री को लेकर लगने वाले स्टाम्प शुल्क के नए नियम में क्या है?

नए नियम के बाद विवादों में कमी आएगी?

हरिद्वार कुंभ के दौरान बांटी गयी 1 लाख फ़र्ज़ी कोरोना रिपोर्ट? जानिए क्या है कहानी

हरिद्वार कुंभ के दौरान बांटी गयी 1 लाख फ़र्ज़ी कोरोना रिपोर्ट? जानिए क्या है कहानी

अख़बार का दावा, सरकारी जांच में हुआ ख़ुलासा

दिल्ली दंगा : नताशा, देवांगना और आसिफ़ को ज़मानत देते हुए कोर्ट ने कहा, 'कब तक इंतज़ार करें?'

दिल्ली दंगा : नताशा, देवांगना और आसिफ़ को ज़मानत देते हुए कोर्ट ने कहा, 'कब तक इंतज़ार करें?'

जानिए क्या है पूरा मामला?

सैन्य ऑपरेशन से जुड़े 25 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड सार्वजनिक होंगे

सैन्य ऑपरेशन से जुड़े 25 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड सार्वजनिक होंगे

सेना के इतिहास से जुड़ी जानकारियां सार्वजनिक करने की पॉलिसी को मंजूरी

पंजाब चुनाव: अकाली दल और बसपा गठबंधन का ऐलान, कितनी सीटों पर लड़ेगी मायावती की पार्टी?

पंजाब चुनाव: अकाली दल और बसपा गठबंधन का ऐलान, कितनी सीटों पर लड़ेगी मायावती की पार्टी?

पंजाब के अलावा बाकी चुनाव भी साथ लड़ने की घोषणा.

TMC में घर वापसी करने वाले मुकुल रॉय ने 4 साल बाद बीजेपी छोड़ने का फैसला क्यों लिया?

TMC में घर वापसी करने वाले मुकुल रॉय ने 4 साल बाद बीजेपी छोड़ने का फैसला क्यों लिया?

मुकुल रॉय को बराबर में बिठाकर ममता बनर्जी किन गद्दारों पर भड़कीं?