Submit your post

Follow Us

आज से काउंटर पर भी मिलने लगी हैं ट्रेन की टिकटें, गांव वालों के लिए है खास इंतज़ाम

कोरोना वायरस की वजह से लगे लॉकडाउन में धीरे-धीरे राहत दी जाने लगी हैं. श्रमिक स्पेशल ट्रेन चल रही हैं, 15 जोड़ी एसी ट्रेन भी चलने लगी हैं और 1 जून से 200 नॉन-एसी ट्रेनें भी चलेंगी. इन सबके साथ रेल मंत्रालय ने एक और बड़ा फैसला किया है. स्टेशन पर ट्रेन टिकट काउंटर खोलने का फैसला.

21 मई को रेल मंत्रालय ने एक आदेश जारी किया और बताया कि 22 मई से कुछ स्टेशनों पर ट्रेन रिजर्वेशन काउंटर्स भी खोल दिए जाएंगे, लेकिन कितने काउंटर्स खुलेंगे इसकी ज़िम्मेदारी ज़ोनल रेलवे को दी गई है. इसके अलावा कॉमन सर्विस सेंटर्स (CSC) भी टिकट बुकिंग के लिए खोल दिए जाएंगे. लेकिन ये सब कुछ केवल रिजर्वेशन वाली टिकटों के लिए खोला गया है.

मंत्रालय के आदेश में लिखा है,

‘सक्षम अधिकारियों द्वारा 22 मई से रिजर्व टिकट बुक कराने के लिए टिकट काउंटर खोलने का फैसला लिया गया है. रिजर्वेशन वाली यात्रा के लिए ट्रेन टिकट की काउंटर बुकिंग शुरू की जा रही है. सभी ज़ोनल रेलवे अपनी ज़रूरत और स्थानीय हालातों को देखते हुए टिकट काउंटर्स खोलने की संख्या पर फैसला कर सकते हैं.’

Indian Railway 1
ये वो आदेश है, जिसके बारे में हमने आपको जानकारी दी. फोटो- इंडिया टुडे.

इसके अलावा ये भी कहा गया है कि ज़ोनल रेलवे काउंटर शुरू करने के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी करें. और कोविड-19 महामारी से बचाव के लिए साफ-सफाई का भी ध्यान रखें. सभी प्रोटोकॉल का पालन हो.

ये सारे बुकिंग काउंटर्स और CSCs 25 मार्च यानी पहला लॉकडाउन लगने के बाद से ही बंद हैं. NDTV की रिपोर्ट के मुताबिक, आदेश आने के कुछ समय पहले केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा था कि 1.7 लाख CSCs खोल दिए जाएंगे, ताकि गांव और दूर-दराज के इलाकों में रहने वाले लोग, जिनके पास इंटरनेट की सुविधा नहीं है उन्हें दिक्कत न हो. साथ ही कहा था कि हमें भारत को नॉर्मेलिसी की तरफ ले जाना है.

ये CSCs क्या है?

हिंदी में सर्व सेवा केंद्र. क्या है न कि देश के हर हिस्से में तो इंटरनेट ठीक से पहुंचता नहीं है, और न ही हर किसी को ये चलाने आता है. ऐसे में गांव के लोगों को कई बार बहुत से जरूरी कम करने के लिए शहर आना पड़ता था. इस दिक्कत को कम करने के लिए सरकार ने ग्रामीण इलाकों में सर्व सेवा केंद्र खोले. इसकी मदद से ग्रामीण लोग बहुत सारे इंटरनेट वाले सरकारी काम कर सकते हैं. एक तरीके से गांव के लोगों तक ई-गवर्नेंस पहुंचाने के लिए उठाया गया कदम है. बैंकिंग का काम, कोई सरकारी फॉर्म, कोई स्कीम के लिए आवेदन, रेलवे टिकट बुकिंग ये सारे काम यहां हो जाते हैं. यहां एक्सपर्ट लोग होते हैं, जो गांववालों की मदद करते हैं.

ये भी पढ़ें-

देशभर में 200 और ट्रेनें चलने की तारीख़ आ गई है

आज से शुरू हो चुकी है 1 जून से चलने वाली ट्रेनों की बुकिंग, क्या है रेलवे की गाइडलाइन?


वीडियो देखें: लॉकडाउन के दौरान इन 15 स्टेशनों के लिए रेलवे की तरफ से ट्रेन चलाई जा रही हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

प्लेन और ट्रेन से जाने के लिए टिकट और किराए के नियम सरकार ने बताए हैं

जानिए, रेलवे के ऑफलाइन टिकट कहां से मिल सकते हैं.

क्या गुजरात में खराब वेंटीलेटर की वजह से 300 कोरोना मरीज़ों की मौत हो गई?

कांग्रेस ने विजय रूपाणी सरकार पर वेंटीलेटर घोटाले का आरोप लगाया है.

अब इस तारीख से देश के अंदर फ्लाइट्स से यात्रा कर सकेंगे

इससे पहले 200 नॉन एसी ट्रेन चलने की सूचना दी गई थी.

'अम्फान' आ चुका है, पश्चिम बंगाल में दो की मौत, कई घरों को नुकसान

ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में अपना असर दिखा रहा है.

प्रियंका गांधी ने जो गाड़ियां यूपी भेजी हैं, उनमें कितनी बसें हैं, कितने ऑटो?

छह सूचियों में कुल 1049 गाड़ियों की डिटेल्स भेजी गई है.

देशभर में 200 और ट्रेनें चलने की तारीख़ आ गई है

इस बार ख़ुद रेल मंत्री ने बताया है.

लॉकडाउन 4: दफ़्तरों के लिए क्या गाइडलाइंस हैं?

इस लॉकडाउन में तमाम तरह की छूट दी गई हैं.

प्रियंका गांधी वाड्रा की 1000 बसों में कुछ नंबर ऑटो और कार के कैसे निकल गए?

हालांकि संबित पात्रा ने भी जिस बस को स्कूटर बताया, वहां एक पेच है.

मज़दूरों की लाश की ऐसी बेक़द्री पर झारखंड के सीएम कसके गुस्साए हैं

घायल मज़दूरों के साथ अमानवीय व्यवहार करने का आरोप.

कोरोना की वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर, जल्द ही आखिरी स्टेज का टेस्ट होने की उम्मीद

जुलाई के महीने को लेकर अहम बात भी कह डाली है.