Submit your post

Follow Us

भारत को वर्ल्ड कप जिताने के बाद आत्महत्या क्यों करना चाहते थे रोबिन उथप्पा?

रोबिन उथप्पा. साल 2007 का T20 वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम के अहम सदस्य. उथप्पा का इंटरनेशनल करियर बहुत लंबा नहीं चला, लेकिन डोमेस्टिक क्रिकेट में वे दिग्गजों में शामिल हैं. उथप्पा ने अब अपने बारे में एक बड़ा खुलासा किया है. उथप्पा ने कहा है कि वे अपने करियर के दौरान लगभग दो साल तक डिप्रेशन और आत्महत्या के खयालों से जूझते रहे थे. उथप्पा के मुताबिक, शायद क्रिकेट वह इकलौती चीज थी, जिसने उस दौरान उन्हें ‘बालकनी से कूदने’ से रोका.

भारत के लिए 46 वनडे और 13 T20 खेल चुके उथप्पा इस साल IPL नीलामी में तीन करोड़ में बिके थे. उन्हें राजस्थान रॉयल्स ने खरीदा था. इस IPL फ्रेंचाइजी के फाउंडेशन, रॉयल राजस्थान फाउंडेशन के लाइव सेशन ‘माइंड, बॉडी एंड सोल’ में उथप्पा ने कहा,

‘मुझे याद है कि 2009 से 2011 तक यह लगाता था और मुझे रोज ही इससे लड़ना पड़ता था. कई बार ऐसा वक्त भी आया, जब मैं क्रिकेट के बारे में भी नहीं सोचता था. क्रिकेट शायद मेरे दिमाग के किसी कोने में पड़ा था. मैं सोचता था कि मैं कैसे इस दिन को गुजाकर अगले दिन तक जाऊंगा, मेरी जिंदगी में क्या हो रहा है और मैं किस दिशा में जा रहा हूं.

क्रिकेट ने इन चीजों से मेरा दिमाग हटाया, लेकिन खाली रहने वाले दिनों में यह काफी मुश्किल होता था. कई बार मैं बैठकर सोचता था कि तीन की गिनती पर मैं दौड़कर बालकनी से कूद जाऊंगा, लेकिन कुछ था जिसने मुझे रोके रखा.’

# नहीं है पछतावा

उथप्पा ने बताया कि यही वह पल था, जब उन्होंने एक डायरी लिखनी शुरू की. उन्होंने कहा,

‘मैंने खुद को एक इंसान के तौर पर समझने की प्रोसेस शुरू की. फिर मैंने बाहरी मदद के जरिए अपनी जिंदगी में मनचाहे बदलाव लाने की दिशा में काम करना शुरू किया.’

उथप्पा बताते हैं कि उस दौर में वे ऑस्ट्रेलिया टूर पर इंडिया A की कप्तानी करने के बाद भी नेशनल टीम में एंट्री न मिलने से परेशान थे. बाद में उन्होंने अपने जीवन की नेगेटिविटी से पार पाया. उथप्पा 2014-15 सीजन में रणजी ट्रॉफी के टॉप स्कोरर थे. आखिरी बार 2015 में इंडियन टीम के लिए खेलने वाले उथप्पा का कहना है कि उन्हें इस बात पर कोई पछतावा नहीं है कि उन्होंने अपनी जिंदगी की समस्याओं से कैसे डील किया.


ऑस्ट्रेलियाई चयनकर्ताओं से पहले ही सौरव गांगुली ने स्टीव स्मिथ को कप्तान बना दिया था

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

'निसर्ग' चक्रवात क्या है और ये कितना ख़तरनाक है?

'निसर्ग' नाम का मतलब भी बता रहे हैं.

कोरोना काल में क्रिकेट खेलने वाले मनोज तिवारी ‘आउट’

दिल्ली में हार के बाद बीजेपी का पहला बड़ा फैसला.

1 जून से लॉकडाउन को लेकर क्या नियम हैं? जानिए इससे जुड़े सवालों के जवाब

सरकार ने कहा कि यह 'अनलॉक' करने का पहला कदम है.

3740 श्रमिक ट्रेनों में से 40 प्रतिशत ट्रेनें लेट रहीं, रेलवे ने बताई वजह

औसतन एक श्रमिक ट्रेन 8 घंटे लेट हुई.

कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया गया, बाकी इलाकों में छूट की गाइडलाइंस जानें

गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर चरणबद्ध छूट को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं.

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.