Submit your post

Follow Us

ऑस्ट्रेलिया टूर बचाने के लिए इतना बड़ा रिस्क लेने को तैयार है इंडियन क्रिकेट टीम?

COVID-19 महामारी का असर कम होने का नाम नहीं ले रहा. तमाम स्पोर्ट्स के साथ क्रिकेट भी इसके थमने के इंतजार में है. ऐसे में पूरा स्पोर्ट्स कैलेंडर इधर-उधर हो गया है. इस साल भारत को ऑस्ट्रेलिया टूर पर जाना था. लेकिन अभी के हालात देखते हुए क्रिकेट की वापसी ही दूर लग रही है. इस बार में BCCI ट्रेजरर अरुण धूमल ने ‘दी सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड’ से बात की.

धूमल ने कहा कि भारत तमाम सावधानियों के साथ चलकर यह सीरीज खेलने का इच्छुक है. उन्होंने यहां तक कहा कि भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया पहुंचकर क्वारंटीन में रहने को भी तैयार है.

# कोई चारा नहीं

धूमल ने कहा,

‘कोई चारा ही नहीं है- सबको यह करना ही होगा. हम सब क्रिकेट को दोबारा से शुरू करना चाहते हैं. दो हफ्ते कोई बड़ी बात नहीं है. यह किसी भी स्पोर्ट्समैन के लिए आइडियल जैसा होगा, क्योंकि जब आप इतने दिनों से क्वारंटीन में हैं, तो दूसरे देश में जाना और दो हफ्तों तक अलग-थलग रहना अच्छी बात होगी. हमें देखना होगा कि लॉकडाउन के बाद क्या होता है.’

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने इस साल पांच मैचों की टेस्ट सीरीज का प्रपोजल दिया था. धूमल ने इस आइडिया को खारिज न करते हुए कहा कि लिमिटेड ओवर्स के मैच ज्यादा खेलना फायदेमंद रहेगा, क्योंकि इससे ज्यादा पैसे आ सकते हैं. उन्होंने कहा,

‘एक बार हम श्योर हो जाएं कि क्रिकेट कब दोबारा शुरू होगा, उसके बाद ही इस पर फाइनल कॉल ली जा सकेगी. पांच टेस्ट मैचों पर लॉकडाउन से पहले बात हुई थी. अगर कोई विंडो खाली हुई, तो यह बोर्ड्स पर निर्भर करेगा कि वे एक टेस्ट मैच या फिर दो वनडे या दो T20I कराना चाहेंगे. लॉकडाउन के चलते उन्हें जो रेवेन्यू लॉस हो रहा है, लॉकडाउन के बाद वे ज्यादा से ज्यादा पैसे बनाना चाहेंगे. वनडे या T20I के जरिए टेस्ट से ज्यादा रेवेन्यू आ सकता है. COVID-19 और लॉकडाउन के चलते हर बोर्ड का काफी नुकसान हुआ है, इसलिए उन्हें इस बारे में सोचना होगा.’

जब धूमल से इस साल T20I वर्ल्ड कप होने की संभावनाओं के बारे में पूछा गया, तब उन्होंने कहा कि इस साल कोई भी ग्लोबल इवेंट करवा पाना मुश्किल होगा.


क्रिकेटर्स खेलते टाइम बॉल पर थूक क्यों लगाते हैं, इससे क्या फर्क पड़ता है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सूरत: BJP कार्यकर्ता पर आरोप, घर पहुंचाने के नाम पर मजदूरों से पैसे लिए, टिकट मांगने पर पीटा!

एक अन्य वीडियो में BJP पार्षद के भाई टिकट के ज्यादा पैसे लेते दिखे.

जिस फ़ैक्टरी से निकली गैस ने तबाही मचाई, उसे क्लीयरेंस ही नहीं मिला था!

आबादी के बीच बना रहे थे स्टायरीन प्रोडक्ट.

रेड जोन में भी जल्द से जल्द लॉकडाउन खत्म करने के पक्ष में क्यों हैं मोंटेक सिंह अहलूवालिया?

बोले- लॉकडाउन की वजह से सबसे ज्यादा प्रभावित गरीबों के लिए सरकार योजना लाए.

राहुल गांधी बोले- कोरोना से लड़ाई में एक मजबूत PM काफी नहीं, कई मजबूत CM और DM की जरूरत

कहा- सरकार को 17 मई के बाद लॉकडाउन खोलने के लिए स्ट्रैटेजी तय करनी ही होगी.

थके हुए मज़दूर रेल की पटरी पर सो रहे थे, मालगाड़ी से कुचलकर 16 की मौत

सुबह मजदूरों के शव पटरी पर बिखरे पड़े थे.

कोरोनावायरस : दिल्ली के इस ट्रॉमा सेंटर का हाल देखकर आप माथा पीट लेंगे!

संक्रमण फैल रहा, लेकिन अस्पताल बोल रहा है कि ड्यूटी करो.

सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार ने बताया, दूसरे आर्थिक पैकेज में क्या मिलेगा

चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर कृष्णमूर्ति सुब्रह्मण्यम ने कोरोना संकट से निकलने का प्लान बताया.

विशाखापटनम में कंपनी से जहरीली गैस के रिसाव के बाद कैसे थे हालात, तस्वीरों में देखिए

अब तक 11 लोगों की मौत हो चुकी है. हजारों लोग प्रभावित हुए हैं.

छह अस्पतालों ने इलाज करने से मना कर दिया, आठ दिन की बच्ची मौत हो गई

आगरा में 15 दिन में तीन ऐसे मामले देखे गए हैं, जब हॉस्पिटल ने इलाज करने से मना कर दिया.

इटली का दावा, कोरोना वायरस की वैक्सीन मिल गयी

चूहों से इंसानों तक वैक्सीन का सफ़र