Submit your post

Follow Us

विराट कोहली के इस फैसले ने तय कर दिया था उनका जल्दी आउट होना

5
शेयर्स

टीम इंडिया के कैप्टन विराट कोहली. नंबर तीन पर वनडे क्रिकेट के बेस्ट बैट्समेन. जब भी क्रीज़ पर होते हैं फैंस को यकीन रहता है कि टीम इंडिया मैच निकाल ले जाएगी. नंबर तीन पर खेलकर कोहली ने इतनी बार भारत को मैच जिताए हैं कि भारतीय फैंस उनकी जगह किसी और को खेलते देखना भी नहीं चाहते.

लेकिन इन्हीं कोहली ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे में खुद को चौथे नंबर पर उतारा. हाल के मैचों में नंबर चार पर कोहली का रिकॉर्ड बेहद खराब रहा है लेकिन इसके बाद भी वह चौथे नंबर पर बैटिंग करने उतरे. इस बारे में उन्होंने मैच से पहले ही संकेत दे दिए थे. कोहली ने मैच से पहले कहा था.

‘देखिए, फॉर्म में खेल रहा प्लेयर हमेशा टीम के लिए अच्छा होता है… आप निश्चित तौर पर उपलब्ध प्लेयर्स में से बेस्ट को मौका देना चाहेंगे. इसके बाद आप टीम कंबिनेशन की बात करेंगे. संभावना है कि शायद वह तीनों (रोहित, शिखर और राहुल) खेलें. मैं नीचे खेलने के लिए तैयार हूं. मुझे इससे फर्क नहीं पड़ता कि मैं कहां खेलता हूं.’

# कोहली की गलती

कोहली चौथे नंबर पर बैटिंग करने उतरे. उन्होंने पहली 12 बोल्स बेहद आराम से खेलीं और 10 रन बनाए. लगा कि कोहली सेटल हो जाएंगे और एक बार फिर से हमें एक लंबी पारी देखने को मिलेगी. लेकिन इसके बाद 32वां ओवर लेकर आए एडम जैम्पा. पहली बॉल, बेहद छोटी थी. कोहली ने उसे सीधे बाउंड्री के बाहर भेज दिया. अब कोहली 13 बॉल्स पर 16 रन बना चुके थे. एक छक्का भी लगा चुके थे.

फैंस बेहद उत्साहित थे. लेकिन तभी जैम्पा खेल कर गए. जैम्पा ने कोहली को ड्राइव करने के लिए ललचाया और उन्होंने वही कर दिया. कोहली ने बॉल ड्राइव की लेकिन उसे जैम्पा से दूर नहीं कर पाए. जैम्पा ने कमाल की फुर्ती दिखाते हुए हवा में तेजी से उनकी तरफ आई बॉल को लपक कोहली की पारी का अंत कर दिया.

इसके साथ ही चौथे नंबर पर कोहली एक बार फिर से फेल रहे. इस पारी को मिलाकर कोहली ने चौथे नंबर पर अपनी पिछली सात पारियों में 9,4,3,11,12,7 और 16 रन बनाए हैं.


लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

यूपी पुलिस में मचा हंगामा, तो योगी ने की ये बड़ी कार्रवाई

सेक्स चैट से शुरू हुआ था मामला, "घूसखोरी" और पोस्टिंग पर अटकी बात

JNU : जिस समय आइशी घोष को पीटा जा रहा था, उसी वक़्त उन पर FIR हो रही थी

और नक़ाबपोश गुंडों का न कोई नाम, न कोई सुराग

बवाल हुआ तो JNU प्रशासन ने मंत्रालय से कैम्पस को बंद करने की मांग उठा दी

मंत्रालय ने भी ये जवाब दिया.

5 जनवरी की रात तीन बजे तक JNU कैम्पस में क्या-क्या हुआ?

जेएनयू कैम्पस में 5 जनवरी को नकाबपोशों ने स्टूडेंट्स और टीचर्स पर हमला किया.

2015 और इस बार के दिल्ली विधानसभा चुनाव में क्या अंतर है?

चुनाव के नतीजे 11 फरवरी को आएंगे.

JNU छात्रों पर हमले के बाद VC एम जगदीश कुमार क्या बोले?

नकाबपोश गुंडों ने कैंपस में मारपीट की थी.

जानिए, 5 जनवरी की दोपहर और शाम JNU कैंपस में क्या हुआ?

दो-तीन दिनों से कैंपस में तनाव था. अगले सेमेस्टर के रजिस्ट्रेशन पर स्टूडेंट्स में झड़पों की भी ख़बरें आईं थीं.

कोर्ट के आदेश के बाद वो 3 मौके, जब योगी सरकार ने 'दंगाइयों' से जुर्माना नहीं वसूला

और सवाल उठ रहे कि इस बार ही क्यों?

मोदी के जिस ड्रीम प्रोजेक्ट पर सरकार ने करोड़ों खर्च किये वो फ्लॉप हो गया

इसके प्रचार के लिए सरकार ने जगह-जगह बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगवाए थे.

नए साल की पहली खुशखबरी आ गई, रेलवे का किराया बढ़ गया

सेकंड क्लास, स्लीपर, फ़र्स्ट क्लास, एसी सबका किराया बढ़ा है रे फैज़ल...