Submit your post

Follow Us

सोनाली बेंद्रे ने बताया, कैंसर के डर से उबरने का उन्हें सबसे मुफीद रास्ता कौन सा लगा था?

इंडिया टुडे ई-कॉन्क्लेव चल रहा है. कोरोना वायरस के दौर में अलग-अलग फील्ड के लोगों से वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये बात की जा रही है. 18 अप्रैल को कॉन्क्लेव से जुड़ीं एक्ट्रेस सोनाली बेंद्रे, जो कैंसर सर्वाइवर भी हैं. उनसे बात की हार्पर बाज़ार और ब्राइड्स टुडे की एडिटर नोनिता कालरा ने. क्या बातें हुईं, जानते हैं..

बीमारी पर खुलकर बात करने को लेकर…

सोनाली को जबसे कैंसर डायग्नोस हुआ था, तबसे  वो इस मुद्दे पर खुलकर बात कर रही हैं. सोशल मीडिया के ज़रिये अब तक वो अपने एक्सपीरियंस शेयर करती रही हैं.  उन्होंने कहा –

“जो कुछ हुआ, वो डरावना था. इससे उबरने का मुझे सबसे बेहतर रास्ता लगा- इसके बारे में बात करना. मैंने बोलना शुरू किया और फिर जो रिस्पॉन्स मिला, वो हैरान करने वाला था. कितने सारे लोग हैं, जो इन्हीं सब तकलीफों (बीमारी और उसके बारे में बोल न पाने का दर्द) से गुज़र रहे हैं. लोग मुझसे अपनी बातें शेयर करने लगे, मुझे अपनी तस्वीरें भेजते थे. इसके बाद मैंने फैसला किया कि मुझे इन सब पर बात करना जारी रखना है.”

सेल्फ आइसोलेशन पर…

इस वक्त जिससे भी बात हो, कोरोना और आइसोलेशन का ज़िक्र हो ही जाता है. सोनाली से भी हुआ. उन्होंने कहा,

“देखिए, पहले ही बता दूं कि टेक्नॉलजी में मेरा हाथ हमेशा से तंग रहा है. लेकिन अब सोच रही हूं ये सब टेक्नॉलजी न होती तो हम आइसोलेशन में क्या कर रहे होते! जैसे आज ही मैं सुबह से कुछ लो-एनर्जी किस्म का फील कर रही थी. लेकिन फिर जैसे ही याद आया कि इस ई-कॉन्क्लेव से जुड़ना है तो मैं अच्छा फील करने लगी. हम भी तो टेक्नॉलजी के ज़रिये ही बात कर पा रहे हैं. मैं इसी तरह लगातार अपने दोस्तों से जुड़ी हूं. घर पर भी गोल्डी (सोनाली के पति) है, मेरा बेटा है.”

इंस्टाग्राम और किताबों को लेकर प्यार…

सोनाली इंस्टाग्राम पर काफी एक्टिव रहती हैं. साथ ही किताबों की भी शौकीन हैं. इन दोनों पर उन्होंने बात की..

“जब कैंसर जैसी बीमारी का इलाज चल रहा हो तो इंसान की इम्युनिटी ज़ीरो हो जाती है. तभी मैंने सोचा कि इंस्टाग्राम वीडियोज़ के ज़रिये इसी पर बात की जाए. वहीं से ये शुरू हुआ. मैं सबको सलाह दूंगी कि हरी चीज़ों को अपने खाने में ज़रूर शामिल करें. ऐसी डाइट लें, जिसमें एंटी-ऑक्सीडेंट्स हों. और किताबें तो मैं रेग्युलर पढ़ती रहती हूं. फिलहाल मैं टेड चियांग की बुक पढ़ रही हूं.”

सोनाली ने बताया कि इस लॉकडाउन में उन्होंने अष्टांग योग सीखने की ठानी है. शुरुआत 15 मिनट की प्रैक्टिस से की थी. अब वो करीब-करीब एक घंटे की योग प्रैक्टिस कर रही हैं.

उन्होंने एक और मज़ेदार बात बताई. पिछले साल जब वो कैंसर ट्रीटमेंट कराके घर वापस लौटीं, तो सबसे पहले अपने पेट डॉग को ट्रेडमिल पर चलना सिखाया. ताकि वो उन्हें ट्रेडमिल पर कंपनी दे सके और सोनाली को ये फील आए कि वो अपने डॉग को वॉक पर लेकर निकली हैं.


कैंसर सर्जन डॉ सिद्धार्थ मुखर्जी ने भारत की जनसंख्या को ध्यान में रख कोरोना वैक्सीन पर क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह नहीं रहे, पीएम मोदी ने कहा-

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह नहीं रहे, पीएम मोदी ने कहा- "बातें याद रहेंगी"

जसवंत सिंह अटल सरकार के कद्दावर मंत्रियों में से थे.

IPL2020 के जरिए टीम इंडिया में आएगा फाजिल्का का ये लड़का?

IPL2020 के जरिए टीम इंडिया में आएगा फाजिल्का का ये लड़का?

सबकी उम्मीदें शुभमन गिल से लगी है.

आप दीपिका और रकुल प्रीत में उलझे रहे और राजस्थान में इतना बड़ा कांड हो गया!

आप दीपिका और रकुल प्रीत में उलझे रहे और राजस्थान में इतना बड़ा कांड हो गया!

दो दिन से बवाल चल रहा है.

मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने वाले इस क़ानून को जरूरी बनाने की बात से पलटी मार ली

मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने वाले इस क़ानून को जरूरी बनाने की बात से पलटी मार ली

और यह जानकारी ख़ुद सरकार ने दी है.

किसान कर्फ्यू से पहले किसानों ने कहां-कहां ट्रेन रोक दी है?

किसान कर्फ्यू से पहले किसानों ने कहां-कहां ट्रेन रोक दी है?

कई ट्रेनों को कैंसिल किया गया, कई के रूट बदले गए.

केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी का कोविड-19 से निधन

केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी का कोविड-19 से निधन

दिल्ली के एम्स में उनका इलाज चल रहा था.

धोनी का वर्ल्ड कप जिताने वाला सिक्सर याद है! वो अब स्टेडियम में अमर होने वाला है

धोनी का वर्ल्ड कप जिताने वाला सिक्सर याद है! वो अब स्टेडियम में अमर होने वाला है

भारत में किसी खिलाड़ी को जो मुकाम हासिल नहीं हुआ, वो अब धोनी को मिलने वाला है.

अंतरिक्ष में भी लद्दाख जैसी हरकतें कर रहा है चीन

अंतरिक्ष में भी लद्दाख जैसी हरकतें कर रहा है चीन

भारत के सैटेलाइट पर है ख़तरा!

चुनाव लड़ने के लिए गुप्तेश्वर पांडे ने दूसरी बार पुलिस सेवा से रिटायरमेंट ले ली है

चुनाव लड़ने के लिए गुप्तेश्वर पांडे ने दूसरी बार पुलिस सेवा से रिटायरमेंट ले ली है

2009 में भी गुप्तेश्वर पांडे ने वीआरएस लिया था, पर तब बीजेपी ने टिकट नहीं दिया था.

दिल्ली दंगे के लिए पुलिस ने अब इस ग्रुप को जिम्मेदार ठहराया है

दिल्ली दंगे के लिए पुलिस ने अब इस ग्रुप को जिम्मेदार ठहराया है

चार्जशीट में दिल्ली पुलिस ने और क्या कहा है?