Submit your post

Follow Us

नेपाल के पीएम बोले- चीन और इटली से ज्यादा खतरनाक है भारतीय वायरस

सीमा विवाद के चलते भारत और नेपाल के बीच तल्खी बढ़ती जा रही है. नेपाल के पीएम केपी शर्मा ओली ने 19 मई को वहां की संसद में भारत के खिलाफ बयानबाजी की. कोरोना वायरस पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि बाहर से लोगों के आने की वजह से वायरस को कंट्रोल करना मुश्किल हो गया है. उन्होंने कहा कि भारतीय वायरस अब चीन और इटली की तुलना में ज्यादा घातक लग रहा है.

ओली ने कहा कि जो लोग अवैध चैनलों के जरिए भारत से आ रहे हैं, वे देश और कुछ स्थानीय प्रतिनिधियों में वायरस फैला रहे हैं.


इसके अलावा उन्होंने कहा कि लिपुलेख, कालापानी और लिंपियाधुरा इलाके नेपाल के हैं. और किसी भी कीमत पर वो इन इलाकों को नेपाल के नक्शे में  मिलाकर रहेंगे. उन्होंने कहा कि भारत से इस बारे में राजनीतिक और कूटनीतिक दोनों स्तर पर बात की जा रही है.

विवाद क्यों हुआ?

बता दें कि 8 मई को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भारत और चीन को जोड़ने वाली सड़क का उद्घाटन किया. यह सड़क उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले को लिपुलेख दर्रे से जोड़ती है. कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जाने वाले तीर्थयात्री इसी रास्ते से जाते हैं. नेपाल का दावा है कि भारत ने उसके इलाके में सड़क बनाई है. लिपुलेख दर्रा उसका हिस्सा है. भारत का कहना है कि उसने अपने हिस्से में ही सड़क बनाई है. इसी को लेकर भारत और नेपाल के बीच तनातनी है. नेपाल में भारत के खिलाफ प्रदर्शन भी हुए हैं.

भारत के लिपुलेख दर्रे तक सड़क बनाने पर नेपाल में काफी विरोध-प्रदर्शन भी हुए हैं. (Photo: AP)
भारत के लिपुलेख दर्रे तक सड़क बनाने पर नेपाल में काफी विरोध-प्रदर्शन भी हुए हैं. (Photo: AP)

अब नेपाल के पीएम ने क्या कहा?

इसी मामले पर ओली ने नेपाल की संसद में बयान दिया. उन्होंने कहा कि कैबिनेट ने नेपाल के नए राजनीतिक नक्शे को स्वीकार कर लिया है. इसमें लिपुलेख, कालापानी और लिंपियाधुरा तीनों इलाके नेपाल की सीमा में हैं. उन्होंने कहा,

ये इलाके नेपाल के हैं. भारत ने वहां पर सेना तैनात कर इसे विवादित इलाका बना दिया. भारतीय सेना के वहां होने से नेपाली लोग वहां जा नहीं पा रहे. भारत ने 1962 से वहां पर सेना तैनात कर रखी है. हमारी पुरानी सरकारें और शासक इस मसले को उठाने से हिचकते रहे. लेकिन हम इन जगहों को वापस लेकर रहेंगे. अब यह मसला भुलाया नहीं जाएगा. अगर कोई गुस्सा होता है तो हमें फर्क नहीं पड़ेगा.

नक्शे में जो लाल निशान में जगह दिख रही है वही है लिपुलेख दर्रा. यह भारत, नेपाल और चीन सीमा के पास पड़ता है. (Google Map)
नक्शे में जो लाल निशान में जगह दिख रही है वही है लिपुलेख दर्रा. यह भारत, नेपाल और चीन सीमा के पास पड़ता है. (Google Map)

चीन के दबाव को नकारा

ओली ने कहा कि उम्मीद है कि भारत सच्चाई के रास्ते पर चलेगा. उनका देश भारत से मजबूत रिश्ते चाहता है. नेपाल डिप्लोमेसी के रास्ते भारत के संपर्क में है. उन्होंने भारतीय सेना प्रमुख मनोज नरवाने के बयान पर भी पलटवार किया. कहा कि जो कुछ भी नेपाल कर रहा है, वह अपनी मर्जी से कर रहा है.

बता दें कि सेना प्रमुख ने कहा था कि नेपाल किसी और देश के कहने पर सीमा विवाद का मसला उठा रहा है. उनका इशारा चीन की ओर था.

और क्या कहा?

उन्होंने इन आरोपों पर भी जवाब दिया कि उनकी कु्र्सी चीन की मदद से बची. ओली ने कहा कि कुछ लोग कहते हैं एक विदेशी राजदूत ने उनकी सरकार गिरने से बचाई. ऐसे लोगों को याद रखना चाहिए कि यह सरकार नेपाल के लोगों ने चुनी है. ऐसे में कोई भी उन्हें सत्ता से बाहर नहीं कर सकता है.

नेपाल भारत के बीच झगड़े को समझने के लिए यह वीडियो देखिए-

Video: नेपाल को ‘लिपुलेख दर्रे’ के पास भारतीय सड़क पर आपत्ति क्यों?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

प्रियंका गांधी ने जो गाड़ियां यूपी भेजी हैं, उनमें कितनी बसें हैं, कितने ऑटो?

छह सूचियों में कुल 1049 गाड़ियों की डिटेल्स भेजी गई है.

देशभर में 200 और ट्रेनें चलने की तारीख़ आ गई है

इस बार ख़ुद रेल मंत्री ने बताया है.

लॉकडाउन 4: दफ़्तरों के लिए क्या गाइडलाइंस हैं?

इस लॉकडाउन में तमाम तरह की छूट दी गई हैं.

प्रियंका गांधी वाड्रा की 1000 बसों में कुछ नंबर ऑटो और कार के कैसे निकल गए?

हालांकि संबित पात्रा ने भी जिस बस को स्कूटर बताया, वहां एक पेच है.

मज़दूरों की लाश की ऐसी बेक़द्री पर झारखंड के सीएम कसके गुस्साए हैं

घायल मज़दूरों के साथ अमानवीय व्यवहार करने का आरोप.

कोरोना की वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर, जल्द ही आखिरी स्टेज का टेस्ट होने की उम्मीद

जुलाई के महीने को लेकर अहम बात भी कह डाली है.

केजरीवाल ने लॉकडाउन 4 में बहुत सारी छूट दे दी हैं

ऑड-ईवन आ गया, लेकिन ट्रांसपोर्ट में नहीं.

लॉकडाउन 4: पर्सनल गाड़ी से शहर या राज्य के बाहर जाने के क्या नियम हैं?

केंद्र सरकार ने इस पर क्या कहा है?

कोरोना संक्रमण के बीच स्विगी ने बहुत बुरी खबर दी है

दो दिन पहले जोमैटो ने भी ऐसा ही ऐलान किया था.

ममता बनर्जी ने लॉकडाउन के नियमों में बहुत बड़ा बदलाव किया है

केंद्र सरकार की नई बात मानने से मना कर दिया!