Submit your post

Follow Us

गेहूं पर सरकार के इस फैसले से क्या आटा सस्ता हो जाएगा?

आटा इस वक्त 12 साल में सबसे महंगा बिक रहा है. इसके बढ़ते भाव के कारण केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. सरकार ने गेहूं निर्यात (Wheat Exports) पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने की घोषणा की है. गेहूं के एक्सपोर्ट को अब ‘प्रतिबंधित’ सामानों की कैटेगरी में डाल दिया गया है. शुक्रवार, 13 मई की रात को केंद्र सरकार ने इस बारे में एक आधिकारिक नोटिफिकेशन जारी किया है.

ये फैसला इंटरनेशनल मार्केट में गेहूं के बेतहाशा बढ़ रहे दाम के मद्देनजर लिया गया है. इसके साथ ही, हीट वेव यानी लू के कारण गेहूं के पैदावार में गिरावट की आशंकाओं और घरेलू खाद्य दामों में तीव्र बढ़ोतरी भी इस फैसले की वजहों में शामिल है.

आपको बता दें कि अप्रैल 2022 में भारत में आटा औसत 32 रुपए 38 पैसे के दाम पर बिका. एक साल पहले आटा मिल रहा था 30 रुपए 3 पैसे प्रति किलो. माने 12 महीने में आटे का भाव 9.15 फीसदी बढ़ गया. इस 9 फीसदी की बढ़त में से 5.81 फीसदी तो जनवरी 2022 से अब तक के चार महीनों में ही बढ़ा है.

बैन से इन्हें मिलेगी छूट

नोटिफिकेशन जारी करते हुए विदेश व्यापार के डायरेक्टरेट जनरल ने कहा कि फैसला देश की खाद्य सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए लिया गया है. हालांकि, ये भी बताया गया है कि इस बैन का उन एक्सपोर्ट ऑर्डर पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा, जिनका लेटर ऑफ क्रेडिट 13 मई से पहले जारी हो चुका है.

आपको बता दें कि भारत के इस फैसले ने वैश्विक खाद्य कमी को दूर करने के लिए दुनिया भर में शिपमेंट भेजने की नीति को अचानक उलट दिया है. हालांकि, ये बताया जा रहा है कि इस फैसले को लेते हुए श्रीलंका के संकट को भी ध्यान में रखा गया है.

अपने आदेश में सरकार की ओर से स्पष्ट रूप से कहा गया कि अब से सिर्फ उन देशों को गेहूं एक्सपोर्ट किया जा सकता है, जिनकी इजाजत भारत सरकार देगी. सरकार ने कहा कि वो जरूरतमंद विकासशील देशों की सरकार का आग्रह का भी ध्यान रखेगी. फैसला ये ध्यान में रखकर लिया जाएगा कि उन देशों में भी खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित हो.

सरकार द्वारा जारी नोटिफिकेशन में बताया गया है,

‘भारत सरकार देश में, पड़ोसी देश और अन्य विकासशील देशों को खाद्य सुरक्षा उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है. खासकर, उन देशों को जहां ग्लोबल मार्केट में गेहूं की कीमतों में आए अचानक बदलाव से विपरीत असर हुआ है. और वे गेहूं की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने में अक्षम हैं.’

यूक्रेन-रूस युद्ध से गेहूं आपूर्ति प्रभावित

यहां आपको बता दें कि रूस-यूक्रेन तनाव के चलते वैश्विक बाजारों में गेहूं के दाम काफी प्रभावित हुए हैं. दरअसल, दोनों ही देश गेहूं के बड़े उत्पादक हैं. लेकिन, जब से युद्ध शुरू हुआ है, तभी से इसकी आपूर्ति बाधित हो गई है. यही कारण है कि इंटरनेशनल मार्केट में इसकी कीमतें 40 प्रतिशत तक बढ़ गई हैं. बात, घरेलू बाजार की करें तो गेहूं और आटा यहां भी महंगा बिक रहा है. अब भारत की ओर से लगाए इस बैन से वैश्विक खाद्य कीमतों पर और अधिक असर पड़ने की आशंका है.

सांकेतिक तस्वीर (साभार: पीटीआई)
सांकेतिक तस्वीर (साभार: पीटीआई)

इससे पहले सरकार ने अनुमान लगाया था कि इस बार गेहूं का अच्छा खासा एक्सपोर्ट किया जा सकेगा. सरकार ने फरवरी में पूर्वानुमान लगाया था कि इस बार करीब 111 मिलियन टन गेहूं की पैदावर हो सकती है. लेकिन, मार्च से ही शुरू हुए हीट वेव ने सारे हिसाब गड़बड़ कर दिए. अब गेहूं की पैदावार प्रभावित हुई तो इसके दाम और एक्सपोर्ट को लेकर सरकार को बड़ा फैसला करना पड़ा.


वीडियो-खर्चा-पानी: गेहूं एक्सपोर्ट तो बढ़ेगा, क्या किसानों को मिलेगा ज्यादा दाम?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

मुंडका अग्निकांड: मृतकों का आंकड़ा 26 तक पहुंचा, बचाव के लिए NDRF को बुलाया गया

मुंडका अग्निकांड: मृतकों का आंकड़ा 26 तक पहुंचा, बचाव के लिए NDRF को बुलाया गया

इस घटना ने दिल्ली के लोगों को हिलाकर रख दिया है.

छत्तीसगढ़ के रायपुर एयरपोर्ट पर सरकारी हेलीकॉप्टर क्रैश, दो पायलटों की मौत

छत्तीसगढ़ के रायपुर एयरपोर्ट पर सरकारी हेलीकॉप्टर क्रैश, दो पायलटों की मौत

क्रैश का कारण अभी साफ नहीं हो सका है.

जम्मू-कश्मीर में एक और कश्मीरी पंडित की हत्या, आतंकियों ने सरकारी दफ्तर में घुसकर गोली मारी

जम्मू-कश्मीर में एक और कश्मीरी पंडित की हत्या, आतंकियों ने सरकारी दफ्तर में घुसकर गोली मारी

मृतक राहुल भट्ट राजस्व विभाग में कार्यरत थे.

क्या क्रिप्टो करंसी के बुरे दिन शुरू हो गए हैं ? छह महीने में आधी हो गईं कीमतें

क्या क्रिप्टो करंसी के बुरे दिन शुरू हो गए हैं ? छह महीने में आधी हो गईं कीमतें

30% इनकम टैक्स के बाद अब 28% जीएसटी लगाने की तैयारी

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल मीटिंग में पीएम मोदी ने नाम ले-लेकर सुनाया.

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

जानकारों ने जहांगीरपुरी में निकले जुलूस पर सवाल उठाए हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

मौजूदा आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवणे के रिटायर्ड होने पर पदभार संभालेंगे.

LIC का IPO: सरकार अब जो करने जा रही है उससे छोटे निवेशकों को फायदा है

LIC का IPO: सरकार अब जो करने जा रही है उससे छोटे निवेशकों को फायदा है

LIC के IPO में बहुत कुछ बदलने जा रहा है. अगले हफ्ते आ सकता है अपडेटेड प्रॉस्पेक्टस.

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

अभी ये सुविधा कुछ ही बैंको तक सीमित है.

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

2013 की बात है जब चहल मुंबई इंडियन्स की तरफ से खेलते थे.