Submit your post

Follow Us

लद्दाख में तकरार बढ़ी, तीन जगह चीनी सेना ने मोर्चा लगाया, तंबू गाड़े

भारत और चीन के बीच सीमा पर विवाद और तनाव बढ़ रहा है. दोनों देशों के बीच लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर तनातनी की खबरें हैं. दोनों ओर के सैनिकों ने यहां पर मोर्चा संभाला हुआ है. इसी बीच दावा किया गया है कि कुछ भारतीय सैनिकों को चीन ने हिरासत में ले लिया था. हालांकि सेना ने इसका खंडन किया है.

भारतीय सैनिकों को डिटेन करने पर क्या लिखा है?

इंडिया टुडे ने सूत्रों के हवाले से लिखा है कि पिछले सप्ताह भारतीय गश्ती दल को चीनी सैनिकों ने डिटेन किया था. हालांकि यह डिटेंशन थोड़ी देर के लिए ही था. फिर भारतीय सैनिकों को जाने दिया गया. उनके हथियार भी वापस कर दिए गए. एनडीटीवी ने भी भारतीय सैनिकों को डिटेन किए जाने की खबर दी है. इसमें एक सीनियर नौकरशाह के हवाले से लिखा है कि पिछले बुधवार यानी 13 मई को हालात काफी विस्फोटक हो गए थे. भारत और चीन के सैनिक भिड़ गए थे. इसके बाद कुछ भारतीय जवानों को हिरासत में लिया गया था. हालांकि बाद में उन्हें छोड़ दिया गया.

सेना ने खारिज किए दावे

भारतीय सेना ने हालांकि इन खबरों का खंडन किया. सेना के प्रवक्ता कर्नल अमन आनंद ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा कि चीन सीमा पर भारतीय सैनिकों को डिटेन नहीं किया गया. इस तरह की खबरों को पूरी तरह खारिज करते हैं. जब मीडिया संस्थान अप्रमाणित खबरें छापते हैं तो इससे राष्ट्रीय हितों को नुकसान पहुंचता है.

पिछले कुछ दिनों में सिक्किम और लद्दाख में भारत-चीन सेना के आमने-सामने होने की खबरें आई हैं. लद्दाख में पेंगोंग झील और गैलवान नदी के पास लगातार चीनी सैनिकों की मौजूदगी दर्ज की गई है.

पैंगोग लद्दाख में है जो कि अब एक केंद्र शासित प्रदेश है. फोटो: गूगल मैप्स
पैंगोग लद्दाख में है जो कि अब एक केंद्र शासित प्रदेश है. फोटो: गूगल मैप्स

लद्दाख में सड़क बनाने पर चीन को ऐतराज

इंडिया टुडे के अभिषेक भल्ला की रिपोर्ट के अनुसार, भारत लद्दाख में एक सड़क बना रहा है. चीन इसका विरोध कर रहा है. इसी के चलते गतिरोध बढ़ा है. उन्होंने लिखा कि यह सड़क भारतीय इलाके में है. इसी को लेकर सबसे पहले इस महीने के शुरू में दोनों ओर के सैनिक भिड़ गए थे. इसके बाद सिक्किम के नाकू ला में भी हाथापाई हुई थी.

तीन जगह भारत और चीन के सैनिक जमे

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार, 5 और 6 मई की रात को दोनों देशों के सैनिकों में पेंगोंग झील के पास टकराव हो गया था. इसमें दोनों तरफ के सैनिक घायल हुए थे. अखबार ने सूत्रों के हवाले से लिखा है कि भारतीय सीमा में तीन जगहों पर चीनी घुसपैठ दर्ज की गई. तीनों जगह आपस में 2 से 3 किलोमीटर दूर-दूर है. तीनों जगह चीन के 800 से 1000 सैनिक भारतीय सीमा में दाखिल हो गए. चीन ने यहां पर तंबू लगा लिए. साथ ही बड़ी गाड़ियां और निगरानी का सामान भी इकट्ठा कर रखा है. LAC के पास चीन के हैलीकॉप्टर देखे जाने की बात भी सामने आई है.

एक टि्वटर यूजर ने चीनी सैनिकों की तैनाती को दिखाते हुए ट्वीट किया.

रिपोर्ट में सूत्रों के अनुसार लिखा है कि इस इलाके में चीनी सैनिकों की संख्या के बराबर ही भारतीय सैनिक भी तैनात किए गए हैं. इनके और चीनी सैनिकों के बीच 300 से 500 मीटर की दूरी है. खबर के अनुसार, अभी तक दोनों देशों के लोकल मिलिट्री कमांडर पांच बार मीटिंग कर चुके हैं. लेकिन हालात में कोई सुधार नहीं है.

भारतीय सेना की तैनाती दिखाता ट्वीट-

भारत बढ़ा रहा सेना की मौजूदगी

वहीं द हिंदू ने लिखा है कि पेंगोंग, गैलवान नदी और डेमचोक के पास हालात तनावपूर्ण है. भारत लद्दाख के साथ ही सिक्किम में भी सैनिकों की मौजूदगी बढ़ाई जा रही है. सूत्रों के हवाले से द हिंदू ने लिखा है कि जिन जगहों पर चीनी सैनिक रुके हुए हैं, वह सामरिक रूप से काफी अहम है. ये इलाके 255 किलोमीटर लंबी दारबुक-श्योक-दौलत बाग ओल्डी सड़क के पास ही पड़ते हैं. भारतीय सेना के लिए यह रोड काफी अहम है.

चीन क्यों कर रहा है घुसपैठ

एक्सप्रेस की रिपोर्ट में कहा गया है कि LAC के पास भारत के इंफ्रास्ट्रक्चर बढ़ाने के चलते चीन ने घुसपैठ बढ़ाई है. सेना के हलकों में भी इस तरह की चर्चा है.

भारत और चीन सेना के जवान. यह फोटो साल 2006 की है. (File Photo:AP)
भारत और चीन सेना के जवान. यह फोटो साल 2006 की है. (File Photo:AP)

द हिंदू ने चीनी घुसपैठ की बढ़ती संख्या पर इस इलाके में तैनात रहे एक अफसर से बात की है. उसने बताया कि बहुत सारी जगहों पर सैनिकों के बीच झड़प देखने को मिल रही है. यह चीनी सेना की सोची-समझी योजना लग रही है. यह बड़ी चिंता की बात है. सेना की उत्तरी कमांड के पूर्व अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर द हिंदू से कहा,

आमतौर पर लोकल एरिया में ही गतिरोध होता है. ऐसे गतिरोध लोकल लेवल पर ही दूर कर लिए जाते हैं. लेकिन अभी के हालात बताते हैं कि इसकी योजना चीन में ऊपर के लेवल पर तैयार हुई है. इसका निपटारा कूटनीतिक और राजनीतिक स्तर पर ही होगा.

4 महीने में 170 बार घुसपैठ

सैन्य अधिकारियों का कहना है कि LAC पर अभी जो हालात हैं, वैसे हाल-फिलहाल में कभी नहीं देखे गए. आधिकारिक आंकड़े के अनुसार, साल 2020 के पहले चार महीनों में चीन ने 170 बार घुसपैठ की. इनमें से 130 मामले लद्दाख के हैं. अगर साल 2019 के पहले चार महीनों के आंकड़े देखें तो उस समय इस तरह की हरकत 110 बार हुई थी.


Video: लद्दाख की इस सड़क को लेकर क्यों आमने-सामने हैं भारत और चीन की सेनाएं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

मध्य प्रदेश में एक शख्स को पुलिसवाले ने बुरी तरह पीटा, 10 दिन बाद वीडियो वायरल

वीडियो सामने आने के बाद दो पुलिसवाले सस्पेंड

न हेडिंग न फोटो, न्यूयॉर्क टाइम्स ने फ्रंट पेज पर सिर्फ कोरोना से मरने वालों के नाम छापे

कोरोना से अमेरिका में लगभग एक लाख मौतें.

UP: अस्पताल में कोरोना मरीजों के मोबाइल इस्तेमाल पर लगाई पाबंदी सरकार ने हटाई

कुछ शर्तों के साथ सरकार ने मोबाइल के इस्तेमाल की इजाजत दी है.

कोरोना पर हाईकोर्ट ने गुजरात सरकार को क्या-क्या नहीं कह डाला है

टेस्टिंग से लेकर वेंटिलेटर्स की कमी पर सवाल उठाए. स्वास्थ्य मंत्री को भी नहीं छोड़ा.

मोदी के मंत्री ने बताया, चीन से जो बिज़नेस टूटेगा, वो कहां जाएगा

इंडिया टुडे ई-कॉन्क्लेव में सरकार और बिज़नेस से जुड़े लोग पहुंचे.

MP: 30 हजार का बिल आया, शिकायत पर जवाब मिला- बिल में छूट पाना है तो बीजेपी को हटाना है

मामला उस क्षेत्र का है जहां उपचुनाव होने हैं.

एमपी में 200 कांग्रेसी अब बीजेपी के हुए, सीएम और प्रदेश अध्यक्ष ने किया स्वागत

कमलनाथ ने बीजेपी पर सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों को तोड़ने का आरोप लगाया.

यूपी के अस्पतालों में कोरोना के मरीज अब मोबाइल यूज नहीं कर पाएंगे!

आदेश में कहा गया है कि मोबाइल से फैलता है कोरोना.

राजस्थान में पुलिस अधिकारी ने की आत्महत्या, विपक्ष ने की सीबीआई जांच की मांग

आरोप लग रहे हैं कि राजनीतिक दबाव के चलते SHO ने जान दे दी.

सिक्किम को नेपाल, भूटान की तरह बताया, केजरीवाल सरकार को हटाना पड़ा ऐड

ऐड सिविल डिफेंस कोर को लेकर दिया गया था.