Submit your post

Follow Us

आतंक के खिलाफ खड़े हैं ये मुसलमान, मीडिया कर रही है इग्नोर

पूरी दुनिया में मुसलमानों को शक की निगाहों से देखने का चलन हाल के सालों में बहुत ज़्यादा बढ़ा है. ख़ास तौर से पश्चिमी देशों में एक अजीब तरह की नफ़रत बड़े संगठित तरीके से फैलाई जा रही है. जहां एक तरफ अतिवादी मुस्लिम ग्रुप्स ने हैवानियत का नंगा नाच दिखाते हुए इस्लाम के शांति का मज़हब होने के दावों के परखच्चे उड़ा दिए हैं, वहीं इस खूंरेज़ी का विरोध करती मुस्लिम अवाम की आवाज़ को स्पेस ना देकर मीडिया ने भी इस पूर्वाग्रह को पनपने में हद से ज़्यादा मदद की है. ऐसी ही एक घटना हाल के दिनों में हुई, लेकिन जिसकी चर्चा कहीं नहीं थी.

पिछले रविवार और सोमवार को कर्बला में लाखों की संख्या में निकले अर्बाइन जुलूस का ज़िक्र मुख्यधारा की मीडिया से नदारद होना खटकता भी है और चिंता भी पैदा करता है. आख़िर क्या वजह है जो मुसलमानों का एक साहसिक कदम यूं नज़रअंदाज़ किया गया! विश्वपटल पर अलग-थलग होती जा रही मुस्लिम बिरादरी की ऐसी किसी सकारात्मक पहल को अगर यूं ज़ाया जाने दिया गया तो आतंक के खिलाफ़ लड़ाई में समूची दुनिया कमज़ोर ही रहेगी.

हर साल इमाम हुसैन की शहादत का शोक मनाने के आखिरी यानी चालीसवें दिन कर्बला में इस अर्बाइन जुलूस का आयोजन होता है. जहां दुनिया भर से शिया मुसलमान इकठ्ठा होते हैं और अपनी संवेदनाएं प्रकट करते हैं. पिछले कुछ सालों में इस आयोजन को ISIS के विरोध के रूप में इस्तेमाल किया जाने लगा है. जबसे ISIS ने शिया मुसलमानों के साथ एक ज़हरीली विचारधारा के तहत कत्लेआम का सिलसिला शुरू किया तबसे इस आयोजन पर हमेशा से ख़तरे के बादल मंडराते हैं. इसके बावजूद भी लोग ना सिर्फ घर से निकले बल्कि बड़ी संख्या में निकले. लाखों लोगों ने इस आयोजन में बिना ख़तरे की परवाह किए हिस्सा लिया. बच्चे, बूढ़े,औरतें सभी ने. और ये तब जब महज़ एक हफ्ते पहले ही कर्बला के पास ISIS के सुसाइड बॉम्बर हमले में लगभग अस्सी लोगों की मौत हो गई थी.

जिस जगह मौत मंडरा रही हो, कब किसी कोने से निकल कर कोई आप पर हमला कर दे इसका भरोसा न हो, ऐसी जगह बड़ी संख्या में इकट्ठा होना दर्शाता है कि मुसलमानों का एक विशाल वर्ग खूंरेज़ी के इस खेल से आज़िज़ आ चुका है और अपना विरोध दर्ज कराना चाहता है. चाहे जिस तरह हो. ऐसे में मेनस्ट्रीम मीडिया का फ़र्ज़ बनता है कि वो उनकी आवाज़ बने.

हमेशा स्याह पहलू दिखाने वाले सफ़ेद को भी देखें. आतंकवादी घटनाओं में मुसलमानों की शिरकत की खबरें जिस दिलचस्पी से दिखाई-पढ़ाई जाती हैं उसी दिलचस्पी से मुसलमानों द्वारा की जा रही मुखालफ़त को भी दिखाया जाए. ये फ़र्ज़ है मीडिया का. अपने पेशे के प्रति भी और मनुष्यता के लिए भी.

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

चोटिल बेटे को खटिया पर लादकर 900 किमी दूर घर के लिए निकल पड़ा ये मज़दूर

पंजाब से चला था परिवार, मध्य प्रदेश जाना था.

20 लाख करोड़ के राहत पैकेज की आख़िरी किश्त में मनरेगा को 40 हजार करोड़, अन्य को क्या मिला?

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सात सेक्टर्स के लिए घोषणाएं कीं.

यूपी: औरैया में दो ट्रक टकराने से 24 मज़दूर मारे गए, योगी ने कई पुलिसवालों को सस्पेंड किया

पीएम मोदी ने घटना पर शोक जताया है.

घर-घर खाना पहुंचाने वाली ये कंपनी 600 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल रही है

राहत वाली बात ये है कि छह महीने तक आधी सैलरी मिलती रहेगी.

बंगाल में हफ्तेभर से क्या बवाल चल रहा है, जिसमें 129 लोग गिरफ्तार हो चुके हैं

‘तुम कोरोना फैला रहे हो’ कहकर हमला किया, हिंसा भड़की.

लंबे वक्त तक क्रिकेट के नक्शे पर पाकिस्तान को जिंदा रखा था इस जोड़ी ने

वो दिन, जब मिस्बाह-उल-हक़ और यूनिस खान ने क्रिकेट को अलविदा कहा

कश्मीर : चेकप्वाइंट पर गाड़ी नहीं रोकी तो आम नागरिक को CRPF ने गोली मार दी?

क्या है घटना का सच?

रेलवे ने टिकट कटा चुके लोगों को बड़ा झटका दिया है

इसका श्रमिक और स्पेशल ट्रेनों पर क्या असर पड़ेगा?

20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज में से पहले दिन वित्त मंत्री ने क्या-क्या ऐलान किया?

20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की डिटेल दी.

पीएम मोदी ने जिस Y2K क्राइसिस का ज़िक्र किया, वो क्या था?

पीएम ने 12 मई को देश को संबोधित किया.