Submit your post

Follow Us

गोरक्षकों की वापसी: गोमांस की अफवाह में तीन मुस्लिमों को पीटा, जबरन 'जय श्रीराम के नारे' लगवाए!

मध्य प्रदेश. यहां का एक जिला है सिवनी. खुद को गोरक्षक बताने वाले कुछ लोगों ने तीन मुस्लिमों को गोमांस ले जाने के अफवाह में बेरहमी से पीटा. इस घटना का वीडियो भी सामने आया है. वीडियो में दिख रहा है कि कुछ युवक एक महिला सहित तीन लोगों को बंधक बनाकर पीट रहे हैं. पीड़ितों का कहना है कि उनकी पिटाई करने वालों ने ‘जय श्री राम’ के नारे लगाने के लिए मजबूर किया. वीडियो में दिख भी रहा है कि पिटाई करने वाले जय श्री राम के नारे लगाने के लिए कह रहे हैं.

खुद को गोरक्षक बताने वाले कुछ लोगों की नोकझोंक हुई थी. उनका कहना था कि ऑटो में यात्रा कर रहे दो मुस्लिम युवक और एक महिला गोमांस ले जा रहे थे. इंडिया टुडे में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है. एक व्यक्ति को भी गिरफ्तार किया गया है. अन्य आरोपियों की तलाश जारी है.

वीडियो में क्या है

वीडियो में दिख रहा है दो युवक एक युवक पर लाठी-डंडे बरसा रहे हैं. युवक चिल्ला रहा है, गिड़गिड़ाता रहा है, रहम की भीख मांग रहा है लेकिन कथित गोरक्षक उसे पीट रहे हैं. पहले पेड़ से बांधकर पीटा गया. फिर युवक को जमीन पर गिराकर पीटा गया. दूसरे युवक के साथ भी वैसा ही सलूक किया गया. दूसरे शख्स को भी जमकर पीटा गया. इतना ही नहीं इन गुंडों ने महिला को भी नहीं बख्शा. उसके साथियों के हाथों ही उस पर चप्पल चलवाई. जबरन जय श्रीराम के नारे लगवाए.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक घटना 22 मई की है लेकिन वीडियो वायरल होने के बाद 24 मई को पुलिस को इसका पता चला. डुंडा सिवनी पुलिस स्टेशन के प्रभारी गणपत उइके ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि,

शुभम बघेल, एक आदतन अपराधी, योगेश उइके, दीपेश नामदेव, रोहित यादव और श्याम डेहरिया को मारपीट के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. पांचों के खिलाफ आईपीसी की धारा 143, 148, 149, 341, 294, 323 और 506 के तहत मामला दर्ज किया गया है.साथ ही उन पर हथियार अधिनियम की धाराएं भी दर्ज की गई हैं.

22 मई की घटना

22 मई को, गोरक्षकों ने पुलिस को सूचित किया था कि कुछ लोग गोमांस लेकर जा रहे हैं. इसके बाद पुलिस ने तौफीक, अंजुम शमा और दिलीप मालवीय को गोहत्या अधिनियम के तहत गिरफ्तार कर लिया. मांस को परीक्षण के लिए प्रयोगशाला में भेज दिया गया. सिवनी के एसपी ललित शाक्यवार ने कहा कि स्थिति नियंत्रण में है. गणपत ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि तीन में से एक व्यक्ति के रिश्तेदार ने वीडियो सामने आने के बाद एफआईआर दर्ज कराई है.

इस घटना पर एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट कर कहा कि,

मोदी के मतदाताओं द्वारा चुने गए गोरक्षक मुसलमानों के साथ किस तरह का व्यवहार करते हैं, देख लीजिए. न्यू इंडिया में आपका स्वागत है जो कि सबको साथ लेकर चलने की बात करता है. और मोदी कहते हैं कि सेक्युलरिज्म का नकाब… (पीएम मोदी ने कहा था कि इस चुनाव में सेक्युलरिज्म का नकाब उतर गया है, अब कोई सेक्युलरिज्म की बात नहीं करता)

मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार है. कमलनाथ मुख्यमंत्री हैं. लॉ एंड ऑर्डर राज्य सरकार की जिम्मेदारी है. सवाल ये है कि आखिर इस तरह की घटनाएं कब बंद होंगी? राज्य कोई भी हो, सरकार किसी की भी हो इस तरह के लोगों की हिम्मत बढ़ क्यों रही हैं. ऐसे लोग कानून को अपने हाथ में क्यों ले रहे हैं. एक मिनट के लिए मान लेते हैं कि आरोपी गोमांस ले जा रहे थे. लेकिन ये अधिकार किसने दे दिया कि उन्हें पीटा जाए. जबरदस्ती जय श्री राम के नारे लगवाए जाएं.


कन्नौज में कैसे सुब्रत पाठक ने डिंपल यादव को हराया?| दी लल्लनटॉप शो| Episode 223

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

इन राज्यों में शराब की होम डिलीवरी कैसे होगी, क्या हैं नियम और तरीके?

शराबियों ने सोशल डिस्टेंसिंग तोड़ी, तो सरकार ने यह तरीका निकाला है.

हॉस्पिटल ने कह दिया कि दाढ़ी कटवाओ, अब डॉक्टर प्रोटेस्ट कर रहे हैं

काम से हटाए जाने के बाद ये लोग विरोध कर रहे हैं.

क्या कोरोना मरीजों से प्राइवेट अस्पताल मोटी फीस वसूल रहे हैं?

मुंबई से ऐसे कई मामले आए हैं.

पूरी दुनिया में पेट्रोल-डीजल पर सबसे ज्यादा टैक्स भारत में लिया जा रहा है

इस मामले में भारत ने फ्रांस और जर्मनी को पीछे छोड़ दिया है.

इज़रायल का दावा, कोरोना की दवा मिल गयी!

बस बड़े लेवल पर निर्माण का इंतज़ार.

कोरोनावायरस : आंकड़े की जांच हुई तो पश्चिम बंगाल का सच सामने आ गया!

पश्चिम बंगाल का कोरोना से जुड़ी मौतों का आंकड़ा छिपा रहा है?

दिल्ली में शराब पर सरकार की ‘स्पेशल फीस’

..ताकि ‘रहें सलामत पीने वाले’.

लद्दाख BJP अध्यक्ष ने छोड़ी पार्टी, कहा- लद्दाख के लोगों के बारे में न पार्टी सुन रही, न प्रशासन

चेरिंग दोरजे दो महीने पहले ही अध्यक्ष बनाए गए थे.

सूरत में प्रवासी मज़दूरों का सब्र फिर जवाब दे गया है

इस बार भी बीच में पुलिस ही पिस रही है.

यूपी : CM योगी के मृत पिता के बहाने लॉकडाउन में बद्रीनाथ-केदारनाथ जा रहे थे विधायक, पुलिस ने धर लिया

नौतनवा के विधायक अमनमणि त्रिपाठी का है मामला.