Submit your post

Follow Us

5 गुंडों ने पति के सामने गैंग रेप कर वीडियो वायरल किया

अलवर में पति के सामने ही महिला से गैंगरेप. आरोपियों ने वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर किया वायरल. पुलिस ने मामला दर्ज कर की आरोपियों की तलाश शुरू.

-ऊपर की लाइनें न्यूज़ चैनल्स में लिखे जाने वाली हेडलाइन्स के फॉर्मेट में लिखी गई है. 2 लाइन में खबर चली फिर कहानी खत्म. लेकिन खबर इतनी ही नहीं है. खबर भयावह है. इस खबर में वो सारे तत्व है जिसकी वजह से इंसान का पुलिस और प्रशासन पर विश्वास कम हो जाए. आपको खबर विस्तार से बताते हैं.

घटना 26 अप्रैल की है. एक महिला अपने पति के साथ अलवर के लालवाड़ी से तालवृक्ष जा रही थी. तभी इलाके के 5 बदमाशों ने आकर उन्हें घेर लिया. उन्होंने पति-पत्नी के साथ ज़बरदस्ती की. सभी बदमाश पति-पत्नी को डरा-धमका कर पास के टीले पर लेकर गए. वहां बदमाशों ने पति-पत्नी के कपड़े खुलवाए, बदसलूकी की. फिर पति के सामने ही पत्नी के साथ गैंग रेप किया.

बात यहीं नहीं रुकी. सभी बदमाशों ने पूरे वारदात का वीडियो भी बनाया. तस्वीरें भी खींची. साथ ही साथ धमकी दी कि अगर उन्होंने मुंह खोला तो वीडियो और तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल कर देंगे.

आरोपी पति-पत्नी को बंधक बनाकर रेत के टीले के पास ले गए, जहां उन्होंने महिला के साथ गैंगरेप किया.
आरोपी पति-पत्नी को बंधक बनाकर रेत के टीले के पास ले गए, जहां उन्होंने महिला के साथ गैंगरेप किया.

करीब 2 घंटे बारी-बारी से रेप करने के बाद बदमाश पति-पत्नी को उस वक्त के लिए छोड़ तो दिया. लेकिन उन्होंने उन लोगों का पीछा नहीं छोड़ा. एफआईआर में लिखी बातों के मुताबिक आरोपी ने उन्हें फिर से फोन किया. फोन करके वीडियो वायरल करने की धमकी देकर पैसे मांगने लगे. महिला ने कहा कि वो गरीब है उसके पास पैसे नहीं है. जिसके बाद आरोपियों ने तस्वीरें और वीडियोज़ सोशल मीडिया पर वायरल कर दिए.

पीड़िता ने इस मामले की जानकारी पुलिस को दी. 2 मई को एफआईआर दर्ज करवाया. 8 धाराओं में एफआईआर भी दर्ज हुई. लेकिन आरोपियों को पुलिस पकड़ नहीं पाई. पुलिस ने तर्क दिया कि उनकी टीम चुनाव में व्यस्त थी. मामला मीडिया में उछला तो पुलिस ने आरोपियों को पकड़ने के लिए 5 टीमें तैयार कर दी.

26 अप्रैल की घटना के बाद पीड़िता ने 2 मई को मामला दर्ज करवाया, फिर भी पुलिस ने कार्रवाई नहीं की.
26 अप्रैल की घटना के बाद पीड़िता ने 2 मई को मामला दर्ज करवाया, फिर भी पुलिस ने कार्रवाई नहीं की.

पुलिस ने ये भी बताया कि आरोपी शख्स गुर्जर समाज से हैं, और सभी का राजनीतिक प्रभाव है. जिसकी वजह से महिला ने एफआईआर दर्ज करने में देरी कर दी. लेकिन अब पुलिस आरोपियों को जल्द पकड़ लेगी.

इस घटना से राजस्थान गुस्से में हैं. लोग गुस्से में महिला का वीडियो एक दूसरे को वायरल कर रहे हैं. पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए इस घटना का वीडियो एक दूसरे को फॉरवार्ड कर रहे हैं. विपक्ष सरकार पर सवाल उठाते हुए वीडियो शेयर कर रहा है. हमारा कहना है लोगों को ऐसा करने से बचना चाहिए. ये घटना भयानक तो है ही. लोगों में गुस्सा तो है ही लेकिन जाने-अनजाने में ऐसा करके किसी महिला के निजता का हनन कर रहे हैं. ऐसा नहीं होना चाहिए.

ये घटना 26 अप्रैल की है. मुकदमा 2 मई को दर्ज हुआ. लेकिन पुलिस ने कार्रवाई नहीं की. क्योंकि ‘वे चुनाव में व्यस्त थे’. हमारा मानना है कि ऐसे मामले में पुलिस को तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए. ऐसा ना करने पर ही लोगों को पुलिस जैसे संस्थान पर से विश्वास कम हो जाता है. अब पुलिस लाख तर्क दें, लेकिन घटना के इतने दिन बीत जाने पर भी पुलिस की बेरुखी पुलिस की कार्यशैली पर सवाल ज़रूर उठाती है.


लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

एंटी-CAA प्रोटेस्ट को उकसाने के आरोप में कपल गिरफ्तार, पुलिस ने कहा- ISIS से लिंक हो सकता है

दिल्ली के शाहीन बाग में 15 दिसंबर से प्रोटेस्ट चल रहा है.

सबसे ज्यादा रणजी मैच और सबसे ज्यादा रन, इस खिलाड़ी ने 24 साल बाद लिया संन्यास

42 की उम्र तक खेलते रहे, अब बल्ला टांगा.

लखनऊ में CAA विरोधी प्रदर्शन के दौरान 'तोड़फोड़ करने वाले' 57 लोगों के होर्डिंग लगाए

होर्डिंग पर पूर्व IPS एसआर दारापुरी और कांग्रेस कार्यकर्ता सदफ ज़फर जैसे लोगों का नाम.

दिल्ली दंगे के 'हिन्दू पीड़ितों' की मदद के लिए कपिल मिश्रा ने जुटाये 71 लाख, खुद एक पईसा नहीं दिया

अब भी कह रहे हैं, 'आप धर्म को बचाइये, धर्म आपको बचायेगा'

कांग्रेस सांसद का आरोप : अमित शाह का इस्तीफा मांगा, तो संसद में मुझ पर हमला कर दिया गया

कांग्रेस सांसद ने कहा, 'मैं दलित महिला हूं, इसलिए?'

निर्भया केस: चार दोषियों की फांसी से एक दिन पहले कोर्ट ने क्या कहा?

राष्ट्रपति ने पवन गुप्ता की दया याचिका खारिज कर दी है.

कश्मीर : हथियारों के फर्जी लाइसेंस बनवाने वाला IAS अधिकारी कैसे धरा गया?

हर लाइसेंस पर 8-10 लाख रूपए लेता था!

गृहमंत्री अमित शाह की रैली में आई भीड़ ने लगाया देश के गद्दारों को गोली मारो... का नारा!

ये नारा डरावना है, उससे भी डरावना है इसका गृहमंत्री की रैली में लगाया जाना.

दिल्ली के बाद मेघालय में भी हिंसा भड़की, दो की मौत, कई जिलों में इंटरनेट बंद

मामला CAA प्रोटेस्ट से जुड़ा है.

एक्टिंग छोड़ बीजेपी जॉइन की थी, अब कपिल मिश्रा और अनुराग ठाकुर की वजह से पार्टी छोड़ दी

बीजेपी नेता ने अपनी पार्टी के नेताओं पर बड़ा बयान दिया है.