Submit your post

Follow Us

ICC ने धोनी से कह दिया कि ग्लव्स पर से बलिदान बैज हटाओ

वर्ल्ड कप 2019. इंडिया वर्सेज साउथ अफ्रीका. भारत ने इस मैच में अफ्रीका को धूल चटा दी. बड़े आराम से मैच जीता. रोहित और चहल ने सुर्खियां बनाई. लेकिन एक और खिलाड़ी है जो सुर्ख़ियों से बाहर नहीं होता तो इस बार कैसे हो जाता. उसका नाम है महेंद्र सिंह धोनी. उनकी एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई. इसमें वो अपने ग्लव्स उतार रहे हैं जिसपर पैरा स्पेशल फोर्सेज का सिंबल ‘रेजिमेंटल डैगर’ बना हुआ था.

जब सोशल मीडिया पर ये खबर फैली तो लोग धोनी की तारीफ करने लगे. उनके आर्मी और देश के लिए प्यार पर भर भरके तालियां पड़ीं. लेकिन आईसीसी को धोनी का ऐसा करना पसंद नहीं आया. बोर्ड ऑफ़ बोर्ड्स का कहना है कि ऐसा कोई भी स्पेशल सिंबल पहनकर मैच में उतरना नियमों के खिलाफ है. आईसीसी ने बाकायदा बीसीसीआई ने ये रिक्वेस्ट की है कि वो धोनी के दस्तानों से ये निशान हटवा दे. हालांकि धोनी को पहली बार ऐसा करने के लिए कोई सजा नहीं मिलेगी लेकिन वो आगे से ऐसा नहीं कर पाएंगे.

धोनी पहले भी इस सिंबल का यूज़ कर चुके हैं. (फोटो-ऑफिशियल एमएसडियन.)
धोनी पहले भी इस सिंबल का यूज़ कर चुके हैं. (फोटो-ऑफिशियल एमएसडियन.)

दरअसल धोनी ने ‘बलिदान’ बैच के ग्लव्स शौकिया तौर पर नहीं पहने थे. उन्हें इंडियन आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल का मानद रैंक मिला हुआ है. वो 2015 में पैरा ब्रिगेड के तहत ट्रेनिंग भी कर चुके हैं. ऐसा पहली बार नहीं था जब उन्होंने इस निशान वाला कोई आइटम यूज़ किया हो. हां, क्रिकेट फील्ड पर ये पहली बार था. इससे पहले वो मैदान के बाहर ही ऐसी चीज़ें इस्तेमाल करते थे.


वीडियो:दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ़ मैच में धोनी के दस्तानों पर दिखा ‘बलिदान’ बैज आर्मी से जुड़ा है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

राज्यसभा की 18 सीटों में से कांग्रेस और बीजेपी ने कितनी जीतीं?

नतीजे आने शुरू हो गए हैं.

दिल्ली के हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन ऑक्सीजन सपोर्ट पर, दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किए गए

कुछ दिन पहले कोरोना पॉज़िटिव आए थे, अब प्लाज़मा थेरेपी दी जाएगी.

चीनी सेना की यूनिट 61398, जिससे पूरी दुनिया के डेटाबाज़ डरते हैं

बड़ी चालाकी से काम करती है ये यूनिट.

गलवान घाटी में झड़प के बाद भी चीनी सेना मौजूद, 200 से ज्यादा ट्रक और टेंट लगाए

सैटेलाइट से ली गई तस्वीरों में यह सामने आया है.

पेट्रोल-डीजल के दाम में फिर से उबाल क्यों आ रहा है?

रोजाना इनके दाम घटने-बढ़ने की पूरी कहानी.

उत्तर प्रदेश में एक IPS अधिकारी के ट्रांसफर पर क्यों तहलका मचा हुआ है?

69000 भर्ती में कार्रवाई का नतीजा ट्रांसफर बता रहे लोग. मगर बात कुछ और भी है.

गलवान घाटी: LAC पर भारत के तीन नहीं, 20 जवान शहीद हुए हैं, कई चीनी सैनिक भी मारे गए

लड़ाई में हमारे एक के मुकाबले तीन थे चीनी सैनिक.

गलवान घाटीः वो जगह जहां भारत-चीन के बीच झड़प हुई

पिछले कुछ समय से यहां पर दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने हैं.

लद्दाख: गलवान घाटी में भारत-चीन झड़प पर विपक्ष के नेता क्या बोले?

सेना के एक अधिकारी समेत तीन जवान शहीद हुए हैं.

क्या परवीन बाबी की राह पर चल पड़े थे सुशांत?

मुकेश भट्ट ने एक इंटरव्यू में कहा.