Submit your post

Follow Us

गूगल बड्डे स्पेशलः गूगल को भी नहीं पता कि उसका बड्डे कब है!

मेरा एक दोस्त है रंजीत. उसकी ज़िंदगी की लाख दिक्कतों में से एक है उसका जन्मदिन. उसकी मम्मी कहती हैं कि वो चैत में पैदा हुआ था. कौनसी तिथी, उन्हें याद नहीं. अब बड्डे मनाएं तो कब? गूगलानुसार चैत (माने चैत्र) मार्च महीने के बीच में कहीं से शुरू होता है. तारीख बदलता रहती है. लेकिन फिर भी रंजीत ने मार्कशीट में अपना जन्मदिन 18 फरवरी लिखवाया. लेकिन बात यहां खत्म नहीं होती. रंजीत मनाता अपना बर्थडे 2 फरवरी को है! लोल.

रंजीत की कहानी मैंने आपको इसलिए सुनाई कि आप उस महान विभूति की समस्या समझ सकें जिसका आज बड्डे है, माने गूगल. गूगल की समस्या रंजीत जैसी ही है. उसे अपना बड्डे कंफर्म नहीं. तो उसने अक्कड़-बक्कड़ करके एक दिन तय कर लिया जो आज, माने 27 सितंबर को पड़ता है. हर साल इस दिन गूगल नाना प्रकार के डूडल अपने सर्च इंजन के होम पेज पर लगाता है. इस साल भी लगा है. नया टैब खोलकर देखिएगा. लेकिन उस से पहले गूगल के बड्डे और उसको लेकर कंफ्यूज़न को जान लीजिए.

27 सितंबर 2017 को लगे गूगल के डूडल में सांप वाला खेला खेलने का ऑप्शन भी आता था
27 सितंबर 2017 को लगे गूगल के डूडल में सांप वाला खेला खेलने का ऑप्शन भी आता था

अब वाला बड्डे 2006 में आया

लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन ने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में गूगल की शूरुआत की थी 1998 में. लेकिन 27 सितंबर को बड्डे मानाना उनने 2006 में जाकर शुरू किया. इस से पहले गूगल इन तारीखों को बड्डे मना चुका है

2005 – 26 सितंबर
2004 – 7 सितंबर
2003 – 8 सितंबर

ये हम इसलिए जानते हैं कि इन तारीखों पर गूगल ने खुद अपने बड्डे का डूडल शेयर किया था. और ये भी तब जब इन तारीखों का गूगल के जन्म से कोई खास लेनदेन समझ नहीं आता. गूगल के बारे में गूगल करने पर मालूम चलता है कि कंपनी 4 सितंबर, 1998 को इंकॉर्पोरेट हुई थी. सादी भाषा में इसी दिन कंपनी से जुड़ा कागज पत्तर तैयार हुआ था.

 

2013 में गूगल ने मान लिया था कि उसे नहीं मालूम कि उसका असली बड्डे कब है
2013 में गूगल ने मान लिया था कि उसे नहीं मालूम कि उसका असली बड्डे कब है

कंफ्यूज़न ही कंफ्यूज़न है

कंफ्यूज़न की हद देखिए कि 2013 में खुद गूगल ने ही मान लिया कि हां भाई हमें नहीं मालूम हम चैत में कब पैदा हुए थे. हम कंफ्यूज़्ड हैं और इस बात का लोड भी नहीं लेते.

फिर 27 सितंबर कहां से आया

बड्डे का लोड न लेने वाली गूगल ने अपना बड्डे 27 सितंबर को मनाना शायद इसलिए शुरू किया कि उन्होंने अपना पहला बड्डे डूडल 2002 में 27 सितंबर को शेयर किया था. ये गूगल का चौथा बड्डे था. इस साल के बाद से गूगल ने हर साल अपने बड्डे पर अपने होम पेज पर एक डूडल लगाया.

गूगल का पहला बड्डे डूडल ऐसा था
गूगल का पहला बड्डे डूडल ऐसा था

तो ये डूडल बनाता कौन है?

गूगल ने अपना पहला डूडल 30 अगस्त 1998 को ही लगा दिया था. माने कंपनी के आधिकारिक रूप से शुरू होने से भी पहले. वो डूडल अमरीका के नेवाडा में होने वाले बर्निंग मैन फेस्टिवल पर था. उसके बाद से गूगल अलग अलग मौकों पर डूडल बनाता रहा है. 2009 में गूगल में एक ‘डूडल टीम’ बना दी गई जिसका फुल टाइम काम डूडल बनाना होता है. इस टीम में 10 डूडलर (डिज़ाइनर), चार इंजीनियर और दो प्रोड्यूसर हैं. इनके सरदार हैं रायन जर्मिक. ये मिलकर हर साल 400 के करीब डूडल बना डालते हैं.


गूगल के बाद अब थोड़ा ज्ञान भटसप पर भी ले लीजिएः

और पढ़ोः

दोस्तों की इस टोली ने मोबाइल एप से बच्चों के लिए बहुत अच्छा काम किया है

चिकन-65 में ये ’65’ क्या होता है?

ありがとう 友人! हमें ये 5 चीजें देने के लिए

मैंने ब्लू व्हेल खेलना चाहा और क्या पाया?

गूगल ने बताया इंडियन मर्द अपनी बीवी के साथ क्या करना चाहते हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

गलवान घाटी में भारत से लड़ाई पर चीन के लोग किस-किस तरह के सवाल उठा रहे हैं?

चीनी टि्वटर 'वीबो' पर कई पोस्ट लिखी गई हैं.

Exclusive: गलवान घाटी में 15 जून को तीन बार हुई लड़ाई में क्या-क्या हुआ था, विस्तार से जानिए

तीसरी लड़ाई के बाद भारत ने 16 चीनी सैनिकों के शव सौंपे थे.

राज्यसभा की 18 सीटों में से कांग्रेस और बीजेपी ने कितनी जीतीं?

एक और पार्टी है जिसने कांग्रेस जितनी सीटें जीती हैं.

दिल्ली के हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन ऑक्सीजन सपोर्ट पर, दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किए गए

कुछ दिन पहले कोरोना पॉज़िटिव आए थे, अब प्लाज़मा थेरेपी दी जाएगी.

चीनी सेना की यूनिट 61398, जिससे पूरी दुनिया के डेटाबाज़ डरते हैं

बड़ी चालाकी से काम करती है ये यूनिट.

गलवान घाटी में झड़प के बाद भी चीनी सेना मौजूद, 200 से ज्यादा ट्रक और टेंट लगाए

सैटेलाइट से ली गई तस्वीरों में यह सामने आया है.

पेट्रोल-डीजल के दाम में फिर से उबाल क्यों आ रहा है?

रोजाना इनके दाम घटने-बढ़ने की पूरी कहानी.

उत्तर प्रदेश में एक IPS अधिकारी के ट्रांसफर पर क्यों तहलका मचा हुआ है?

69000 भर्ती में कार्रवाई का नतीजा ट्रांसफर बता रहे लोग. मगर बात कुछ और भी है.

गलवान घाटी: LAC पर भारत के तीन नहीं, 20 जवान शहीद हुए हैं, कई चीनी सैनिक भी मारे गए

लड़ाई में हमारे एक के मुकाबले तीन थे चीनी सैनिक.

गलवान घाटीः वो जगह जहां भारत-चीन के बीच झड़प हुई

पिछले कुछ समय से यहां पर दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने हैं.