Submit your post

Follow Us

देखिए कौन-कौन है हिमाचल के कप्तान जयराम ठाकुर की प्लेयिंग-XI में

243
शेयर्स

हिमाचल प्रदेश में भाजपा के जयराम ठाकुर को कुर्सी पर बिठाया गया है. मंडी की सिराज सीट पर 5वीं बार विधायक बने जयराम को इस पहाड़ी प्रदेश की कमान दी गई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पार्टी मुखिया अमित शाह और होम मिनिस्टर राजनाथ सिंह समेत 10 बीजेपी शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्री भी शपथ समारोह में पहुंचे.  देखिए कौन-कौन है जयराम ठाकुर की कैबिनेट का हिस्सा-

# 1 विपिन परमार

1

कांगड़ा की सुलह सीट से विधायक विपिन 1998 से राजनीति में हैं. वो यहां से तीसरी बार जीते हैं. 54 साल का ये नेता ग्रजुएट है. 1980 में ABVP की तरफ से हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी के छात्रसंघ अध्यक्ष भी रहे हैं। परमार दो बार राज्य बीजेपी के महासचिव भी रहे हैं। अभी वे हिमाचल प्रदेश बीजेपी कांगड़ा चंबा युवा मोर्चा के अध्यक्ष हैं। 1999 से 2003 तक हिमाचल के खादी बोर्ड के चेयरमैन रहे हैं। विपिन ने कांग्रेस के प्रत्याशी जगजीवन पॉल को 10291 वोटों से हराया है.

#2 सरवीण चौधरी

2
मुख्यमंत्री की कैबिनेट में पहली महिला मंत्री सरवीण चौधरी कांगड़ा के ही शाहपुर से चौथी बार जीत कर विधानसभा पहुंची हैं। इस बार उन्होंने निर्दलीय विजय सिंह मानकोटिया को हराया। 51 साल की ये नेता 1992 से राजनीति में है.

#3 विक्रम सिंह

Vikram

53 साल के विक्रम सिंह ठाकुर जसवां परागपुर से विधायक हैं. विक्रम ने पहली बार 2003 में जसवां जो अब जसवां परागपुर के नाम से जाना जाता है, से जीत हासिल की। प्रदेश भाजयुमो के उपाध्यक्ष और खादी बोर्ड और प्रदेश वन निगम के उपाध्यक्ष पद पर भी रहे हैं। 2017 के चुनाव में विक्रम ने कांग्रेस के प्रत्याशी सुरेंद्र सिंह मनकोटिया को 1862 मतों के अंतर से हराया।

#4 किशन कपूर

3652
किशन कपूर कांगड़ा में धर्मशाला से जीत हासिल कर पांचवीं बार विधानसभा पहुंचे हैं। किशन पार्टी के सीनियर नेता हैं। 1990 में पहली बार चुनाव जीतने वाले कपूर धूमल सरकार में परिवहन मंत्री रह चुके हैं। इस बार उन्होंने वीरभद्र सरकार में मंत्री सुधीर शर्मा को 2997 मतों से हराया। वे चार बार विधायक रह चुके हैं। उन्हें अपने गद्दी सुमदाय से अच्छा खासा समर्थन प्राप्त है।

#5 रामलाल मार्कंडेय

4

लाहौल स्फीति से विधायक रामलाल तीसरी बार जीतकर आए हैं. मुकाबला कांग्रेस के रवि ठाकुर से था जिसमें इस बीजेपी नेता ने 1478 मतों से जीत हासिल की. यहां की पतन घाटी से आने वाले इस नेता की इलाके पर मजबूत पकड़ है.

#6 वीरेंद्र कंवर

123

कुटलैहड़ सीट से विधायक वीरेंद्र कंवर को इस खास टीम में शामिल किया गया है। जीत के बाद धूमल के लिए विधायक पद छोड़ने को तैयार थे। कांग्रेस ने आखिरी समय में वंशवाद की परवाह किए बिना यहां विवेक को नए चेहरे के तौर पर उतारा, जिसका खामियाजा पार्टी को भुगतना पड़ा। 1981 में हमीरपुर से अपने राजनैतिक सफर की शुरूआत की थी। बाद में वे1993 में ऊना में भाजयुमो के जिला अध्यक्ष बने। 2000 में जिला परिषद में चुने गये। पहली बार 2003 के चुनावों में विधायक चुने गये। दूसरी बार 2007 में व तीसरी बार 2012 का चुनाव उन्होंने जीता।

#7 अनिल शर्मा

Anil1

चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए अनिल शर्मा मंडी से विधायक हैं. मुकाबला कांग्रेसी नेता कौल सिंह ठाकुर की बेटी चंपा ठाकुर से था. वीरभद्र सिंह सरकार में भी कैबिनेट मंत्री रहे हैं और पंडित सुखराम के बेटे और सलमान खान की बहन अर्पिता के ससुर हैं.

#8 गोविंद सिंह ठाकुर

97kfmk

कुल्लू जिल्ले में मनाली सीट से विधायक गोविंद सिंह राजनीतिक परिवार से हैं. पिता कुंज लाल ठाकुर भी मंत्री रह चुके हैं. 49 साल के गोविंद 2007 में पहली बार कुल्लू विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुने गये। 2012 में मनाली में विधानसभा क्षेत्र से दोबारा विधायक चुने गये। भाजपा ने उन्हें दोबारा टिकट दिया और जीत हासिल की.

#9 महेद्र सिंह ठाकुर

12354

धर्मपुर विधानसभा से विधायक महेंद्र के खिलाफ मैदान में कांग्रेस के चंद्र शेखर थे। महेंद्र सिंह ने कांग्रेस के इस उम्मीदवार 11964 मतों के अंतर से हराया है। एक साधारण परिवार से राजनीति में आकर उन्होंने कई कीर्तिमान स्थापित किये। उन्होंने दल भी बदले,लेकिन चुनाव नहीं हारे। भाजपा और कांग्रेस का इस सीट पर अच्छा वोट बैंक माना जाता है।

# 10 राजीव सैजल

Untitled design

सोलन की कसौली सीट से भाजपा के राजीव सैजल ने कांग्रेस के विनोद सुल्तानपुरी को 442 मतों के अंतर से हराया। ये भाजपा का दलित चेहरा हैं. पेशे से डॉक्टर राजीव ने 2012 में कांग्रेस के विनोद सुल्तानपुरी से मात्र 24 मतों से चुनाव जीता था। 46 साल के सैजल ने 2012 में दूसरी बार चुनाव जीता।

#11 सुरेश भारद्वाज

Untitled

सुरेश भारद्वाज शिमला शहरी सीट से जीत कर आए हैं. इन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार हरीश जनारठा को 1903 मतों से हराया। इस बार पहले उनका टिकट कटा लेकिन बाद में मिल गया। 65 साल के सुरेश बीएससी व ला ग्रेजुएट हैं। ABVP से होते हुए बीजेपी में पहुंचे हैं. 2003 से लेकर 2006 तक फिर भाजपा की कमान उन्होंने संभाली। 1990 में पहली बार विधायक चुने गये। उसके बाद 2007 में फिर विधायक बने। और 2012 में भी उन्होंने शिमला से चुनाव जीता।


Also Read

कौन हैं जयराम ठाकुर, जिन्हें हिमाचल प्रदेश का सीएम बनाया गया है

भाजपा के सीएम कैंडिडेट धूमल को हराने वाले विधायक का इंटरव्यू

धूमल के सीएम कैंडिडेट होने के बावजूद कैसे चुनाव जीत गए राजिंदर राणा

वो पांच वजहें जिससे हिमाचल में राहुल गांधी की कांग्रेस हार गई

हिमाचल में बीजेपी के वो बड़े चेहरे, जो मोदी लहर के बावजूद हारे

जब धूमल के घर झूठा फोन कॉल आया और सब खुशियां मनाने लगे

चंबा की रानी समेत इन अहम कांग्रेसी नेताओं ने बचाईं अपनी सीटें

वीडियो भी देखिए-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पुनर्विचार की सभी याचिकाएं खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने रफ़ाल को हरी झंडी दी

राहुल गांधी ने पीएम मोदी को रफ़ाल डील में भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए खूब घेरा था.

महाराष्ट्र में नहीं बनी शिवसेना-एनसीपी की सरकार, अब लगेगा राष्ट्रपति शासन

एनसीपी को सरकार बनाने के लिए आज शाम साढ़े आठ बजे तक का समय मिला था.

करतारपुर कॉरिडोर: PM मोदी ने इमरान को शुक्रिया कहा, लेकिन इमरान का जवाब पीएम मोदी को पसंद नहीं आएगा

वहां पर भी कॉरिडोर से ज़्यादा 'विवादित मुद्दे' पर ही बोलता नज़र आया पाकिस्तान.

सुप्रीम कोर्ट का फैसला: विवादित ज़मीन रामलला को, मुस्लिम पक्ष को कहीं और मिलेगी ज़मीन

जानिए, कोर्ट ने अपने फैसले में और क्या-क्या कहा है...

नेहरु से इतना प्यार? मोदी अब बिना कांग्रेस के नेहरू का ख्याल रखेंगे

एक भी कांग्रेस का नेता नहीं. एक भी नहीं.

शरद पवार बोले- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने से बचाना है, तो बस एक ही तरीका है

शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने की मिस्ट्री पर क्या कहा?

मोदी को क्लीन चिट न देने वाले चुनाव अधिकारी को फंसाने का तरीका खोज रही सरकार!

11 कंपनियों से सरकार ने कहा, कोई भी सबूत निकालकर लाओ

दफ़्तर में घुसकर महिला तहसीलदार पर पेट्रोल छिड़का, फिर आग लगाकर ज़िंदा जला दिया

इस सबके पीछे एक ज़मीन विवाद की वजह बताई जा रही है. जिसने आग लगाई, वो ख़ुद भी झुलसा.

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच झड़प, गाड़ियां फूंकी

पुलिस और वकील इस झड़प की अलग-अलग कहानी बता रहे हैं.

US ने जारी किया विडियो, देखिए कैसे लादेन स्टाइल में किया गया बगदादी वाला ऑपरेशन

अमेरिका ने इस ऑपरेशन से जुड़े तीन विडियो जारी किए हैं.