Submit your post

Follow Us

क्या अब कोरोना वायरस को लेकर प्रेस के सामने आने से बच रहा है स्वास्थ्य मंत्रालय?

जबसे कोरोना वायरस का इंफेक्शन देश में तेज़ी से फैलना शुरू हुआ है, तब से स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी लगातार मीडिया को इससे जुड़ी जानकारी देते रहे. शुरुआत में कुछ दिन तक लगातार प्रेस ब्रीफिंग हुई. फिर हफ्ते में तीन से चार दिन और अब हेल्थ मिनिस्ट्री को प्रेस ब्रीफिंग दिये आठ दिन हो चुके हैं.

कोरोना वायरस को लेकर आखिरी ब्रीफिंग 11 मई को हुई थी. इसे लेकर एक्सपर्ट्स ने चिंता जाहिर की है. उनका कहना है कि महामारी के दौर में ये जरूरी है कि लोगों को ज्यादा से ज्यादा और सही जानकारी दी जाए.

‘डर कम करने का एक ही ज़रिया – जानकारी’

प्रधानमंत्री की वित्तीय सलाहकार समिति की सदस्य रह चुकीं प्रोफेसर शमिका रवि इस बारे में कहती हैं,

“इस वक्त सबसे बड़ी ज़रूरत है लोगों के बीच से डर कम करना. और डर कम करने का एक ही ज़रिया है- उन्हें ज़्यादा से ज़्यादा जानकारी देना.”

यही बात डॉक्टर गिरधर ज्ञानी भी कहते हैं. डॉ ज्ञानी कोरोना वायरस के इलाज़ से जुड़े अस्पतालों के लिए बनाई गई टास्क फोर्स के सदस्य हैं. वे कहते हैं,

“लोगों के बीच भविष्य को लेकर अभी भी अनिश्चितता है. लोग सोच रहे हैं कि क्यों केस लगातार बढ़ते जा रहे हैं. वो सुन रहे हैं कि अब हमें वायरस के साथ ही जीने की आदत डाल लेनी चाहिए. इतनी सारी आशंकाओं के बीच जानकारियां साझा करना रोका नहीं जाना चाहिए.”

 

अभी कैसे जानकारी आ रही है?

फिलहाल स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन की तरफ से रोज़ाना स्टेटमेंट जारी किया जा रहा है. इस स्टेटमेंट में कोरोना वायरस से जुड़े दिनभर के अपडेट और आंकड़े होते हैं.

 


लॉकडाउन 4.0 शुरू होने के बाद सरकार ने लोगों से आरोग्य सेतु एप पर क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

मज़दूरों की लाश की ऐसी बेक़द्री पर झारखंड के सीएम कसके गुस्साए हैं

घायल मज़दूरों के साथ अमानवीय व्यवहार करने का आरोप.

कोरोना की वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर, जल्द ही आखिरी स्टेज का टेस्ट होने की उम्मीद

जुलाई के महीने को लेकर अहम बात भी कह डाली है.

केजरीवाल ने लॉकडाउन 4 में बहुत सारी छूट दे दी हैं

ऑड-ईवन आ गया, लेकिन ट्रांसपोर्ट में नहीं.

लॉकडाउन 4: पर्सनल गाड़ी से शहर या राज्य के बाहर जाने के क्या नियम हैं?

केंद्र सरकार ने इस पर क्या कहा है?

कोरोना संक्रमण के बीच स्विगी ने बहुत बुरी खबर दी है

दो दिन पहले जोमैटो ने भी ऐसा ही ऐलान किया था.

ममता बनर्जी ने लॉकडाउन के नियमों में बहुत बड़ा बदलाव किया है

केंद्र सरकार की नई बात मानने से मना कर दिया!

लॉकडाउन 4.0: सरकार ने जारी की गाइडलाइंस, जानें क्या खुलेगा और क्या बंद रहेगा

31 मई तक के लिए लॉकडाउन बढ़ाया गया है.

घर जाने को लेकर राजकोट में 500 मज़दूरों का सब्र जवाब दे गया, सड़क पर उतरे

हंगामे के बीच पुलिस घायल, किसी तरह शांत हुआ मामला.

चोटिल बेटे को खटिया पर लादकर 900 किमी दूर घर के लिए निकल पड़ा ये मज़दूर

पंजाब से चला था परिवार, मध्य प्रदेश जाना था.

20 लाख करोड़ के राहत पैकेज की आख़िरी किश्त में मनरेगा को 40 हजार करोड़, अन्य को क्या मिला?

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सात सेक्टर्स के लिए घोषणाएं कीं.