Submit your post

Follow Us

हाथरस: सिर्फ पुलिस पर एक्शन से IPS असोसिएशन नाराज, पूछा- डीएम को क्यों छोड़ दिया!

हाथरस मामले में पुलिस और प्रशासन सवालों के घेरे में है. इस पूरे मामले को लेकर योगी सरकार पर सवाल उठ रहे हैं. योगी ने सीबीआई जांच की सिफारिश की है. वहीं मामले की जांच एसआईटी भी कर रही है. इस बीच एसआईटी की शुरुआती जांच के बाद पुलिसवालों पर कार्रवाई हुई. एसपी विक्रांत वीर, सीओ राम शब्द के अलावा इंस्पेक्टर दिनेश कुमार शर्मा, सब इंस्पेक्टर जगवीर सिंह और हेड कांस्टेबल महेश पाल को निलंबित कर दिया गया है.

इस कार्रवाई को लेकर आईपीएस असोसिएशन नाराज बताया जा रहा है. मीडिया रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि असोसिएशन का कहना है कि एकतरफा कार्रवाई सिर्फ पुलिस वालों पर की गई है, जबकि जिम्मेदारी पूरे प्रशासन पर तय होनी चाहिए.

असोसिएशन का कहना है कि जब एसपी पर कार्रवाई हो सकती है तो डीएम पर क्यों नहीं? अगर कोई लापरवाही हुई है तो अकेले पुलिस महकमा कैसे जिम्मेदार है? जबकि आदेश प्रशासनिक होते हैं और पुलिस महकमा उसे लागू करवाता है. डीजीपी और होम सेक्रेटरी जब मौके पर गए थे तो डीजीपी हितेश अवस्थी ने यह बात कही थी कि डीएम के आदेश थे.

डीएम पर परिवार का गंभीर आरोप

हाथरस मामले को लेकर डीएम प्रवीण कुमार पर लगातार सवाल उठ रहे हैं. पीड़िता के भाई ने आजतक से बातचीत में कहा था कि हमें हमारे सवालों के जवाब चाहिए कि बॉडी क्यों जलाई? हमारे साथ क्यों डीएम ने बदसलूकी की? भाई ने कहा कि डीएम को हटाया जाए और ऐसा पद ना दें जिससे वो आगे उसका दुरुपयोग करें, डराए धमकाएं.

पीड़ित परिवार ने डीएम के भी नार्को टेस्ट की मांग की है. पीड़िता की भाभी ने कहा था,

डीएम साहब आए थे. बार-बार यही कह रहे थे कि कोरोना से लड़की मर जाती तो मुआवजा ले लेते? बॉडी का पोस्टमॉर्टम हुआ है तो लाश आप देख पाते? पोस्टमॉर्टम का मतलब समझते हो हथौड़े से मारकर हड्डियां तोड़ दी जाती है. ऐसी लाश को तुम लोग देख पाते? 10 दिन तक खाना नहीं खा पाते.

उससे पहले डीएम का एक वीडियो सामने आया था वीडियो में हाथरस के डीएम कह रहे थे,

आप अपनी विश्वसनीयता खत्म मत करिए. मीडिया वालों के बारे में मैं आपको बता दूं. आज अभी आधे चले गए, कल सुबह तक आधे और निकल लेंगे. दो-चार बचेंगे, वो भी निकल लेंगे. हम ही आपके साथ खड़े हैं. अब आपकी इच्छा है. आपको बार-बार बयान बदलना है, नहीं बदलना है. हम भी बदल जाएं.

इतना कुछ होने के बाद भी डीएम पर कार्रवाई नहीं होने पर सवाल उठ रहे हैं. उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बीएसपी प्रमुख मायावती ने ट्वीट किया,

हाथरस गैंगरेप कांड के पीड़ित परिवार ने जिले के डीएम पर धमकाने आदि के कई गंभीर आरोप लगाए हैं, फिर भी यूपी सरकार की रहस्मय चुप्पी दुःखद व अति-चिन्ताजनक. हालांकि सरकार CBI जांच हेतु राजी हुई है, किन्तु उस डीएम के वहां रहते इस मामले की निष्पक्ष जांच कैसे हो सकती है? लोग आशंकित हैं.

पीड़ित परिवार से मुलाकात के बाद कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने भी ट्वीट किया.


हाथरस: राहुल, प्रियंका के पीड़ित परिवार से मिलते ही CM योगी ने CBI जांच का ऐलान कर दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

इस शर्त पर यूपी प्रशासन ने राहुल-प्रियंका को हाथरस जाने की अनुमति दी

कथित गैंगरेप पीड़िता के परिवार से मिलने जा रहे हैं राहुल-प्रियंका.

हाथरस केस: एसपी और सीओ सस्पेंड, जानिए डीएम का क्या हुआ?

सभी पक्ष-विपक्ष वालों का पॉलीग्राफी टेस्ट भी होगा.

हाथरस केस: यूपी पुलिस को किसी को भी गांव में जाने से रोकने का बहाना मिल गया है!

खबर है कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी पीड़ित परिवार से मिलने जाने वाले हैं.

सभी आरोपियों को बरी करते हुए कोर्ट ने कहा - इन्होंने बाबरी मस्जिद को बचाने की कोशिश की थी

आ गया है 28 साल पुराने मामले में फ़ैसला

हाथरस के कथित गैंगरेप मामले पर विराट कोहली ने क्या कहा?

अक्षय कुमार ने भी ट्वीट किया है.

सिर्फ़ 6 लोगों की इस मीटिंग के टलने को पी चिदंबरम ने 'अभूतपूर्व' क्यूं कह डाला?

तो क्या इस वक़्त देश के पास अर्थव्यवस्था सही करने का सिर्फ़ एक बटन बचा है?

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह नहीं रहे, पीएम मोदी ने कहा- "बातें याद रहेंगी"

जसवंत सिंह अटल सरकार के कद्दावर मंत्रियों में से थे.

IPL2020 के जरिए टीम इंडिया में आएगा फाजिल्का का ये लड़का?

सबकी उम्मीदें शुभमन गिल से लगी है.

आप दीपिका और रकुल प्रीत में उलझे रहे और राजस्थान में इतना बड़ा कांड हो गया!

दो दिन से बवाल चल रहा है.

मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने वाले इस क़ानून को जरूरी बनाने की बात से पलटी मार ली

और यह जानकारी ख़ुद सरकार ने दी है.