Submit your post

Follow Us

'सिर फोड़ देना' कहने वाले SDM को बर्खास्त करने की मांग, किसान फिर सड़कों पर

हरियाणा के करनाल में शनिवार, 28 अगस्त को पुलिस ने किसानों पर लाठीचार्ज किया. कई किसान घायल हुए. एसडीएम आयुष सिन्हा का एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें वो पुलिसवालों से किसानों का ‘सिर फोड़ देने’ की बात कहते दिखे. इस घटना के बाद से किसान गुस्से में हैं. रविवार, 29 अगस्त को हरियाणा के कई शहरों में किसानों ने सड़कों को जाम किया हुआ है. वहीं संयुक्त किसान मोर्चा ने एसडीएम आयुष सिन्हा को बर्खास्त करने की मांग की है. ट्विटर पर भी #करनाल_DM_सस्पेंड_करो हैशटैग ट्रेंड हो रहा है.

किसानों ने किया हरियाणा को जाम

इंडिया टुडे ग्रुप के फतेहाबाद संवाददाता बजरंग मीणा की रिपोर्ट के मुताबिक गुस्साए किसानों ने नेशनल और स्टेट हाइवे जाम कर दिए हैं. पंजाब को कनेक्ट करने वाले अधिकतर रास्तों पर किसानों ने जाम लगाया है. किसानों का कहना है कि करनाल में किसान सरकार के कार्यक्रम से 17 किलोमीटर दूर शांतिपूर्ण धरना दे रहे थे, लेकिन सरकार ने किसानों पर लाठीचार्ज कराकर उन्हें उकसाने का काम किया . किसानों ने गिरफ्तार किए गए किसानों को रिहा करने और एसडीएम पर एक्शन की मांग की है. साथ ही किसानों ने लाठीचार्ज की न्यायिक जांच की भी मांग की है.

Fatehabad
फतेहाबाद में सड़कों पर प्रदर्शन करते किसान. फोटो- आजतक

कुरुक्षेत्र और सोनीपत में भी किसानों ने जाम लगाया हुआ है. ईस्टर्न पेरीफेरल हाईवे को भी किसानों ने जाम कर दिया है जिसके कारण दिल्ली और यूपी जाने वाले वाहनों के पहिए भी थम गए हैं. किसानों ने साफ तौर पर कहा कि लाठीचार्ज का आदेश देने वाले अधिकारी पर जब तक कार्रवाई नहीं की जाती वे पीछे नहीं हटेंगे.

Nooh New
नूह में किसानों की महापंचायत. फोटो- आजतक

हरियाणा ने नूह की अनाजमंडी में संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर महापंचायत का आयोजन किया गया है. योगेंद्र यादव समेत कई बड़े किसान नेता इस महापंचायत में पहुंच चुके हैं. कुछ किसान नेता इसमें शामिल होने के लिए पहुंच रहे हैं.

शासन-प्रशासन का क्या कहना है?

वहीं दूसरी ओर हरियाणा के एडीजीपी नवदीप सिंह विर्क ने बताया कि इस झड़प में 4 प्रदर्शनकारियों को चोटें आई हैं, जबकि पुलिस के 10 जवान घायल हुए हैं. उन्होंने कहा कि कई प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया और उन पर हमला करने की कोशिश की. करनाल की आईजी ममता सिंह ने कहा कि कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए कई प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया था, जिन्हें बाद में रिहा कर दिया गया.

आजतक की एक रिपोर्ट के मुताबिक हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा,

‘सरकारी कामकाज में बाधा डालना लोकतंत्र के खिलाफ है. अगर वो विरोध करना चाहते थे, तो उन्हें शांतिपूर्ण तरीके से करना चाहिए था. अगर वो हाइवे जाम करते हैं और पुलिस पर पथराव करते हैं तो पुलिस भी कानून-व्यवस्था संभालने के लिए कदम उठाएगी.’

वहीं इस मामले में हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि, एक IAS ऑफिसर द्वारा इस तरह के शब्दों का इस्तेमाल निंदनीय है और यकीनन उनके खिलाफ एक्शन लिया जाएगा.

एसडीएम आयुष सिन्हा ने क्या कहा?

एसडीएम आयुष सिन्हा 2018 बैच के आईएएस ऑफिसर हैं. 28 अगस्त को पंचायत चुनावों को लेकर बीजेपी की एक मीटिंग थी जिसके आस पास लॉ एंड ऑर्डर की जिम्मेदारी सिन्हा पर थी. इंडियन एक्सप्रेस में छपी एक खबर के मुताबिक सिन्हा ने कहा,

“विरोध स्थल और बैठक के स्थान के बीच मुख्य रूप से तीन चेकपॉइंट थे. मुझे सभा स्थल के पास तीसरे और अंतिम चेकपोस्ट पर तैनात किया गया था. यहां किसी के पहुंचने का मतलब है कि वो दो चेकपोस्ट पार करके यहां आया है. ये तीसरा नाका, मीटिंग के बेहद पास था. अगर ये तीसरा नाका टूट जाता तो हंगामे और तोड़फोड़ की आशंका थी. दूसरी बात ये कि कुछ अवांछित तत्व भी इस प्रदर्शन का हिस्सा बने हुए थे. ये सुरक्षा के लिए चूक साबित हो सकती थी.”

उन्होंने कहा कि ये सब बातें दिमाग में रखते हुए मैंने जवानों को निर्देश दिए. मैंने उन्हें प्रक्रिया बताई जो CrPC के प्रावधान हैं. मैंने कहा कि हम प्रदर्शनकारियों को चेतावनी देंगे, वाटर कैनन का इस्तेमाल करेंगे, आंसूगैस की घोषणा करेंगे और अगर जरूरत हुई तो लाठीचार्ज भी करेंगे.

उन्होंने कहा कि वायरल वीडियो के साथ छेड़छाड़ की गई है क्योंकि इसका केवल एक हिस्सा ही दिखाया जा रहा है जिसमें लाठीचार्ज की बात हो रही है. ब्रीफिंग के केवल एक चुनिंदा हिस्से को ही लीक किया गया है.

हुआ क्या था

आपको बता दें कि शनिवार 28 अगस्त को करनाल से करीब 15 किलोमीटर पहले एक टोल प्लाजा पर किसानों पर लाठीचार्ज किया गया था. किसान यहां जारी बीजेपी जेजेपी गठबंधन मीटिंग का विरोध करने के लिए पहुंचे थे. इस मीटिंग में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ओम प्रकाश धनखड़ समेत कई बीजेपी नेता मौजूद थे. पुलिस का दावा है कि इलाके में धारा 144 लागू थी और प्रदर्शनकारियों ने इसका उल्लंघन किया. प्रदर्शनकारियों की ओर से पत्थरबाजी की गई जिसके बाद मजबूरी में पुलिस को कार्रवाई करनी पड़ी.


वीडियो- पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा- निर्णय लेने की छूट नहीं दी गई तो ईंट से ईंट खड़का देंगे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

रेप के मामले में पूर्व IPS अमिताभ ठाकुर पर क्या आरोप है कि यूपी पुलिस ने इस तरह धर लिया?

रेप का आरोप लगाने वाली महिला ने कुछ दिन पहले आत्मदाह कर लिया था.

डॉ. कफील खान को CAA पर 'भड़काऊ' भाषण देने के मामले में बहुत बड़ी राहत मिल गई है

डॉ. कफील खान ने कहा- भारतीय लोकतंत्र अमर रहे!

काबुल एयरपोर्ट के बाहर सीरियल ब्लास्ट में 12 US कमांडो समेत 100 से ज्यादा की मौत, IS ने ली जिम्मेदारी

इन धमाकों में 143 से ज्यादा लोगों के घायल होने की खबर है.

इस लीक हुए डॉक्यूमेंट की मानें, तो कांग्रेस सोनू सूद को मुंबई का मेयर बनाना चाहती है!

बताया जा रहा है 25 पन्नों के इस कथित चुनाव रणनीति डॉक्यूमेंट को मुंबई कांग्रेस के सेक्रेटरी गणेश यादव ने तैयार किया है.

क्या एक केंद्रीय मंत्री को किसी राज्य की पुलिस गिरफ्तार कर सकती है?

भारत के इतिहास में तीसरी बार केंद्रीय मंत्री को गिरफ्तार किया गया है. पहले दो कौन थे, जानते हैं?

केंद्रीय मंत्री नारायण राणे गिरफ्तार किए गए, CM उद्धव ठाकरे को थप्पड़ मारने की बात कही थी

केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के बयान से महाराष्ट्र की राजनीति उबल रही है.

इनकम टैक्स पोर्टल से जनता इतनी परेशान हुई कि वित्त मंत्री ने इंफोसिस के CEO को तलब कर लिया

मुलाकात से पहले ही इन्फोसिस ने सारा सिस्टम ठीक कर दिया.

मद्रास हाई कोर्ट ने केंद्र से क्यों कहा- हिंदी में जवाब देना कानून का उल्लंघन?

केंद्र सरकार के अधिकारियों के खिलाफ एक्शन लेने तक की सलाह दे दी.

अफगानिस्तान: काबुल छोड़ने की कोशिश में प्लेन से गिरकर नेशनल फुटबॉलर की मौत

19 साल के जाकी अनावरी अफगानिस्तान के उभरते फुटबॉलर थे.

विकी कौशल की बहुप्रतीक्षित फ़िल्म 'दी इम्मोर्टल अश्वत्थामा' के साथ बड़ा पंगा हो गया

'दी इम्मोर्टल अश्वत्थामा' का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे फैन्स को ये खबर ज़रूर पढ़नी चाहिए.