Submit your post

Follow Us

हरियाणा में कई सरकारी भर्ती परीक्षाओं के पेपर लीक होने का दावा, सवालों के घेरे में HSSC

हरियाणा राज्य कर्मचारी चयन आयोग (HSSC) सुर्खियों में है. इसकी कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा (Constable Recruitment Exam) को पेपर लीक होने के बाद रद्द कर दिया गया है. ऐसे आरोप हैं कि लीक हुआ पेपर 10 से 20 लाख रुपये तक में बिका है. 7 और 8 अगस्त को ये परीक्षा होनी थी, लेकिन उससे पहले ही पेपर लीक हो गया. विपक्ष का आरोप है कि अब तक अलग-अलग भर्ती परीक्षाओं से जुड़े 28 पेपर लीक हो चुके हैं. इसे लेकर हरियाणा युवा कांग्रेस ने HSSC ऑफिस के बाहर प्रदर्शन भी किया.

कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा रद्द

HSSC ने 7298 पदों के लिए भर्ती निकाली थी. इसमें पुरुष कॉन्स्टेबलों को भर्ती किया जाना था. 7 और 8 अगस्त को दो पारियों में ये परीक्षा होनी थी. 7 तारीख को दोनों पारियों की परीक्षा हुई भी. लेकिन इसे निरस्त कर दिया गया और 8 तारीख को होने वाली परीक्षा को स्थगित कर दिया गया. ऐसा इसलिए क्या गया, क्योंकि हरियाणा पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का पता किया जिसने HSSC की इस भर्ती के पेपर को लीक कर दिया था. लाखों में इस पेपर को बेचा जा रहा था. ऐसे में हरियाणा पुलिस ने तुरंत एक्शन लिया और 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. साथ ही 7 ऐसे लोगों को भी गिरफ्तार किया गया जिन्होंने ‘आंसर की’ खरीदी थी. ये वो लोग थे जिन्होंने कॉन्स्टेबल भर्ती में पास होने के लिए पेपर और आंसर्स के बदले पैसे दिए थे. अब पुलिस इस केस से जुड़े हर शख्स की बारीकी से जांच कर रही है ताकि ये पता चल सके कि आखिर पेपर कहां से लीक हुआ था और किसने लीक किया था.

कैथल की एकेडमी पर भी आरोप

इंडिया टुडे ग्रुप से जुड़े वीरेन्द्र पुरी की एक रिपोर्ट के मुताबिक, कैथल में बालाजी डिफेंस एकेडमी के नाम से एक कोचिंग संस्थान है जो प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराता है. कैथल के एसपी लोकेंद्र सिंह ने इंडिया टुडे को बताया कि इस संस्थान के मालिक रमेश ने अपने एक साथी राजेश के साथ मिलकर पेपर आगे बेचा था. ये लोग पेपर को 12 से 18 लाख तक में बेच रहे थे. पुलिस अधिकारी के मुताबिक, इन लोगों को पेपर नरेंद्र नाम के शख्स से मिला था. नरेंद्र हिसार का रहने वाला है. पुलिस ने उसे भी गिरफ्तार कर लिया है.

Haryana 2
हरियाणा के कैथल का बालाजी सेंटर जिस पर आरोप लगे हैं. फोटो- आजतक

रिपोर्ट के मुताबिक, नरेंद्र ने रमेश से पेपर के एवज में एक करोड़ रुपये मांगे थे. दोनों के बीच ये तय हुआ था कि पेपर बेचे जाने के बाद ये रकम दी जाएगी. रमेश ने राजेश के साथ मिलकर पेपर को बेचना शुरू किया. पुलिस के मुताबिक अभी तक ऐसे 7 लोगों के बारे में पता चल चुका है जिन्होंने ये पेपर खरीदा था. वो ऐसे और भी लोगों की तलाश कर रही है. साथ ही ये भी पता कर रही है कि नरेंद्र को पेपर कहां से मिला था. एसपी लोकेंद्र सिंह ने बताया कि इस पूरी चेन को आइडेंटिफाई किया जा रहा है ताकि उस शख्स का पता चल सके जिसने पेपर लीक किया. फिलहाल इस चेन के टॉप में नरेंद्र ही है. वहीं, रमेश पर पहले भी पेपर लीक के आरोप लगते रहे हैं. पुलिस इस बारे में भी जांच कर रही है कि और कौन से पेपर रमेश ने लीक कराए हैं.

28 बार प्रश्नपत्र लीक

इंडिया टुडे ग्रुप के संवाददाता मनजीत सहगल की एक रिपोर्ट के मुताबिक, अब तक प्रदेश में हरियाणा शिक्षक पात्रता परीक्षा (HTET), क्लर्क, एक्साइज इंस्पेक्टर, एचसीएस ज्यूडिशियल, कंडक्टर, पटवारी, नायब तहसीलदार, आईटीआई इंस्पेक्टर, बिजली बोर्ड और ग्राम सचिव की भर्ती परीक्षा जैसी दर्जनों परीक्षाओं के पेपर लीक हो चुके हैं. हर साल इन परीक्षाओं की गोपनीयता पर करीब 20 करोड़ रुपये खर्च किए जाते हैं. इसके बावजूद पेपर लीक हो जाते हैं. राज्य में प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस का आरोप है कि बीजेपी सरकार के आने के बाद से अभी तक 28 बार अलग-अलग तरह के पेपर लीक हो चुके हैं. बार-बार परीक्षाओं के रद्द होने, पेपर लीक होने से ना केवल सरकार पर सवाल खड़े हो रहे हैं, बल्कि बेरोजगारों का मनोबल भी टूट रहा है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 3 साल के बाद कॉन्स्टेबल परीक्षा आयोजित कराई गई थी और वो भी पेपर लीक के कारण रद्द हो गई. ऐसे में वे युवक काफी परेशान हो गए हैं, जो पिछले तीन सालों इसकी तैयारी कर रहे थे.

हरियाणा युवा कांग्रेस का प्रदर्शन

मामला गर्माया तो सियासत तेज हो गई. सोमवार 9 अगस्त को हरियाणा युवा कांग्रेस ने कर्मचारी चयन आयोग (HSSC) के बाहर प्रदर्शन किया. युवा कांग्रेस कार्यकर्ता, आयोग के अध्यक्ष को 28 परीक्षाओं के पेपर लीक हो जाने का ‘रिकॉर्ड’ बनाने के लिए एक ट्रॉफी देने पहुंचे. युवा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष दिव्यांशु बुद्धिराजा ने इस मामले में हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर की चुप्पी पर सवाल उठाया और कहा कि उनका चुप रहना दोषियों को समर्थन का इशारा कर रहा है. दिव्यांशु ने कहा,

प्रदेश में नकल माफिया हावी है. सीएम अपनी जिम्मेदारी से नहीं भाग सकते. उन्हें सफाई देनी होगी.

इस पूरे मामले पर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि पेपर लीक के सभी मामलों की जांच हाई कोर्ट की निगरानी में सीबीआई से कराई जाए. साथ ही साख खो चुके हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग को तुरंत प्रभाव से बर्खास्त किया जाए.

सरकार की ओर से क्या कहा गया?

दैनिक जागरण की एक रिपोर्ट के मुताबिक, हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के चेयरमैन भोपाल सिंह ने कहा कि आयोग पूरे मामले की तह तक जाना चाहता है. उन्होंने बताया कि FIR कराने के लिए आयोग की ओर से डीजीपी ऑफिस को पत्र भेजा गया है. साथ ही भर्ती के नए शेड्यूल पर सीएम खट्टर के साथ चर्चा की जाएगी. भोपाल सिंह ने ये भी कहा कि जरूरत पड़ी तो पेपर लीक कांड की जांच कराने के लिए SIT भी गठित की जा सकती है.


वीडियो- पड़ताल: क्या हरियाणा में एक युवक ने पेट्रोल के बढ़ते दामों से खफा होकर एक पेट्रोल पंप में आग लगा दी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

ऑस्ट्रेलिया के सबसे 'झगड़ालू गेंदबाज' ने क्रिकेट को कहा अलविदा!

चेपॉक में छाने वाला इकलौता ऑसी पेसर.

हार्दिक पंड्या की जगह रोहित-सूर्या और कोहली करेंगे बोलिंग?

'बैलेंस का तो मसला ही नहीं है.'

सिंघु बॉर्डर हत्या: लखबीर सिंह के नए वीडियो में बड़ी जानकारी सामने आई!

वीडियो में लखबीर सिंह के हाथ-पैर सही सलामत दिख रहे हैं, जिन्हें हत्या में काट दिया गया था.

पंजाब: कांग्रेस विधायक से युवक ने मांगा हिसाब, मिला जोरदार थप्पड़!

विधायक जोगिंदर पाल अपनी उपलब्धियां गिना रहे थे.

HDFC Bank के खाते से करोड़ों लूटने की कोशिश, बैंक के कर्मचारियों की भूमिका चिंता में डाल देगी

दिल्ली पुलिस ने 12 लोगों को गिरफ्तार किया है.

आर्यन खान को अब भी नहीं मिली बेल, अभी जेल में ही रहना होगा

आर्यन के अलावा अरबाज़ मर्चेंट और मुनमुन धमेचा को भी नहीं मिली जमानत.

पेट्रोल-डीजल के बाद नई मार, अब टीवी देखना 50 फीसदी तक हो जाएगा महंगा

TRAI ने दर्शकों की भलाई के नाम पर जो ऑर्डर निकाला, वही अब जेब पर भारी पड़ने वाला है.

अमरिंदर सिंह ने नई पार्टी बनाने का ऐलान किया, लेकिन बीजेपी से हाथ मिलाने की ये बड़ी शर्त रख दी

कैप्टन के ऐलान पर कांग्रेस ने उन्हें वोट कटवा बता दिया.

T20 वर्ल्ड कप में शाकिब और फिज़ की जोड़ी ने बना दिया बड़ा रिकॉर्ड

यहां तक तो कोई पहुंचा ही नहीं था.

'असली दावेदार तो इंग्लैंड है पता नहीं कैसे T20 में इंडिया फेवरेट हो गई'

माइकल वॉन ने ये क्या कह दिया?