Submit your post

Follow Us

हैकर्स Omicron नाम का ऐसे उठा रहे हैं फायदा

Corona का नया वेरिएंट Omicron आपके मेल में भी घुस सकता है. मालवेयर या वायरस के सहारे ओमिक्रॉन आपकी डिजिटल दुनिया में सेंध लगाने को तैयार हैं. साइबर सुरक्षा पर नजर रखने वाली एक कंपनी ने इसको लेकर आगाह किया है. पिछले दो सालों में साइबर ठगों ने कोरोना महामारी का सहारा लेकर लोगों को खूब चूना लगाया है और अब तीसरी लहर भी इससे बच नहीं पाई है.

एक फर्जी “कोविड 19 ओमिक्रॉन स्टेट्स काउंटर” ऐप के नाम पर लोगों को लिंक भेजी जा रही है. लिंक पर क्लिक करते ये मालवेयर क्या गुल खिलाने वाला है वो आप अच्छे से जानते हो. एक बार क्लिक किया नहीं और आपकी निजी जानकारी से लेकर, बैंक अकाउंट डिटेल्स सब इन ठगों के हाथ लग जाता है. जानकारी के लिए बताते चलें कि मालवेयर गिरोह के इस सदस्य का नाम “रेड लाइन” है.

“रेड लाइन” नाम का मालवेयर खतरनाक तो है लेकिन इसको डेवलप करने वाले अपराधी भी बहुत एक्टिव हैं. इस मालवेयर में नए-नए टूल्स भी ऐड किए जा रहे हैं, जैसे कि “मल्टीपल डिस्ट्रब्यूशन मेथड “. कई बार ऐसे मालवेयर किसी एक संस्थान या व्यक्ति विशेष को टारगेट करने के उद्देश्य से डेवलप किए जाते हैं लेकिन रेड लाइन मालवेयर अभी तक 12 देशों में मिल चुका है. मतलब साफ है, रेड लाइन किसी विशेष संस्थान या व्यक्ति को टारगेट नहीं करता, क्योंकि इन ठगों का निशाना दुनियाभर में महामारी से परेशान लोगों को मोटी चपत लगाना है.

रिसर्च फर्म FortiGuard को रेड लाइन मालवेयर की एक फ़ाइल Omicron States.exe का पता चला है जो विंडोज (Windows) यूजर को टारगेट कर रही है. अभी अन्य प्लेटफ़ॉर्म जैसे iOS और Linux पर इसका असर देखने को नहीं मिला है. फिलहाल में सिर्फ विंडोज इस्तेमाल करने वाले इसके शिकार हो रहे हैं, लेकिन इसका ये मतलब कतई नहीं कि अन्य प्लेटफ़ॉर्म में सेंध नहीं लग सकती.

रेड लाइन मालवेयर नया नहीं है. भले फ़ाइल का नाम ओमिक्रॉन हो. मार्च 2020 में कोरोना की पहली लहर के समय भी ये मालवेयर एक्टिव था और लोगों को ठग रहा था. साइबर ठगों का ये धंधा तो चलता ही रहता है लेकिन आप सावधान रहिए. ओमिक्रॉन या किसी भी नाम पर आने वाले मेल, मैसेज पर क्लिक मत कीजिए. आपको कोरोना से जुड़ी कोई भी जानकारी चाहिए तो केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकारों ने कई हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं. उनको इस्तेमाल में लाइए.


 

वीडियो: टेलीग्राम के वो 6 फीचर्स जो वाट्सऐप से अलग और आपके काफी काम के हैं!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

गोरखपुर कचहरी में युवक की हत्या करने वाले के बारे में पुलिस ने क्या बताया?

गोरखपुर कचहरी में युवक की हत्या करने वाले के बारे में पुलिस ने क्या बताया?

मृतक व्यक्ति पर नाबालिग से बलात्कार का आरोप था.

5जी नेटवर्क कैसे बन गया हवाई जहाज़ के लिए खतरा?

5जी नेटवर्क कैसे बन गया हवाई जहाज़ के लिए खतरा?

5G के रोल आउट को लेकर दिक्कतें चालू.

गाड़ी का इंश्योरेंस कराने वालों को दिल्ली हाई कोर्ट का ये आदेश जान लेना चाहिए

गाड़ी का इंश्योरेंस कराने वालों को दिल्ली हाई कोर्ट का ये आदेश जान लेना चाहिए

बीमा कंपनी गाड़ी चोरी या दुर्घटनाग्रस्त होने का बहाना बनाए तो ये आदेश दिखा देना.

राजस्थान पुलिस अलवर गैंगरेप की जांच सड़क हादसे के ऐंगल से क्यों कर रही है?

राजस्थान पुलिस अलवर गैंगरेप की जांच सड़क हादसे के ऐंगल से क्यों कर रही है?

दबी जुबान में क्या कह रही है पुलिस?

बजट में FD को लेकर बैंकों की ये बात मानी गई तो आप और सरकार दोनों की मौज आ जाएगी!

बजट में FD को लेकर बैंकों की ये बात मानी गई तो आप और सरकार दोनों की मौज आ जाएगी!

जानेंगे बैंक FD में क्यों घट रही है लोगों की दिलचस्पी.

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

तौकीर रजा कांग्रेस पर आरोप लगा चुके हैं कि उसने मुसलमानों पर आतंकी का टैग लगाया.

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

जानिए UPA के समय हुई इस डील ने कैसे देश को शर्मसार किया.

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

बीबीसी का आरोप, टीम के साथ नरसिंहानंद के समर्थकों ने गाली-गलौज और धक्का-मुक्की की.

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

मुख्य आरोपी के साथ उसके दोस्तों को पुलिस ने पकड़ लिया है.

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

पार्टी के इस कदम से आहत हरक सिंह रावत मीडिया के सामने भावुक हो गए.