Submit your post

Follow Us

राम का नाम लेकर नमाज़ियों को भगाने वाले गुंडे पकड़े गए हैं

गुडगांव की घटना. कुछ ‘जागे हुए’ हिंदू युवकों ने नमाज़ पढ़ रहे एक बड़े समूह को भगा दिया. फिर उसका वीडियो बना लिया जो सोशल मीडिया पर तमगे की तरह पेश किया गया. कुछ ऐसे कैप्शंस के साथ…

“400 मुस्लिमों को भगाने के लिए कुल 15 हिन्दू जागरूक युवक चाहिए.”

हफ्ते की बड़ी इबादत को ज़मीन पर कब्ज़ा बताते ये शेर अपने किए में न जाने कौन सा राष्ट्रहित खोज रहे थे. न सिर्फ एक घटिया हरकत की बल्कि उसे गर्व से दिखाया भी. इसकी शुरुआत ‘जय श्री राम’ के नारे के साथ होती है. कानफाड़ नारे के बाद हम वीडियो में देखते हैं कि कुछ मवाली राम और कृष्ण का नाम चिल्लाते हुए हुड़दंग कर रहे हैं और उनके ठीक सामने तमाम लोग ज़मीन पर चटाई डालकर बैठे हुए हैं. ज़्यादातर के सर ढंके हुए हैं – चेक वाले रुमाल से, जालीदार टोपी से. कुछ के सिर पर पगड़ी भी है. इतनी चीज़ें पकड़ आने तक आप समझ जाते हैं कि ये लोग मुसलमान हैं और वहां से भगाए जा रहे हैं. बैठे हुए थे, तो ये अंदाज़ा लगता है कि नमाज़ पढ़ रहे थे. तो ये वीडियो एक मैदान में नमाज़ पढ़ रहे मुसलमानों को भगाने का है.

वीडियो यहां देखिए:

वो जय श्री राम के नारे लगाते हुए आए, नमाज़ पढ़ते लोगों को भगाने लगेवो जय श्री राम के नारे लगाते हुए आए, नमाज़ पढ़ते लोगों को भगाने लगे

Posted by The Lallantop on Monday, 23 April 2018

इस वीडियो को देखकर हर समझदार इंसान गुस्से में भर जाएगा. ये किसी धर्म की रक्षा नहीं बल्कि विशुद्ध गुंडागर्दी थी. और ज़ाहिर है गुंडों पर कार्रवाई होती ही है. गुरुग्राम पुलिस ने इनमें से छह गुंडों को गिरफ्तार कर लिया है. बाकियों की तलाश जारी है.

पुलिस ने इनकी पहचान उसी वीडियो के आधार पर की जिसे बढ़-बढ़ कर शेयर किया जा रहा था. इन छह लड़कों के नाम अरुण, मनीष, दीपक, मोहित, रविंदर और मोनू उर्फ़ नंबरदार है.

25 अप्रैल को नेहरु युवा संगठन वेलफेयर सोसाइटी चैरिटेबल ट्रस्ट के हाजी शहजाद ख़ान और वाजिद ख़ान ने इन गुंडों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी. इसके बाद से ही पुलिस मामले की छानबीन कर रही थी. थोड़ी सी मेहनत से उन्होंने कुछ लड़कों के नाम जुटा लिए जिनकी शक्ल वीडियो में साफ़-साफ़ नज़र आ रही थी. फिलहाल उन लड़कों को जेल भेज दिया गया है.

पुलिस ने उनके बारे में एक अहम बात बताई है. इनमें से चार लड़के वज़ीराबाद और दो कन्हाई गांव के हैं. गुरुग्राम पुलिस के पीआरओ रविंदर कुमार ने बताया कि ये लड़के बेरोज़गार थे. कोई पक्का काम किसी के पास नहीं था. साथ ही ये भी बताया कि किसी पॉलिटिकल पार्टी या संगठन से इनका कोई कनेक्शन अभी तक सामने आया है.

अवैध कब्ज़े का तो नहीं पता लेकिन नफरत से अंधे हुए कुछ लोगों ने जेल पहुंचकर अपने परिवार को शर्मिंदा करने का सामान ज़रूर कर दिया है.


ये भी पढ़ें:

मुस्लिम ड्राइवर की कैब कैंसल करने वाले अभिषेक मिश्रा पहले ओला नहीं, ऊबर से जाते थे

दिल्ली की बस में मारते हुए मौलवी से कहा – हिंदुस्तानी हो, तो बोलो जय माता दी, जय श्री राम

मुस्लिम लड़के के हिंदू लड़की से रेप करने की घटना का सच क्या है?

रामनवमी के बाद भड़की हिंसा में जुलूसों में बजने वाले डीजे कम दोषी नहीं थे

क्या राजस्थान में राम और हनुमान दंगा करवाने के साधन बन गए हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

'निसर्ग' चक्रवात क्या है और ये कितना ख़तरनाक है?

'निसर्ग' नाम का मतलब भी बता रहे हैं.

कोरोना काल में क्रिकेट खेलने वाले मनोज तिवारी ‘आउट’

दिल्ली में हार के बाद बीजेपी का पहला बड़ा फैसला.

1 जून से लॉकडाउन को लेकर क्या नियम हैं? जानिए इससे जुड़े सवालों के जवाब

सरकार ने कहा कि यह 'अनलॉक' करने का पहला कदम है.

3740 श्रमिक ट्रेनों में से 40 प्रतिशत ट्रेनें लेट रहीं, रेलवे ने बताई वजह

औसतन एक श्रमिक ट्रेन 8 घंटे लेट हुई.

कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया गया, बाकी इलाकों में छूट की गाइडलाइंस जानें

गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर चरणबद्ध छूट को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं.

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.