Submit your post

Follow Us

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

रंजीत सिंह मर्डर केस में दोषी पाए गए गुरमीत राम रहीम को अदालत ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. उसके अलावा 4 अन्य दोषियों को भी यही सजा दी गई है. इनके नाम हैं जसबीर, सबदिल, इंदर सेन, अवतार और किशन लाल. इंदर सेन की 2020 में मौत हो गई थी. बाकी 4 दोषियों की बाकी जिंदगी अब जेल में ही कटेगी.

सजा के ऐलान के बाद गुरमीत राम रहीम फिर चर्चा में है. लल्लनटॉप ने इस बलात्कारी और हत्यारे के बारे में कई स्टोरी की हैं. अदालत के फैसले के बाद हम कई स्टोरी एक बार फिर अपने पाठकों के सामने रख रहे हैं. इनमें से एक ये स्टोरी 26 अगस्त 2017 को प्रकाशित की गई थी.


25 अगस्त को भले ही सीबीआई कोर्ट ने गुरमीत राम रहीम को सजा सुना दी, लेकिन सीबीआई के लिए इस केस की तह तक जाना कभी आसान नहीं था. सीबीआई के दो अधिकारियों की बदौलत ये मामला अंजाम तक पहुंच पाया. ये अफसर थे सीबीआई के तत्कालीन डीआईजी मुलिंजा नारायणन और सीबीआई के डीएसपी सतीश डागर. इन दोनों के हौसले को सलाम जिनकी वजह रेपिस्ट बाबा गुरमीत राम रहीम सलाखों के पीछे पहुंच पाया.

 

 

मुलिंजा को दिया केस, ताकि वो इसे बंद कर सकें

cbi office
इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक सीबीआई के तत्कालीन डीआईजी मुलिंजा नारायणन को 2007 में यह केस सौंपा गया था. केस हाथ में लेने के साथ ही उन्हें डेरा समर्थकों की ओर से धमकी भी मिलने लगी थी. मुलिंजा बताते हैं कि जिस दिन उन्हें केस सौंपा गया था, उसी दिन उनके अधिकारी उनके रूम में आए और कहा कि ये केस तुम्हें जांच करने के लिए नहीं, बंद करने के लिए सौंपा गया है. इसके अलावा मुलिंजा पर और भी अधिकारियों और नेताओं का भी दबाव था, लेकिन वो नहीं झुके.

‘मुझे पता था कि वो एक डरा हुआ आदमी है’

Ram Rahim Jail
गुरमीत राम रहीम को हेलीकॉप्टर से जेल ले जाया गया.

मुलिंजा बताते हैं कि उन्हें ये केस अदालत ने सौंपा था, इसलिए झुकने का कोई सवाल ही नहीं पैदा होता था. सीबीआई ने इस मामले में 2002 में एफआईआर दर्ज की थी. पांच साल तक मामले में कुछ नहीं हुआ तो कोर्ट ने केस एक ऐसे अधिकारी को सौंपने को कहा जो किसी अधिकारी या नेता के दबाव में न आए. जब केस मेरे पास आया, तो मैंने अपने अधिकारियों से कह दिया कि मैं उनकी बात नहीं मानूंगा और केस की तह तक जाउंगा. इसके अलावा बड़े नेताओं और हरियाणा के सांसदों तक ने मुझे फोन कर केस बंद करने के लिए कहा, लेकिन मैं नहीं झुका. हाई कोर्ट ने केस मुझे सौंपा था, इसलिए मुझे किसी के आगे झुकने की जरूरत नहीं थी.

6 बाबाओं की कहानी, जो रेप के आरोप में जेल में हैं. देखें वीडियो

जांच के बारे में याद करते हुए मुलिंजा नारायणन ने बताया कि जब बाबा को पूछताछ के लिए बुलाया जाता था, तो वो बाबा बनने की कोशिश करते थे, लेकिन मुझे लगता था कि वो एक डरा हुआ आदमी है. मुलिंजा ने बताया कि उन्हें सबसे ज्यादा आश्चर्य तब हुआ, जब उनके जूनियर अधिकारी भी उन्हें केस बंद करने के लिए कह रहे थे.

घर खोजते रहे डेरा समर्थक

ram rahim4
राम रहीम को सजा के बाद डेरा समर्थकों ने कई जगह हिंसा  और आगजनी की है.

मुलिंजा को डेरा समर्थकों की ओर से भी लगातार धमकी मिल रही थी. वो उनका घर तलाश करने और उनके परिवार को परेशान करने की कोशिश कर रहे थे. इसके अलावा एक लेटर के आधार पर मामले की जांच करना इतना आसान नहीं था. लेटर की जांच के दौरान पता चला कि ये पंजाब के होशियारपुर से आया है, लेकिन इसे किसने भेजा है, ये पता नहीं चल पाया. नारायणन ने बताया कि मुझे परिवार के लोगों को मैजिस्ट्रेट के सामने 164 का बयान देने के लिए समझाना पड़ा, क्योंकि पीड़ित और उसके परिवार के लोगों को डेरा की ओर से धमकी मिल रही थी.

सब इंस्पेक्टर से  CBI जॉइंट डायरेक्टर पद तक पहुंचे

Mulinja (1)
मुलिंजा नारायणन ने बिना किसी दबाव में आए केस को अंजाम तक पहुंचाया.

लगातार मुसीबतें झेलते हुए मुलिंजा 2009 में सीबीआई के जॉइंट डायरेक्टर की पोस्ट से रिटायर हुए थे. मुलिंजा सीबीआई में बतौर सब इंस्पेक्टर आए थे. अपनी 38 साल की सेवा में उन्हें ईमानदारी का ईनाम भी मिला और वो जॉइंट डायरेक्टर के पद से रिटायर हुए.

एक और बहादुर अफसर सतीश डागर का मिला साथ

cbi1
मुलिंजा जब सीबीआई के डीआईजी थे, तो सतीश डागर एक और अफसर थे, जो एसीपी थे. 2005-06 के दौरान केस सतीश डागर के हाथ में था. उन्होंने बिना किसी दबाव में आए प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और हाई कोर्ट को भेजे गए पत्र की तफ्तीश की और पत्र भेजने वाली महिला को तलाश कर लिया. डागर ने ही सुरक्षा का भरोसा दिलवाकर दोनों महिलाओं को गवाही के लिए तैयार किया. जब केस की सुनवाई शुरू हुई तो राम रहीम के समर्थक इनको धमकाते रहे, लेकिन सीबीआई के एसपी ऑफिस में विशेष कोर्ट बनाकर सुनवाई जारी रही. इस मामले में जिस पत्रकार राम चंदर छत्रपति की हत्या हुई, उनके बेटे अंशुल ने भी सतीश डागर के साहस की तारीफ की है. अंशुल के मुताबिक सतीश डागर पर अधिकारियों और नेताओं का दबाव था, तो दूसरी ओर उन्हें डेरा समर्थकों की ओर से धमकी भी मिल रही थी. लेकिन डागर ने उस वक्त में भी कमाल का साहस दिखाया और केस को अंजाम तक पहुंचाने में सफल रहे.

देखें गुरमीत राम रहीम मामले के और वीडियोः


Also Read:

गुरमीत राम रहीम पर अगला केसः ‘भक्त की बीवी को बुलाया, अपने पास रख लिया, 3 साल से नहीं छोड़ा’

बाबा राम रहीम केस में सबसे ज़्यादा मूर्खता वाली बात भाजपा सांसद साक्षी महाराज ने कही है

ये है राम रहीम की कुल सल्तनत, जिसको ज़ब्त कर नुकसान की भरपाई की जाएगी

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

भयानक बहस हुई, फिर ट्विटर बॉस के ट्वीट पर एलन मस्क बोले -

भयानक बहस हुई, फिर ट्विटर बॉस के ट्वीट पर एलन मस्क बोले - "ये तो टट्टी है"

मस्क का टट्टी वाला रिप्लाई देखिए!

यूपी : चोरों ने मंदिर में करोड़ों की चोरी की, फिर एक सपना देखा और चोरी का सामान लौटा दिया

यूपी : चोरों ने मंदिर में करोड़ों की चोरी की, फिर एक सपना देखा और चोरी का सामान लौटा दिया

चिट्ठी लिखकर चोरों ने चोरी लौटाई, चोरी लौटने की वजह भी चोरों ने बताई.

ज्ञानवापी केस : सुप्रीम कोर्ट पहुंची हिंदू सेना, मस्जिद की जमीन को लेकर किया बवाली दावा!

ज्ञानवापी केस : सुप्रीम कोर्ट पहुंची हिंदू सेना, मस्जिद की जमीन को लेकर किया बवाली दावा!

"जगह वापिस दिलवाइए, इनकी याचिका खारिज कर दीजिए."

मध्य प्रदेश : दरगाह के पास हनुमानजी की मूर्ति लगाने पर भारी बवाल

मध्य प्रदेश : दरगाह के पास हनुमानजी की मूर्ति लगाने पर भारी बवाल

लंबे समय से चल रहा था विवाद, फिर एक समुदाय ने मूर्ति रख दी

ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे की रिपोर्ट लटक सकती है! वकील ने क्या बताया?

ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे की रिपोर्ट लटक सकती है! वकील ने क्या बताया?

आज कोर्ट में पेश की जानी है रिपोर्ट

रोहित-विराट की फॉर्म पर क्या बोले BCCI प्रेसिडेंट सौरव गांगुली?

रोहित-विराट की फॉर्म पर क्या बोले BCCI प्रेसिडेंट सौरव गांगुली?

वर्ल्ड कप तक तो...

रोवमन पॉवेल से छूटे कैच ने दिल्ली का मैच बना दिया?

रोवमन पॉवेल से छूटे कैच ने दिल्ली का मैच बना दिया?

पॉवेल को थैंक्यू बोलेंगे पंत.

शाहरुख, विराट या पंत की दिल्ली, कौन होगी IPL प्लेऑफ की चौथी टीम?

शाहरुख, विराट या पंत की दिल्ली, कौन होगी IPL प्लेऑफ की चौथी टीम?

IPL प्लेऑफ का सारा गणित.

ऋषभ पंत ने बता दी कुलदीप का कोटा ना पूरा कराने की वजह!

ऋषभ पंत ने बता दी कुलदीप का कोटा ना पूरा कराने की वजह!

पृथ्वी की वापसी पर भी बोले कैप्टन.

मयंक ने बताया किन पांच ओवर्स में दिल्ली ने पंजाब से छीना मैच

मयंक ने बताया किन पांच ओवर्स में दिल्ली ने पंजाब से छीना मैच

आखिरी मैच में धमाका करेगा पंजाब?