Submit your post

Follow Us

गुरमीत की तरह इन दो गुरुओं ने भी चलाई थी अपनी खुद की करेंसी

भारत में रहते हुए गुरमीत राम रहीम अपने डेरों में एक पैरेलल सरकार चलाता था. वहां उसकी खुद की व्यवस्था, खुद के कानून और खुद की करेंसी थी. खासतौर पर करेंसी. डेरे के अंदर और बाहर भी खरीदारी के लिए दुकानें खोली गई थीं. जहां भारतीय रिजर्व बैंक की ही नहीं, गुरमीत की करेंसी भी चलती थी. इन बाबाओं का इस स्तर पर अपनी सत्ता स्थापित कर लेना चौंकाता है. आज आपको बताते हैं गुरमीत ही नहीं दो और अलग-अलग प्रतिष्ठा वाले ऐसे गुरु लोगों के बारे में जिन्होंने खुद की करेंसी चलाई. जैसे मथुरा में  रामवृक्ष यादव ने और अमेरिका-यूरोप में महर्षि महेश योगी ने. 

1. गुरमीत सिंहः ‘सच्चा शॉप’ पर चलती थी प्लास्टिक की करेंसी

गुरमीत राम रहीम की करेंसी थी प्लास्टिक के सिक्के. जिन पर लिखा होता था ‘धन धन सतगुरु तेरा ही आसरा, डेरा सच्चा सौदा सिरसा.’ सिरसा के डेरा में जो लोग दुकानों का संचालन करते थे, वे ग्राहकों को छुट्टे देने के लिए इन प्लास्टिक के सिक्कों का इस्तेमाल करते थे. डेरा परिसर के भीतर और उसके इर्द-गिर्द मौजूद इन दुकानों पर नाम के शुरू में ‘सच’ लिखा होता था. ग्राहक यदि भारतीय करेंसी यानी रुपये में खुल्ले नहीं दे पाते तो दुकानदार इनके बदले पांच और दस रुपए के प्लास्टिक के सिक्के या टोकन उन्हें दिया करते थे.

सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा का हेडक्वार्टर.
सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा का हेडक्वार्टर.

डीएनए की रिपोर्ट के मुताबिक अगर किसी कस्टमर ने इन दुकानों से कोई 70 रुपए का सामान ख़रीदा और उसने 100 रुपए दिए तो चेंज के बदले उसे 30 रुपए नहीं लौटाए जाते थे, बल्कि तीन प्लास्टिक के टोकन दे दिए जाते थे. प्रत्येक टोकन की कीमत 10 रुपए होती थी.

अपने उत्पादों का प्रचार करते हुए गुरमीत.
अपने उत्पादों का प्रचार करते हुए गुरमीत.

डेरा कैंपस करीब 1,000 एकड़ इलाके में फैला हुआ है. इसकी अपनी टाउनशिप है. अपने स्कूल हैं. खेल गांव, अस्पताल और सिनेमा हॉल भी है. ‘सच दुकानों’ पर चलने वाले सिक्के अलग-अलग कलर कोड में होते थे. सीबीआई कोर्ट ने जब गुरमीत को दोषी करार दिया तो डेरा मुख्यालय के इर्द-गिर्द हालात का जायजा लेने कुछ जर्नलिस्ट सिरसा पहुंचे थे. उन्हें भी भारतीय रुपए की जगह ऐसे प्लास्टिक के सिक्के मिले.

2. रामवृक्ष यादव : इनकी चलाई पर्ची और आरबीआई का नोट एक बराबर थे

ये वही रामवृक्ष है जिसकी वजह से पिछले साल जून में यूपी के जवाहरबाग में हुए हिंसक टकराव में 24 लोग मारे गए थे जिनमें तब के एसपी सिटी मुकुल द्विवेदी और एसओ संतोष यादव की जान भी गई. 70 के दशक में पूरे उत्तर भारत में मथुरा के बाबा जयगुरुदेव की धूम थी  और ये रामवृक्ष उन्हीं के शिष्य थे लेकिन बाद में जब उसकी हरकतों का जयगुरुदेव का पता चला और उन्होंने उससे दूरी बनाई तो रामवृक्ष ने अपना अलग गुट बना लिया.

रामवृक्ष यादव
रामवृक्ष यादव

उसने आजाद हिंद सरकार नाम से एक संगठन तैयार किया. उसका खुद का बार्टर सिस्टम था. खुद की दुकानें थी. वहां पर पर्ची चलती थी. जिस परिवार को खाने-पीने या घरेलू इस्तेमाल का जो सामान चाहिए होता था उसकी पर्ची लिख दी जाती थी जो भारत सरकार की करेंसी की जगह चलती थी. संबंधित दुकान पर उस पर्ची को देकर सामान लिया जा सकता था.

जवाहरलाल में
जवाहरबाग़ में रामवृक्ष का किला ढहाने के बाद पुलिस.

रामवृक्ष अपनी खुद की करेंसी इसलिए चलाता था क्योंकि वो राष्ट्रपति की जगह खुद को देश का प्रथम नागरिक मानता था. उसका कहना था कि किसी के पास देश की नागरिकता नहीं है. उसकी ये भी मांग थी कि आजादी के समय 1 डॉलर और 1 रुपए की कीमत बराबर थी तो आज दोनों में इतना अंतर क्यों हो गया है? वो कहता था कि उसे आज एक रुपये में एक लीटर पेट्रोल चाहिए. अगर नहीं मिलता है तो ये करेंसी फर्जी है.

3. महर्षि योगी: जिन्होंने अमेरिका और नीदरलैंड में ‘राम’ मुद्रा चलाई

महर्षि महेश योगी ने इंडिया की अपनी ‘ट्रांसेंडेंटल मेडिटेशन टेक्नीक’ (अनुभवातीत ध्यान) को 50 साल पहले ही वेस्टर्न मुल्कों में फेमस करना शुरू कर दिया था. 1968 में मशहूर रॉक बैंड द बीटल्स के मेंबर जब भारत आए तो वे महर्षि योगी से मिले और उनके साथ मेडिटेट किया. 2008 में 91 की उम्र में उनका निधन हुआ तो वर्ल्ड में उनके करीब 60 लाख फॉलोअर्स थे.

महेश योगी 1968 में इंडिया आए द बीटल्स के सितारों के साथ.
महेश योगी 1968 में इंडिया आए द बीटल्स के सितारों के साथ.

इन्हीं महर्षि योगी ने विश्व शांति के लिए विश्व शांति राष्ट्र नाम की संस्था बनाई थी जिसने 2002 में अपनी खुद की करेंसी ‘राम राज्य मुद्रा’ जारी की. 1 राम का नोट यूरोप में 10 यूरो के बराबर और अमेरिका में 10 डॉलर के बराबर होता था. इसका इस्तेमाल नीदरलैंड और अमेरिका के कई राज्यों में किया जा सकता था.

img_20170702080927589c156b36b36

राम मुद्रा का नोट.
राम मुद्रा का नोट.

ये लीगल टेंडर नहीं होता था. इस करेंसी का इस्तेमाल परिचित लोगों के समूह आपस में कर सकते थे.

Also Read :

गुरमीत राम रहीम को 10 साल कैद की सजा, कोर्ट की फर्श पर बैठा रो रहा है
प्रियंका तनेजा उर्फ़ हनीप्रीत: गुरमीत की ‘गुड्डी’, जिसके बिना उसका एक मिनट भी नहीं कटता
जेल में भी कम नहीं हुई राम रहीम की हेकड़ी, बोला, ‘सस्पेंड करवा दूंगा’
पूरी कहानी: गुरमीत कैसे बना अरबों के डेरे का मालिक और संत कैसे बना बलात्कारी
गुरमीत राम रहीम के जेल जाने के बाद ये दो लोग संभाल सकते हैं डेरा
जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को
गुरमीत राम रहीम पर अगला केसः ‘भक्त की बीवी को बुलाया, अपने पास रख लिया, 3 साल से नहीं छोड़ा’
बाबा राम रहीम की असली कहानी
कैदी नंबर 1997 गुरमीत राम रहीम ने जेल जाने के बाद क्या-क्या किया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने पीएम मोदी के लिए क्या कहा?

आज आए चुनाव नतीजे में ममता, कांग्रेस और BJP को कहां-कहां जीत हार का सामना करना पड़ा?

आज आए चुनाव नतीजे में ममता, कांग्रेस और BJP को कहां-कहां जीत हार का सामना करना पड़ा?

उपचुनाव के नतीजे एक जगह पर.

जेल से बाहर आए शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान, मन्नत के लिए रवाना

जेल से बाहर आए शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान, मन्नत के लिए रवाना

3 अक्टूबर को आर्यन खान को गिरफ्तार किया गया था.

वरुण गांधी ने कहा- UP में किसानों का फसल जलाना सरकार के लिए शर्म की बात, जेल कराऊंगा

वरुण गांधी ने कहा- UP में किसानों का फसल जलाना सरकार के लिए शर्म की बात, जेल कराऊंगा

किसानों के बहाने फिर बीजेपी पर निशाना साध रहे वरुण गांधी?

कन्नड़ सुपरस्टार पुनीत राजकुमार की सिर्फ 46 की उम्र में डेथ!

कन्नड़ सुपरस्टार पुनीत राजकुमार की सिर्फ 46 की उम्र में डेथ!

ट्विटर पर फिल्म इंडस्ट्री ने पुनीत को किया भारी मन से याद.

Facebook का नाम बदलने के बाद क्या अब आपका अकाउंट Meta पर खुलेगा?

Facebook का नाम बदलने के बाद क्या अब आपका अकाउंट Meta पर खुलेगा?

इससे फेसबुक पर क्या कुछ फर्क पड़ने वाला है?

क्या मोदी सरकार ने अग्नि-5 मिसाइल की क्षमता घटा दी है?

क्या मोदी सरकार ने अग्नि-5 मिसाइल की क्षमता घटा दी है?

कांग्रेस सेवा दल के दावे पर लोग मजे क्यों लेने लगे?

एयर इंडिया को खरीदने वाले टाटा ग्रुप को अब भारत सरकार 302 करोड़ रुपए क्यों देगी?

एयर इंडिया को खरीदने वाले टाटा ग्रुप को अब भारत सरकार 302 करोड़ रुपए क्यों देगी?

एयर इंडिया ने मंत्रालयों और विभागों को उधार टिकट देना भी बंद कर दिया है.

पेगासस मामले पर SC ने बिठाई कमेटी, जानिए किस किस पहलू से होगी जासूसी की जांच

पेगासस मामले पर SC ने बिठाई कमेटी, जानिए किस किस पहलू से होगी जासूसी की जांच

केंद्र के जवाब से असहमत कोर्ट ने कहा, लोगों की विवेकहीन जासूसी मंजूर नहीं.