Submit your post

Follow Us

रेपिस्ट राम रहीम पर सियासी जमात में सन्नाटा क्यों है? वजह हम बताते हैं

राम रहीम रेप का दोषी है. सीबीआई कोर्ट के फैसले के बाद हरियाणा हिंसा में जल उठा है. केंद्रीय गृह मंत्रालय के बयान के मुताबिक हिंसा में 31 लोग मर चुके हैं. पंचकुला में 29 और सिरसा में दो लोगों की मौत हुई है. कम से कम 250 लोग घायल हुए हैं. घायलों में 60 पुलिसकर्मी भी हैं. मगर सारे नेताओं की ज़बान पर चुप्पी का ताला लटका हुआ है. कोई न हिंसा करने वालों को बुरा कह रहा है और न बाबा के खिलाफ एक भी टिप्पणी कर रहा है. सिर्फ और सिर्फ कोर्ट है, जो इस हिंसा पर पूरी नज़र बनाए हुए है. तभी तो कोर्ट ने नुकसान की भरपाई के लिए गुरमीत की संपत्ति ज़ब्त करने का ऑर्डर दे दिया. और सरकार की लापरवाही पर भी लताड़ लगाई है. तो हम आपको बताते हैं कि कोई नेता राम रहीम के गुंडे भक्तों पर एक लफ्ज़ भी क्यों नहीं बोल रहा है. भाजपा ही नहीं बल्कि पूरा विपक्ष खामोश है. कांग्रेस के नेता भी नहीं बोल रहे.

हमें आपको कुछ नहीं कहना. सिर्फ ये कुछ तस्वीरें हैं, जिनको देखकर अंदाज़ा लगा लीजिए कि इस ख़ामोशी की वजह क्या है. वैसे तो पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट पहले ही सरकार की चुप्पी की वजह बता चुका है. कोर्ट का कहना है कि राजनीतिक फायदे के लिए हिंसा को होने दिया गया.

बीजेपी लीडर जनरल वीके सिंह, मनोज तिवारी के साथ स्वच्छता अभियान चलाते राम रहीम 

VK singh-ram rahim PTI

26 अगस्त को कोर्ट में केंद्र सरकार के वकील का कहना था कि शुक्रवार (25 अगस्त) को हुई हिंसा राज्य का मामला था. इसपर हाई कोर्ट के जज ने कहा कि मोदी बीजेपी के नहीं देश के प्रधानमंत्री हैं और उनकी भी कुछ जिम्मेदारी बनती है. जज ने आगे पूछा कि क्या हरियाणा भारत का हिस्सा नहीं है? इतना ही नहीं हाईकोर्ट ने खट्टर सरकार को भी डांट लगाई. कहा कि खट्टर सरकार ने वोटों की राजनीति के लिए राज्य को जलने दिया.

बीजेपी लीडर शाहनवाज़ हुसैन के साथ राम रहीम

shahnawaz-ram rahim

हम न्यूज़रूम में बैठे हुए 10 सवाल खड़े कर सकते हैं कि ये क्यों नहीं किया, वो क्यों नहीं किया. लेकिन जब हिंसा भड़कती है. उसे रोकना आसान नहीं होता. ये बात मान लेते हैं. जाट आरक्षण के दौरान भी हिंसा भड़की थी. पता नहीं था कि ऐसा होगा. मगर इस बार पता था. वो जगह भी पता थी कि कहां हिंसा भड़क सकती है. ये भी पता था कि कौन लोग हिंसा भड़काने वाले हैं. और कब भड़केगी. सब कुछ पता होने के बावजूद हिंसा को न रोकना सवाल तो खड़े करेगा ही खट्टर सरकार पर. ये सब राजनीति के लिए ही था. क्योंकि जीत दर्ज करने के लिए नेता बाबा की शरण में जाते थे. अब जो सरकार बनाने में मदद करता हो उसके खिलाफ कोई काम कैसे करे.

हरियाणा सीएम मनोहर लाल खट्टर के साथ राम रहीम

khattar-gurmeet

बीजेपी सांसद मनोज तिवारी और मुक्केबाज़ विजेंद्र सिंह के साथ राम रहीम

Photo : PTI
Photo : PTI

हरियाणा और पंजाब विधानसभा चुनाव के वक़्त गुरमीत राम रहीम सिंह ने बीजेपी और अकाली दल का खुलकर समर्थन किया था. 7 अक्टूबर 2014 को इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट है कि हरियाणा विधानसभा चुनाव में बीजेपी के 90 उम्मीदवारों में से 44 उम्मीदवार सिरसा राम रहीम से मिलाने के लिए ले जाए गए थे. उम्मीदवारों के मिलने से 6 दिन पहले अमित शाह ने भी राम रहीम से मुलाकात थी और ये पहली बार था जब राम रहीम ने खुलकर किसी राजनीतिक दल का समर्थन किया था.

हरियाणा सीएम का कुछ महीने पहले किया गया ये ट्वीट भी देख लो

khattar tweet-ram rahim

राजस्थान की सीएम वसुंधरा राजे के साथ राम रहीम

vasundhara

सीएम खट्टर ने कुछ और ही सपना देखा था मगर हो क्या गया?

khattar tweet

पीएम मोदी भी राम रहीम से बहुत खुश थे, मगर अब राम रहीम पर चुप हैं

modi

सिर्फ नेता ही नहीं, बल्कि एक बार राम रहीम ने एक इंटरव्यू में खुद कहा था कि शिखर धवन, आशीष नेहरा, ज़हीर खान, युसूफ पठान हमसे मिलने आते थे, वो चाहे मेरा नाम ले, न लें. ये उनकी मर्ज़ी. मैंने उन्हें ट्रेंड किया है.

विराट कोहली, आशीष नेहरा राम रहीम की शरण में

Virat Kohli- ram rahim

और हां बीजेपी के नेता ही नहीं, बल्कि अकाली दल और कांग्रेस के नेता भी राम रहीम की शरण में जाते रहे हैं. 15 अक्टूबर 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला भी आशीर्वाद लेने पहुंचे थे.

ram 1

अब भी कुछ और सुनना चाहते हो या फिर पता चल गया कि आखिर क्यों सियासी जमात में सन्नाटा है. क्यों टीवी डिबेट में नहीं चिल्ला रहे कि सख्त एक्शन लिया जाए.


ये भी पढ़िए : 

वो 4 बाबा जिनके समर्थकों से टक्कर लेने में फोर्स को पसीने आ गए

गुरमीत राम रहीम पर अगला केसः ‘भक्त की बीवी को बुलाया, अपने पास रख लिया, 3 साल से नहीं छोड़ा’

ये है राम रहीम की कुल सल्तनत, जिसको ज़ब्त कर नुकसान की भरपाई की जाएगी

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

जानिए जज जगदीप सिंह को, जिन्होंने राम रहीम के फैसले पर दस्तखत किए

बाबा राम रहीम केस में सबसे ज़्यादा मूर्खता वाली बात भाजपा सांसद साक्षी महाराज ने कही है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

Bull Run कांड में सेबी का फैसला, एक ही परिवार के 6 लोगों पर लगा बैन.

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

कांग्रेस की पहली लिस्ट में 50 महिला उम्मीदवार शामिल हैं

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

तस्वीर गौर से देखेंगे तो समझ आ जाएगा, हम तो बता ही देंगे.

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

बीते 24 घंटों के भीतर यूपी के दो कैबिनेट मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है.

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस ने असल में क्या कहा है?

दिल्ली में प्राइवेट ऑफिस, रेस्टोरेंट और बार पूरी तरह बंद किए गए, छूट किसे मिली है ये जान लो

दिल्ली में प्राइवेट ऑफिस, रेस्टोरेंट और बार पूरी तरह बंद किए गए, छूट किसे मिली है ये जान लो

कोरोना के केस बढ़ने के बीच DDMA की नई गाइडलाइंस जारी.

यूपी में MSP कृषि लागत से ज्यादा नहीं तो BJP इसका ढोल क्यों पीट रही है?

यूपी में MSP कृषि लागत से ज्यादा नहीं तो BJP इसका ढोल क्यों पीट रही है?

यूपी में MSP की तारीफ़ का सच.

Nykaa का IPO अशनीर ग्रोवर और कोटक महिंद्रा के बीच जंग की वजह कैसे बन गया?

Nykaa का IPO अशनीर ग्रोवर और कोटक महिंद्रा के बीच जंग की वजह कैसे बन गया?

BharatPe के लीगल नोटिस और अशनीर ग्रोवर के 'गाली' वाले ऑडियो पर क्या बोला Kotak?

Xiaomi ने सरकार को कैसे लगा दिया 653 करोड़ का चूना?

Xiaomi ने सरकार को कैसे लगा दिया 653 करोड़ का चूना?

Xiaomi भारत में सबसे ज्यादा मोबाइल बेचने वाली चीनी कंपनी है.

नरसिंहानंद का एक और घटिया बयान, 'जिसने एक बेटा पैदा किया, उस मां को औरत मत मानना'

नरसिंहानंद का एक और घटिया बयान, 'जिसने एक बेटा पैदा किया, उस मां को औरत मत मानना'

नरसिंहानंद ने कहा, "मुसलमानों से हिंदुओं को मरवाओगे क्या?"