Submit your post

Follow Us

गुजरात दंगों की जांच में तथ्यों की अनदेखी के आरोप पर क्या बोली SIT?

जकिया जाफरी. गुजरात दंगों में मारे गए कांग्रेस सांसद एहसान जाफरी की पत्नी. जकिया जाफरी ने गुजरात दंगों की जांच में तत्कालीन सीएम नरेंद्र मोदी और अन्य लोगों को क्लीन चिट देने वाली SIT रिपोर्ट को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर ही ये SIT बनाई गई थी. जकिया जाफरी के दावों के मद्देनजर शीर्ष अदालत ने उस रिपोर्ट को फिर से देखने की बात कही थी. अब SIT ने कहा है कि वो जकिया जाफरी की तरफ से उठाए गए सवालों के जवाब देगी. उसकी तरफ से जाने-माने वकील मुकुल रोहतगी ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि SIT ने दंगों से जुड़े सभी पहलुओं को कवर करते हुए ही रिपोर्ट तैयार की थी.

SIT की रिपोर्ट के आधार पर अहमदाबाद मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट कोर्ट ने नरेंद्र मोदी और 63 अन्य आरोपियों को क्लीन चिट दी थी. बाद में गुजरात हाई कोर्ट ने 5 अक्टूबर 2017 को इस फैसले को बरकरार रखा था. नवंबर 2018 में जकिया जाफरी ने इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी. कहा कि उनकी शिकायतों और दंगों से जुड़े तथ्यों को रिपोर्ट में अनदेखा किया गया. जकिया जाफरी की अपील पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने रिपोर्ट देखने की बात कही. अब इस पर SIT का जवाब आया है.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक एसआईटी की तरफ से मुकुल रोहतगी ने कहा है कि मामले की जांच सभी तथ्यों को ध्यान में रखकर की गई थी. उन्होंने जस्टिस एएम खानविलकर की अगुवाई वाली बेंच से कहा,

“हम आपको दिखाएंगे कि हमने पूरी ईमानदारी से हर चीज की जांच की है.”

इससे पहले मंगलवार 26 अक्टूबर को जकिया जाफरी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. उनकी तरफ से सीनियर एडवोकेट कपिल सिब्बल पेश हुए. सिब्बल ने कोर्ट में दलील दी कि एसआईटी की रिपोर्ट में जकिया जाफरी की शिकायतों और दूसरे जरूरी तथ्यों के अलावा संजीव भट्ट जैसे आईपीएस अधिकारी के सबूतों की भी अनदेखी की गई थी. इसके बाद बेंच ने कहा,

“हम मजिस्ट्रेट द्वारा स्वीकार की गई क्लोजर रिपोर्ट देखना चाहते हैं. उसमें (क्लीन चिट दिए जाने के) कारण दिए होंगे.”

अब SIR की तरफ से मुकुल रोहतगी ने कह दिया है कि रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट के सामने रखी जाएगी. देखना होगा उसके बाद सुप्रीम कोर्ट क्या कदम उठाएगा.

इस तरह मिली मोदी को क्लीनचिट

गोधराकांड के एक दिन बाद. तारीख, 28 फरवरी 2002. अहमदाबाद की गुलबर्ग सोसायटी को हजारों लोगों ने घेर लिया. 29 बंगलों और 10 फ्लैटों की इस सोसाइटी में एक पारसी और बाकी मुस्लिम परिवार रहते थे. कांग्रेस सांसद रह चुके एहसान जाफरी भी यहीं रहते थे. हिंसक भीड़ ने सोसायटी पर हमला किया. घरों से निकाल-निकाल कर लोगों को मार डाला. मरने वालों में एहसान जाफरी भी थे.

2006 में एहसान जाफरी की पत्नी जकिया जाफरी ने पुलिस को फरियाद दी. इसमें उन्होंने इस हत्याकांड के लिए उस वक्त के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी, कई मंत्रियों और पुलिस अधिकारियों को जिम्मेदार बताया. पुलिस ने ये फरियाद लेने से इन्कार कर दिया. 7 नवंबर 2007 को गुजरात हाई कोर्ट ने भी इस फरियाद को FIR मानकर जांच करवाने से इन्कार कर दिया.

बाद में 2008 में सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात दंगों के 10 बड़े केसों की जांच के लिए आरके राघवन की अध्यक्षता में SIT बनाई. इनमें गुलबर्ग का मामला भी था. 6 मार्च 2009 को ज़किया की फरियाद की जांच का जिम्मा भी सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी को सौंपा. 8 फरवरी 2012 को एसआईटी ने अपनी रिपोर्ट अहमदाबाद मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट की कोर्ट में पेश की. मजिस्ट्रेट ने SIT की रिपोर्ट के आधार पर माना कि नरेंद्र मोदी और दूसरे 63 लोगों के खिलाफ कोई सबूत नहीं हैं.


वीडियो- नरेंद्र मोदी और अखिलेश यादव दो का पहाड़ा कैसे सुनाएंगे, टिल्लू राजा ने बता दिया!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

RRB NTPC के रिजल्ट में किन गड़बड़ियों पर छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं, खुद उनसे सुनिए

RRB NTPC के रिजल्ट में किन गड़बड़ियों पर छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं, खुद उनसे सुनिए

क्या एक ग्रेजुएट और एक 12वीं पास को एक एक जैसा पेपर देना जायज है?

गोरखपुर कचहरी में युवक की हत्या करने वाले के बारे में पुलिस ने क्या बताया?

गोरखपुर कचहरी में युवक की हत्या करने वाले के बारे में पुलिस ने क्या बताया?

मृतक व्यक्ति पर नाबालिग से बलात्कार का आरोप था.

5जी नेटवर्क कैसे बन गया हवाई जहाज़ के लिए खतरा?

5जी नेटवर्क कैसे बन गया हवाई जहाज़ के लिए खतरा?

5G के रोल आउट को लेकर दिक्कतें चालू.

गाड़ी का इंश्योरेंस कराने वालों को दिल्ली हाई कोर्ट का ये आदेश जान लेना चाहिए

गाड़ी का इंश्योरेंस कराने वालों को दिल्ली हाई कोर्ट का ये आदेश जान लेना चाहिए

बीमा कंपनी गाड़ी चोरी या दुर्घटनाग्रस्त होने का बहाना बनाए तो ये आदेश दिखा देना.

राजस्थान पुलिस अलवर गैंगरेप की जांच सड़क हादसे के ऐंगल से क्यों कर रही है?

राजस्थान पुलिस अलवर गैंगरेप की जांच सड़क हादसे के ऐंगल से क्यों कर रही है?

दबी जुबान में क्या कह रही है पुलिस?

बजट में FD को लेकर बैंकों की ये बात मानी गई तो आप और सरकार दोनों की मौज आ जाएगी!

बजट में FD को लेकर बैंकों की ये बात मानी गई तो आप और सरकार दोनों की मौज आ जाएगी!

जानेंगे बैंक FD में क्यों घट रही है लोगों की दिलचस्पी.

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

तौकीर रजा कांग्रेस पर आरोप लगा चुके हैं कि उसने मुसलमानों पर आतंकी का टैग लगाया.

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

जानिए UPA के समय हुई इस डील ने कैसे देश को शर्मसार किया.

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

बीबीसी का आरोप, टीम के साथ नरसिंहानंद के समर्थकों ने गाली-गलौज और धक्का-मुक्की की.

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

मुख्य आरोपी के साथ उसके दोस्तों को पुलिस ने पकड़ लिया है.