Submit your post

Follow Us

मंत्री के बेटे को हड़काने वाली कॉन्स्टेबल सुनीता यादव को अब फोन पर धमकियां मिल रही हैं

सुनीता यादव. गुजरात में लोक रक्षक दल (LRD) की कॉन्स्टेबल. राज्य के स्वास्थ्य मंत्री के बेटे को कर्फ्यू तोड़ने को लेकर बीच सड़क रोककर हड़का दिया. इसे लेकर वो चर्चा में आईं. लेकिन उन्हें अपने इस्तीफे का ऐलान करना पड़ गया. अब उन्होंने दावा किया है कि उनकी जान को खतरा है. उन्हें पुलिस सुरक्षा दी गई है.

सुनीता यादव ने इंडियन एक्सप्रेस अखबार को बताया कि उन्होंने पुलिस फोर्स से इस्तीफा दिया. उन्होंने आगे जोड़ा कि वो IPS अधिकारी बनना चाहती हैं. इसके लिए वो तैयारी करना चाहती हैं ताकि पुलिस फोर्स में वापस आ सकें.

‘लोग मेरा पीछा करते हैं’

सुनीता यादव ने कहा,

मेरी लड़ाई सुनीता यादव के लिए नहीं, मेरी लड़ाई खाकी वर्दी के लिए. मुझे फोन पर कई धमकियां मिलीं. एक फोन करने वाले ने बोला, ‘तुम देश के लिए बहुत काम कर रही हो. मुझे नहीं लगता बहुत दिन जी पाओगी.’ उन्होंने मसला सुलझाने के लिए 50 लाख रुपए भी ऑफर किए. तीन दिन पहले मुझे फोन आया. इसके बाद मैं सूरत पुलिस कमिश्नर के पास पुलिस प्रोटेक्शन के लिए गई. फोन गुजरात के बाहर से लग रहा था.

पिछले तीन दिनों से दो महिला पुलिसकर्मी उनके आवास पर तैनात हैं. इसके अलावा दो पुरुष पुलिसकर्मी उनके अपार्टमेंट के मेन गेट पर तैनात हैं. सुनीता यादव ने कहा, ”अगर मैं सड़क पर होती हूं तो भी मीडिया के लोगों के अलावा कुछ लोग मेरा पीछा करते हैं.”

8 जुलाई की घटना

चर्चित घटना 8 जुलाई की है, जब कॉन्स्टेबल सुनीता यादव ने पांच लड़कों को पैट्रोलिंग के दौरान रोका. इसमें गुजरात के स्वास्थ्य मंत्री किशोर कानानी के बेटे प्रकाश से उनकी तीखी बहस हुई. शख्स ने मंत्री का बेटा होने का दावा करते हुए कहा कि वो अपने दोस्त की मदद के लिए आया है. गाड़ी पर विधायक की प्लेट होने को लेकर भी वो भड़कीं. इसका वीडियो वायरल हो गया. 11 जुलाई को प्रकाश और उसके दो दोस्तों दीपक गोधानी और संजय ककाडिया को कर्फ्यू तोड़ने के आरोप में गिरफ्तार किया गया. बाद में उन्हें बेल पर रिहा कर दिया गया. इस मामले में एक जांच एसीपी F डिवीजन जेके पांड्या को दी गई है.


इस महिला पुलिसकर्मी को स्वास्थ्य राज्य मंत्री के बेटे से पूछताछ करना भारी पड़ गया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

जांचे बिना ही पुलिस ने शख्स को मरा घोषित कर दिया, फोटोग्राफर ने बचाया

कोरोना के डर से पुलिस ने छूकर भी नहीं देखा.

यूपी पुलिस ने अपनी ही FIR में माना, 'हां, विकास दुबे की गाड़ी बदली गई थी'

गोली के खोखे बारिश और घासफूस में खो गए.

राजस्थान के झमेले के बीच सचिन पायलट ने बीजेपी का दिल तोड़ने वाली बात कह दी है

CM अशोक गहलोत से क्यों ग़ुस्सा हैं, बता दिया सचिन पायलट ने.

कानपुर कांड की रात वहां मौजूद औरत ने फोन करके अपनी भाभी को क्या बताया, सुनिए ऑडियो

“पुलिस वाले हैं. विकास भैया ने मारा है, इन सब लोगों ने मारा है.”

यूपी पुलिस विकास दुबे के घर ये वाले हथियार खुद नहीं खोज पाई, आरोपी ने बताया कहां रखे हैं

इसके पहले पुलिस और फ़ोरेंसिक टीम विकास दुबे का घर ढहाकर छान चुकी है.

गूगल का भारत में 75,000 करोड़ रुपये के निवेश का पूरा प्लान क्या है

खुद सुंदर पिचाई ने ऐलान किया है.

राजस्थान: क्या है गहलोत-पायलट के बीच टकराव की वजह?

जयपुर से लेकर दिल्ली तक जोर आजमाइश हो रही है.

बच्चन परिवार की इकलौती सदस्य जिसे कोरोना नहीं हुआ

अमिताभ बच्चन और अभिषेक बच्चन COVID-19 पॉजिटिव निकले थे

यूपी STF ने विकास दुबे एनकाउंटर पर अब क्या नई बात बताई है?

कार पलटने की वजह क्या थी?

गैंगस्टर विकास दुबे एनकाउंटर में मारा गया

एक दिन पहले ही उज्जैन के महाकाल से पकड़ा गया था विकास दुबे.