Submit your post

Follow Us

सीकर ग्राउंड रिपोर्ट: घर की महिलाओं के दम पर सरकार को झुकाकर माने किसान

राजस्थान के सीकर में 14 दिनों से महापड़ाव डाले जिन किसानों को नेशनल मीडिया में तवज्जो नहीं मिल रही थी, उन्होंने सरकार को झुकने के लिए मजबूर कर दिया. इन किसानों की 11 सूत्री मांगें थीं, जिनमें से राजस्थान सरकार 50 हजार रुपए तक की कर्जमाफी के लिए तैयार हो गई है. इन किसानों का हाल जानने दी लल्लनटॉप पहुंचा सीकर, जहां हमें पता चला कि कैसे लाखों किसान इकट्ठा होने के बावजूद 14 दिनों तक चला ये आंदोलन अहिंसक बना रहा और किसके दम पर किसानों को इतनी बड़ी सफलता मिली.

kisan
सीकर सब्जी मंडी में लेटा एक किसान

सीकर की सब्जी मंडी पहुंचने पर हमने पाया कि किसान वहां गैस सिलेंडर, राशन और दूसरी बुनियादी चीजों के साथ मौजूद थे. पूछने पर उन्होंने बताया कि महापड़ाव के लिए वो लोग महीनेभर की तैयारी के साथ चले थे. किसान सरकार से कैसे लड़ेंगे, इसकी पहले से तैयारी कर ली गई थी.

kisan1
सिलेंडर, चूल्हा और राशन: वो सामान जो किसान साथ लेकर आए

महापड़ाव की ज़रूरत पर एक किसान बताते हैं, ‘सरकार की गलत नीतियों की वजह से किसानों को बहुत नुकसान हुआ. एक फसल नोटबंदी और दूसरी फसल जीएसटी की भेंट चढ़ गई. बैंक कुर्की करके किसानों का अपमान कर रहे हैं. नए-पुराने नोटों से जूझने के बाद जब जीएसटी आया, तो व्यापारी कन्फ्यूज हो गए. नेता कहते हैं कि उन्हें किसानों की चिंता है. हमने 163 सीटों से बहुमत दिया, फिर भी अच्छे दिन नहीं आए.’

kisan2
किसान महापड़ाव का हाल बताता एक किसान

किसानों की एक मांग जानवरों के बेचने की इजाज़त मिलना भी थी. इस बारे में किसान बताते हैं कि पशु क्रूरता अधिनियन 2017 आने की वजह से बहुत दिक्कत हुई. इससे किसान जानवरों से मुनाफा नहीं कमा पा रहे हैं, जबकि उन पर पैसा पहले जितना ही खर्च करना पड़ रहा है. मंडी में मौजूद एक किसान कहते हैं, ‘अगर सरकार गाय को मां का दर्जा देती है, तो पहले उसे मंत्रालय खोलना चाहिए था. गोशालाएं बनवाते. लाखों युवा बेरोजगार हैं, उन्हें रोजगार मिलता. सरकार को क्या कमी है, एसी भी लगवा देते. बिना इंतजाम के कानून बना दिया और भुगत हम रहे हैं. बिना स्वार्थ के न किसान काम करते हैं और न सरकार.’

kisan3
महापड़ाव के बारे में बताता एक किसान

स्थानीय नेताओं को अपनी समस्या बताने के सवाल पर किसान बताते हैं कि सत्ता में डूबी सरकार ने कुछ किया ही नहीं. किसान चार महीने से विरोध कर रहे हैं, बीच में एक बार चार घंटे का चक्का जाम भी किया था, लेकिन सरकार की तरफ से कोई जवाब नहीं आया. एक किसान के मुताबिक, ‘प्याज ने बिल्कुल बर्बाद कर दिया. प्रधानमंत्री का बार-बार विदेश दौरा हो रहा था. हमें लगा कि प्याज एक्सपोर्ट करेंगे, लेकिन कुछ नहीं हुआ. सरकार के कहने पर परंपरागत खेती की, लेकिन प्याज सड़ गया.’

kisan4
सीकर की सब्जी मंडी, जहां किसान इकट्ठे हुए

इस आंदोलन के अहिंसक रहने की बात किसान भी गर्व से बताते हैं. पिछले दो-तीन साल में मंदसौर समेत जितने भी किसान आंदोलन हुए हैं, वो सारे हिंसक हुए और असफल रहे, लेकिन सीकर किसान आंदोलन में कोई हिंसा नहीं हुई. दो दिन हाइवे भी जाम रहा, लेकिन न तो एक भी लाठी चली और न एक भी गोली. किसान कहते हैं कि उन्होंने अमराराम जैसा नेता कहीं नहीं देखा. अमराराम ही इस आंदोलन का नेतृत्व कर रहे हैं. किसान बताते हैं कि उन्होंने प्रशासन के साथ बाप-बेटे जैसा व्यवहार रखा, प्रशासन को बल-प्रयोग का मौका ही नहीं दिया, अमराराम ने उन्हें जहां बैठने के लिए कह दिया, वो बैठ गए.

kkisan5
आंदोलन कैसे शांत रहा, इसका हाल बताता एक किसान

तहसील स्तर पर कमेटियां बनाकर संचालित किए गए इस आंदोलन में किसानों का अनुशासन देखने लायक था. और उससे ज्यादा सराहनीय है महिलाओं की भागीदारी, जिन्होंने पहले घर के काम किए और फिर नुक्कड़ोंज-नाकों पर बैठकर रास्ता रोकने का काम किया. मंडी में मौजूद किसान खुलकर महिलाओं की मदद को स्वीकार करते हैं और उन्हें सफलता का कारण बताते हैं.

kisan6
सीकर सब्जी मंडी में एक किसान (बाएं) और आंदोलन में हिस्सा लेने वाली महिलाएं (दाएं)

अहिंसक, महिलाओं की बड़ी भूमिका और सरकार को झुकाने की तीन बड़ी उपलब्धियों के साथ किसान आगे बढ़ रहे हैं. सीकर का जमीनी हाल जानने के लिए देखिए दी लल्लनटॉप का ये वीडियो, जो सीकर से लाइव किया गया था.


ये भी पढ़ें:

राजस्थान में 14 जिलों के किसान सड़कों पर हैं और हम बेखबर हैं

मध्य प्रदेश में 6 किसानों का कत्ल किसने किया?

इस आदमी का 1 घंटे 35 मिनट का लाइव-स्ट्रीम शिवराज के 28 घंटे के उपवास पर भारी था

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सामने आया 8 जून का रिया और महेश भट्ट का चैट, रिया ने कहा था, 'आपने मेरे पंखों को आज़ाद किया है'

पढ़िए 8 जून की चैट, जिस दिन रिया सुशांत सिंह के घर से चली गयी थीं.

प्रशांत भूषण ने कही ये बात, तो कोर्ट बोला- हजार अच्छे काम से गुनाह करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता

बचाव में उतरे केंद्र की अपील, सजा न देने पर विचार करें, सुप्रीम कोर्ट ने दिया दो-तीन दिन का वक्त

सुशांत पर सुप्रीम कोर्ट ने CBI जांच का आदेश दिया, महाराष्ट्र के वकील को आपत्ति

कोर्ट ने कहा, सारे काग़ज़ CBI को दे दीजिए.

बिहार : महीनों से बिना सैलरी के पढ़ा रहे हैं गेस्ट टीचर, मांगकर खाने की आ गई नौबत!

इस पर अधिकारियों ने क्या जवाब दिया?

सलमान खान की रेकी करने वाला शार्प शूटर पकड़ा गया

जनवरी में रची गई थी सलमान खान की हत्या की साजिश!

रोहित शर्मा और इन तीन खिलाड़ियों को मिलेगा इस साल का खेल रत्न!

इसमें यंग टेबल टेनिस सेंसेशन का भी नाम शामिल है.

प्रसिद्ध शास्त्रीय गायक पंडित जसराज नहीं रहे

पिछले कुछ समय से अमेरिका में रह रहे थे.

प. बंगाल: विश्व भारती यूनिवर्सिटी में जबरदस्त हंगामा, उपद्रवियों ने ऐतिहासिक ढांचे भी ढहाए

एक फेमस मेले ग्राउंड के चारों तरफ दीवार खड़ी की जा रही थी.

धोनी के 16 साल के क्रिकेट करियर की 16 अनसुनी बातें

धोनी ने रिटायरमेंट का ऐलान कर दिया है.

धोनी के तुरंत बाद सुरेश रैना ने भी इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहा

इंस्टाग्राम पोस्ट के ज़रिए रिटायरमेंट की बात बताई.