Submit your post

Follow Us

नोएडा में पुलिस चौकी से 300 मीटर दूर न्यूज एंकर के साथ जो हुआ, वो रूह कंपा देगा

ग्रेटर नोएडा वेस्ट. इसे यूपी की हाईटेक सिटी के तौर पर पेश किया जाता है. लेकिन यहां पर होने वाले क्राइम दिल दहला रहे हैं. कुछ महीने पहले इसी इलाके में गौरव चंदेल नाम के व्यक्ति की कार लूट के बाद हत्या कर दी गई थी. अब वहीं पर एक टीवी एंकर को पिस्तौल की नोक पर लूट लिया गया है. वह भी पुलिस चौकी से सिर्फ 300 मीटर दूर. टीवी एंकर ने आपबीती फेसबुक पर लिखी है. वहीं पुलिस का कहना है कि उसके पास मामले को लेकर अभी शिकायत नहीं आई है.

5 मोटरसाइकिल सवारों ने सफारी रोक ली

नोएडा से चलने वाले हिंदी खबर नाम के न्यूज चैनल के एडिटर अतुल अग्रवाल के साथ यह वारदात हुई. अतुल हिंदी खबर चैनल पर शो भी एंकर करते हैं. 19 जून को रात करीब 1 बजे वह नोएडा एक्सटेंशन में राइज़ पुलिस चौकी के पास से अपनी एसयूवी लेकर गुज़र रहे थे. उसी दौरान मोटरसाइकल पर सवार 5 बदमाशों ने उन्हें घेर लिया. जान से मारने की धमकी दी. उनका सामान छीन लिया. अतुल की जान कैसे बची, इसकी कहानी उन्होंने अपनी फेसबुक पोस्ट पर शेयर की है.

‘टीवी एंकर हूं इसलिए जान बच गई शायद’

जी हां ये सच है. कल दिनांक 19 जून 2021, रात्रि करीब 1 बजे, नोएडा एक्सटेंशन के राइज़ पुलिस चौकी के पास से मैं गुज़र रहा था. मेरी सफारी स्टॉर्म कार का म्यूज़िक गड़बड़ कर रहा था तो मैंने कार रोकी और गानों वाली पेन ड्राइव को लगाने लगा. पुलिस चौकी से तकरीबन 250-300 मीटर की दूरी पर मैं रहा होऊंगा.

अचानक से 2 मोटर साइकिलों पर सवार 5 लड़के वहां आ धमके. एक बाइक मेरी कार के आगे और दूसरी ड्राइविंग डोर की साइड में लगा दी. सारे लड़के मास्क लगाए हुए थे. एक काफी लंबा लड़का, लंबाई लगभग 6’4″ फीट के ऊपर ही रही होगी, सबसे पहले बाइक से उतरा और मेरी तरफ का दरवाज़ा ज़ोर से खींचा. दरवाज़ा लॉक था इसलिए खुला नहीं. तो उसने खिड़की के शीशे पर ज़ोर से ठोंका और नीचे करने का हुकुम दिया. मैंने नीचे करने में आना-कानी की तो उसने पिस्तौल निकाल ली. मेरे पास उसका आदेश मानने के सिवाय और कोई चारा नहीं था. मैंने दरवाज़ा खोल दिया. उसने गन-प्वाइंट पर मुझे नीचे उतार दिया और खुद कार की ड्राइविंग सीट पर जा बैठा. बाकी के लड़कों ने मुझे कवर कर लिया. एक लड़का लगातार गालियां दे रहा था. दूसरा लड़का बार-बार बोल रहा था कि अबे गोली मार दे साले को. मैंने रिरियाते हुए कहा कि भाईसाहब मेरा एक छोटा सा बेटा है. मुझे गोली मार के आपको क्या मिलेगा? आप कार ले जाइए. जो थोड़ा बहुत पैसा है वो भी ले लीजिए. मैं पैदल ही चला जाउंगा यहां से. किसी से कुछ कहूंगा भी नहीं.

ए़टीएम चलकर पैसे निकालने को कहा

इसके बाद बदमाशों ने पत्रकार से एटीएम में चलकर पैसे निकालने को कहा. लेकिन उनके पास एटीएम कार्ड नहीं था. इस पर एक बदमाश ने उनका गला दबाना शुरू कर दिया. आगे की दास्तां बताते हुए अतुल अग्रवाल लिखते हैं.

कार में बैठे लड़के ने इसके बाद मुझे पिस्तौल दिखाते हुए कहा कि चल चेन, अंगूठी, घड़ी और रूपए निकाल. मोबाइल दे अपना. मैंने अपने सारे पैसे (जो मैंने गिने नहीं मगर करीब 5-6 हज़ार होंगे) उसे दे दिए. मैंने कहा कि सोने से मुझे एलर्ज़ी है इसीलिए चेन और अंगूठी तो मैं नहीं पहनता हूं. वो बोला ATM चल, कार्ड से पैसा निकाल. मैने निवेदनपूर्वक कहा कि सॉरी, कार्ड नहीं है मेरे पास. कहिए तो PAYTM कर देता हूं. ऐसा बोलते ही, पीछे वाला लड़का गाली देते हुए मेरा गला दबाने लगा. तब कार में बैठे लंबे लड़के ने उसे डांटते हुए रोका. फिर उसने मेरा मोबाइल मांगा. मैंने दे दिया. उसने मेरी फिंगर से उसे अनलॉक किया और कुछ सेकेन्ड्स पता नहीं क्या देखता रहा. फिर गाली देते हुए पूछा कि तुझे जाने दूं कि गोली मार दूं? बता तू ही बता? मेरी हालत पस्त हो चुकी थी. हाथ पैर कांप रहे थे. मैंने फिर से हाथ जोड़कर जान बख्शने की विनती की. अपने छोटे से बेटे की दुहाई दी. तब वो कार से नीचे उतरा और मेरी कॉलर पकड़कर, गुर्राते हुए बोला कि अगर ज्यादा होशियारी दिखाई तो सबकी जान जाएगी. हमने कहा कि भाई जी हमारे पास जो कुछ भी है, वो ले लीजिए और हमें जाने दीजिए. हम किसी से कुछ नहीं कहेंगे.

तब तक मुझे ये अंदाज़ा हो गया था कि ये लोग मुझे जान से नहीं मारेंगे लेकिन कार और सारा सामान ले लेंगे.

‘ऐसा किया तो पुलिस खोज लेगी’

पत्रकार ने अपनी हालत बयां करते हुए बताया कि कैसे उन्होंने हिम्मत जुटाकर अपनी जिंदगी की भीख मांगी. उन्होंने बदमाशों को बताया कि मोबाइल न ले जाएं वरना उन्हें पुलिस ट्रैक कर लेगी. अतुल अग्रवाल अपनी पोस्ट में आगे लिखते हैं.

इसके बाद उसने मेरा मोबाइल दूसरे लड़के को रखने के लिए दे दिया. तब मैं बड़ी हिम्मत बटोर कर उसके आगे गिड़गिड़ाया. अपना कार्ड दिखाया कि भाईजी मैं PIB जर्नलिस्ट हूं. भारत सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त हूं. मेरे मोबाइल का IMEI नंबर, मेरे सभी डीटेल्स और मेरे फिंगर प्रिंट्स आदि सब कुछ भारत सरकार के गृह मंत्रालय में रजिस्टर्ड होते हैं. आप ये फोन लेकर जहां कहीं भी इस्तेमाल करेंगे तो सर्विलांस में आ जाएंगे. इसके बाद पता नहीं, उसके मन में क्या आया कि उसने मेरा फोन कार की सीट पर फेंक दिया. और भद्दी सी गाली देते हुए गुर्राते हुए कहा कि चल ठीक है. हम जा रहे हैं. इसके तुरन्त बाद भाग जाना यहां से. अगर किसी को बताया या पीछा किया तो जान से जाओगे.

इसके बाद लड़कों ने दोनों मोटर साइकिलें स्टार्ट कीं और सभी लोग वहां से तेज़ रफ्तार से चले गए. मैंने मन ही मन राहत की सांस ली. हाथ जोड़कर ईश्वर को धन्यवाद दिया. मेरी आंखों के सामने सिर्फ मेरे बेटे ओम का चेहरा कौंध रहा था और आंसू बरबस बरस रहे थे.

ये पोस्ट एक पत्रकार के तौर पर नहीं, एक इंसान, एक आम रहवासी के तौर पर लिख रहा हूं. अपने पूर्वजों और शुभचिन्तकों का भी तहे-दिल से शुक्रिया जिनके आशीर्वाद से एक बड़ी विपत्ति टल गई, अन्यथा कुछ भी अप्रिय हो सकता था. पीठ पीछे उन बिगड़ैल लड़कों का भी धन्यवाद करूंगा जिन्होंने मेरी जान बख्श दी. ईश्वर उन्हे सदबुद्धि दे और सही रास्ते पर लाए, ये प्रार्थना भी करता हूं.

पुलिस का क्या कहना है?

इस घटना के बारे में नोएडा पुलिस का कहना है कि पत्रकार की तरफ से कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई गई है. पुलिस को सोशल मीडिया के जरिए ही जानकारी मिली है. डीसीपी सेंट्रल नोएडा ने अपने स्टेटमेंट में कहा कि

सोशल मीडिया के माध्यम से एक प्रकरण संज्ञान में आया है. एक वरिष्ठ पत्रकार के द्वारा लूट की घटना की बात बताई गई है. हालांकि उनकी तरफ से पुलिस में कोई सूचना नहीं दी गई है. घटना कल रात 1 बजे की बताई जा रही है. तत्काल टीमों को गठित कर दिया गया है. इसमें आवश्यक विधिक कार्रवाई की जा रही है.

बता दें कि ग्रेटर नोएडा वेस्ट में कई इलाके सुनसान होने की वजह से अक्सर यहां इस तरह की वारदातें सामने आती हैं. पिछले साल गौरव चंदेल नामक युवक को लूट के इरादे से इसी इलाके में कुछ लोगों ने रोका था और गोली मार दी थी. उनकी लाश अगले दिन सड़क के किनारे से बरामद हुई थी. अब देखना है कि पुलिस इन बदमाशों तक कब तक पहुंच पाती है.


वीडियो – कोरोना महामारी के दौरान नोएडा पुलिस ने प्लाज़्मा डोनेशन के लिए क्या पहल की?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ये किन दो नेताओं को चुनाव से ठीक पहले योगी आदित्यनाथ ने बड़ा काम दे दिया है?

ये किन दो नेताओं को चुनाव से ठीक पहले योगी आदित्यनाथ ने बड़ा काम दे दिया है?

कौन हैं रामबाबू हरित और जसवंत सैनी?

अयोध्याः 20 लाख की जमीन मेयर के भतीजे ने ट्रस्ट को 2.5 करोड़ में बेची, महंत ने उठाए सवाल

अयोध्याः 20 लाख की जमीन मेयर के भतीजे ने ट्रस्ट को 2.5 करोड़ में बेची, महंत ने उठाए सवाल

ट्रस्ट द्वारा खरीदी जा रही जमीनों के दो और सौदे विवादों के घेरे में.

चिराग पासवान के चचेरे भाई सांसद प्रिंस राज पर लगे रेप के आरोप का पूरा मामला है क्या?

चिराग पासवान के चचेरे भाई सांसद प्रिंस राज पर लगे रेप के आरोप का पूरा मामला है क्या?

आरोप लगाने वाली महिला के खिलाफ प्रिंस ने भी फरवरी में दर्ज कराई थी FIR.

किसान आंदोलन में शामिल लोगों पर आरोप- पहले ग्रामीण को शराब पिलाई, फिर जिंदा जला दिया!

किसान आंदोलन में शामिल लोगों पर आरोप- पहले ग्रामीण को शराब पिलाई, फिर जिंदा जला दिया!

बहादुरगढ़ की घटना, पुलिस ने दो लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया है.

CBSE ने सुप्रीम कोर्ट में बताया, 12वीं के मार्क्स देने का 30:30:40 फॉर्मूला क्या है

CBSE ने सुप्रीम कोर्ट में बताया, 12वीं के मार्क्स देने का 30:30:40 फॉर्मूला क्या है

31 जुलाई से पहले फाइनल रिजल्ट जारी करने की जानकारी भी दी है.

योगी सरकार के संपत्ति रजिस्ट्री को लेकर लगने वाले स्टाम्प शुल्क के नए नियम में क्या है?

योगी सरकार के संपत्ति रजिस्ट्री को लेकर लगने वाले स्टाम्प शुल्क के नए नियम में क्या है?

नए नियम के बाद विवादों में कमी आएगी?

हरिद्वार कुंभ के दौरान बांटी गयी 1 लाख फ़र्ज़ी कोरोना रिपोर्ट? जानिए क्या है कहानी

हरिद्वार कुंभ के दौरान बांटी गयी 1 लाख फ़र्ज़ी कोरोना रिपोर्ट? जानिए क्या है कहानी

अख़बार का दावा, सरकारी जांच में हुआ ख़ुलासा

दिल्ली दंगा : नताशा, देवांगना और आसिफ़ को ज़मानत देते हुए कोर्ट ने कहा, 'कब तक इंतज़ार करें?'

दिल्ली दंगा : नताशा, देवांगना और आसिफ़ को ज़मानत देते हुए कोर्ट ने कहा, 'कब तक इंतज़ार करें?'

जानिए क्या है पूरा मामला?

सैन्य ऑपरेशन से जुड़े 25 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड सार्वजनिक होंगे

सैन्य ऑपरेशन से जुड़े 25 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड सार्वजनिक होंगे

सेना के इतिहास से जुड़ी जानकारियां सार्वजनिक करने की पॉलिसी को मंजूरी

पंजाब चुनाव: अकाली दल और बसपा गठबंधन का ऐलान, कितनी सीटों पर लड़ेगी मायावती की पार्टी?

पंजाब चुनाव: अकाली दल और बसपा गठबंधन का ऐलान, कितनी सीटों पर लड़ेगी मायावती की पार्टी?

पंजाब के अलावा बाकी चुनाव भी साथ लड़ने की घोषणा.