Submit your post

Follow Us

सर्वदलीय बैठक में पीएम मोदी के दिए बयान से बवाल, PMO ने दी सफाई

चीन से तनाव पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 जून को सर्वदलीय बैठक बुलाई.पीएम ने कहा कि न कोई हमारी सीमा में घुसा हुआ है. न ही हमारी कोई पोस्ट किसी दूसरे के कब्जे में है. इसके बाद विपक्षी दलों के साथ ही सुरक्षा मामलों के जानकारों ने भी सरकार को घेर लिया. उनका कहना था कि सरकार विरोधाभाषी बयान दे रही है. और उसने चीन की आक्रामकता के सामने देश की जमीन सरेंडर कर दी है.  विवाद बढ़ा तो प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) की तरफ से सफाई दी गई.

PMO ने क्या कहा

PMO ने कहा कि पीएम के बयान की गलत व्याख्या की जा रही है. प्रधानमंत्री ने यह साफ कर दिया था कि लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर भारत की सीमा में स्ट्रक्चर खड़ा करने की चीनी कोशिशें 16 बिहार रेजिमेंट के जवानों ने नाकाम कर दी थीं. जवानों की बहादुरी के चलते सीमा में चीन की कोई मौजूदगी नहीं है.

‘सीमा में कोई नहीं घुसा’ वाले बयान पर आई यह सफाई

पीएमओ ने बताया कि सर्वदलीय बैठक में यह जानकारी भी दी गई कि चीनी सेना इस बार कहीं अधिक ताकत के साथ एलएसी पर आई. यह भी साफ कहा था कि 15 जून को गलवान में हिंसा हुई थी. क्योंकि चीनी सैनिक एलएसी पर ढांचा बनाना चाहते थे. वे रोकने पर भी मान नहीं रहे थे. भारतीय सीमा में चीनी मौजूदगी पर प्रधानमंत्री के बयान 15 जून को गलवान में हुई घटना पर आधारित थे, जिसमें 20 सैनिकों की जान चली गई थी.

कहा- एलएसी में बदलाव की कोशिश का जवाब मजबूती से देेंगे

पीएमओ की ओर से कहा गया है कि भारत का क्षेत्र कितना है, यह नक्शे से स्पष्ट है. सरकार इसकी रक्षा के लिए संकल्पबद्ध है. सर्वदलीय बैठक में इस पर भी जानकारी दी गई कि पिछले 60 साल में 43000 वर्ग किलोमीटर भूभाग पर कब्जा किया गया है, जिसकी जानकारी देश को है. अब एलएसी में बदलाव की किसी भी कोशिश का भारत मजबूती से जवाब देगा. ऐसी चुनौतियों का भारतीय सेना पहले की अपेक्षा मजबूती से सामना करती है.

पीएम के बयान पर विवाद को बताया प्रोपेगैंडा 

पीएमओ की ओर से कहा गया है कि सैनिक सीमाओं की रक्षा कर रहे हैं. ऐसे समय में उनका मनोबल कम करने के लिए अनावश्यक विवाद खड़ा करना दुर्भाग्यपूर्ण है. पीएमओ ने  पीएम मोदी के बयान पर हो रहे विवाद को प्रोपेगैंडा बताया. कहा कि इससे भारतीयों की एकजुटता को कम नहीं किया जा सकता.


Video: चीन ने बताया कि गलवान घाटी में भारतीय सेना के साथ क्या हुआ था?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

राज्यसभा की 18 सीटों में से कांग्रेस और बीजेपी ने कितनी जीतीं?

एक और पार्टी है जिसने कांग्रेस जितनी सीटें जीती हैं.

दिल्ली के हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन ऑक्सीजन सपोर्ट पर, दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किए गए

कुछ दिन पहले कोरोना पॉज़िटिव आए थे, अब प्लाज़मा थेरेपी दी जाएगी.

चीनी सेना की यूनिट 61398, जिससे पूरी दुनिया के डेटाबाज़ डरते हैं

बड़ी चालाकी से काम करती है ये यूनिट.

गलवान घाटी में झड़प के बाद भी चीनी सेना मौजूद, 200 से ज्यादा ट्रक और टेंट लगाए

सैटेलाइट से ली गई तस्वीरों में यह सामने आया है.

पेट्रोल-डीजल के दाम में फिर से उबाल क्यों आ रहा है?

रोजाना इनके दाम घटने-बढ़ने की पूरी कहानी.

उत्तर प्रदेश में एक IPS अधिकारी के ट्रांसफर पर क्यों तहलका मचा हुआ है?

69000 भर्ती में कार्रवाई का नतीजा ट्रांसफर बता रहे लोग. मगर बात कुछ और भी है.

गलवान घाटी: LAC पर भारत के तीन नहीं, 20 जवान शहीद हुए हैं, कई चीनी सैनिक भी मारे गए

लड़ाई में हमारे एक के मुकाबले तीन थे चीनी सैनिक.

गलवान घाटीः वो जगह जहां भारत-चीन के बीच झड़प हुई

पिछले कुछ समय से यहां पर दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने हैं.

लद्दाख: गलवान घाटी में भारत-चीन झड़प पर विपक्ष के नेता क्या बोले?

सेना के एक अधिकारी समेत तीन जवान शहीद हुए हैं.

क्या परवीन बाबी की राह पर चल पड़े थे सुशांत?

मुकेश भट्ट ने एक इंटरव्यू में कहा.