Submit your post

Follow Us

मोदी सरकार ने लाखों कर्मचारियों का एक झटके में नुकसान कर दिया

577
शेयर्स

मोदी सरकार ने GPF यानी जनरल प्रोविडेंट फण्ड की ब्याज दरों में कटौती कर दी है. जीपीएफ पर अब 8 के बजाय 7.9 फीसदी सालाना का ब्याज मिलेगा. नई दरें 1 जुलाई से लागू हो गई हैं. ये जानकारी वित्त मंत्रालय ने दी है. जीपीएफ पर बीते 9 महीने से 8 फीसदी ब्याज मिल रहा था. सरकार के इस फैसले से केंद्र सरकार के लाखों कर्मचारी, रेलवे और रक्षा विभाग के कर्मचारी प्रभावित होंगे. क्या हैं इस फैसले के मायने आइए समझते हैं.

किन फंड्स का रेट घटाया गया और किन कर्मचारियों पर होगा असर?

 

# जनरल प्रोविडेंट फंड (सेंट्रल सर्विसेज) : केंद्र सरकार के करीब 48 लाख कर्मचारी.

# कंट्रीब्यूटरी प्रोविडेंट फंड (इंडिया) : राष्ट्रपति कार्यालय के कर्मचारी.

# स्टेट रेलवे प्रोविडेंट फंड : रेलवे में करीब 13 लाख कर्मचारी.

# इंडियन ऑर्डनेंस डिपार्टमेंट प्रोविडेंट फंड : रक्षा कारखानों के कर्मचारी.

# इंडियन ऑर्डनेंस फैक्ट्रीज वर्कमैन प्रोविडेंट फंड :  ऑर्डनेंस फैक्ट्रियों के कर्मचारी.

# जनरल प्रोविडेंट फंड (डिफेंस सर्विसेज) : रक्षा सेवा के कर्मचारी.

# डिफेंस सर्विसेज ऑफिसर्स प्रोविडेंट फंड : रक्षा विभाग के अधिकारी.

# आर्म्ड फोर्सेस पर्सनल प्रोविडेंट फंड : सेना.

# इंडियन नेवल डॉकयार्ड वर्कमैन प्रोविडेंट फंड : नौसेना कर्मचारी.

क्या असर होगा इन कर्मचारियों पर?

अब इन सरकारी कर्मचारियों को उनके जनरल प्रोविडेंट फंड पर 7.9 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा. केंद्रीय कर्मचारियों की बेसिक सैलरी का 10 फीसदी जीपीएफ काटा जाता है. कर्मचारियों को ये पैसा उनके रिटायरमेंट के वक्त मिलता है. बीच में बच्चों की पढ़ाई, मकान बनाने वगैरह के लिए भी ये पैसा निकाला जा सकता है. अभी तक इस पर 8 फीसदी की दर से ब्याज मिल रहा था. सरकारी कर्मचारियों की भविष्य निधि के तौर पर जीपीएफ की कटौती होती है. ठीक वैसे ही जैसे प्राइवेट कंपनियों में काम करने वाले कर्मचारियों का ईपीएफ काटा जाता है. सरकारी कर्मचारियों की तुलना में प्राइवेट कर्मचारियों के ईपीएफ पर अभी ब्याज ज्यादा मिल रहा है. ईपीएफ की ब्याज दर इस वक्त 8.65 है.

क्या होता है जीपीएफ?

GPF के सदस्य केवल सरकारी कमर्चारी होते हैं. सरकारी कर्मचारी अपने वेतन का एक हिस्सा इसमें निवेश करते हैं, जिसका रिटर्न उन्हें रिटायरमेंट के समय मिलता है. इसके पहले जीपीएफ की ब्याज दर में बदलाव अक्टूबर 2018 में किया गया था. उस वक्त ब्याज दर 0.4 फीसदी बढ़ाकर 8 फीसदी की गई थी. मार्च, 2017 में सरकार ने जीपीएफ निकालने के नियम को आसान बना दिया था. अब कर्मचारी 15 दिन के भीतर भुगतान ले सकते हैं. कर्मचारी नौकरी के 10 साल पूरा होने पर ही कुछ खास जरूरतों के लिए जीपीएफ का पैसा निकाल सकते हैं. पहले ऐसा 15 साल के बाद ही हो सकता था.

छोटी बचत पर भी ब्याज दरें कम की गईं

पिछले महीने ही सरकार ने पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ), नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट (एनएससी) जैसी छोटी बचत योजनाओं के ब्याज दर में भी 0.1 फीसदी की कटौती की थी. एनएससी और पीपीएफ पर ब्याज दर 7.9 फीसदी और किसान विकास पत्र पर ब्याज दर 7.6 फीसदी कर दिया गया था.


वीडियोः मोदी सरकार सार्वजनिक कंपनियों में विनिवेश से कितना पैसा बना पाएगी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

इस मुख्यमंत्री के बंगले का कुत्ता मर गया, अब कभी भी गिरफ्तार हो सकते हैं इलाज करने वाले दो डॉक्टर

ऐसा मुकदमा दर्ज हुआ है कि दोषी पाए जाने पर पांच साल की जेल हो सकती है.

जिस स्पीड पर गाड़ी हवा में उड़ने लगती, उस स्पीड पर गाड़ी चलता दिखा काट दिया चालान

गाड़ी इतनी पुरानी है कि उस स्पीड पर कभी चल ही नहीं सकती.

कमाई के मामले में आयुष्मान खुराना की 'ड्रीम गर्ल' ने कई रिकॉर्ड़ तोड़ दिए हैं

'साहो' तो 300 करोड़ के पास पहुंच गई है, लेकिन 'छिछोरे' का क्या हुआ?

SIT को मिले चश्मे वाले कैमरे से बनाए गए 40 से ज्यादा वीडियो, क्या रेप केस में गिरफ्तार होंगे चिन्मयानंद?

चिन्मयानंद के वकील ने कहा, लड़की से मालिश करवाना कोई अपराध नहीं.

गजब! जो इंसान दुनिया में है ही नहीं, उसके नाम से चालान कट रहा है

जिसके घर चालान भेजा गया वो 8 साल पहले ही गुजर चुका है.

साढ़े छह लाख का चालान महीनेभर पहले ही कट चुका है

इससे ज्यादा का चालान शायद ही कोई पुलिस वाला काट पाए.

अपने गिफ्ट्स की नीलामी से मिले पैसों का क्या करेंगे पीएम मोदी?

पीएम मोदी को जो भी गिफ्ट्स मिले हैं, सरकार उन्हें नीलाम कर रही है.

आयुष्मान खुराना की 'ड्रीम गर्ल' ने पहले दिन कितने पैसे कमाए?

'मिशन मंगल' अक्षय के करियर की सबसे बड़ी फिल्म बन गई.

ऑफिस के बाहर मुर्गा बनकर क्यों बैठ गए हरियाणा के ये लोग?

बचपन में मास्टरजी ने बनाया होगा, अब अधिकारियों की वजह से बनना पड़ा.

ये हैं अमेरिका में ड्रग्स का रैकेट चलाने वाले दो भारतीय, जिनका आका बम धमाके कर भारत से भाग गया

इन दोनों भारतीयों का बॉलीवुड से गहरा कनेक्शन है.