Submit your post

Follow Us

गोवाः ऑक्सीजन की कमी से 26 मौतें, हेल्थ मिनिस्टर ने CM सावंत को 'गुमराह' बता दिया

गोवा में कोरोना मरीजों की ऑक्सीजन की कमी से मौत पर सरकार के भीतर ही बवाल उठ खड़ा हुआ है. राज्य के सीएम प्रमोद सावंत ने गोवा मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में 26 मौतों के मामले में ऑक्सीजन की कमी पर सवाल उठाए तो उन्हीं की सरकार के स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे ने इस बात से इंकार कर दिया. उन्होंने यहां तक कह दिया कि सीएम सावंत ‘गुमराह’ हैं. आइए जानते हैं क्या है पूरा मामला जिसकी वजह से गोवा की बीजेपी सरकार में खींचतान मची हुई है.

सीएम ने माना कि ऑक्सीजन की कमी थी

गोवा में सोमवार से मंगलवार के बीच कोरोना की वजह से एक दिन में 75 मौतें हुईं. यह एक दिन में अब तक राज्य में हुई सबसे ज्यादा मौतें हैं. इनमें से भी 48 मौतें सिर्फ गोवा के मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में मंगलवार को हुईं. कहा जा रहा है कि 26 लोग ऑक्सीजन की कमी की वजह से मारे गए. मंगलवार की सुबह राज्य के सीएम प्रमोद सावंत ने पीपीई किट पहनकर कोरोना वार्ड का दौरा किया. उसके बाद शाम को अस्पताल के अधिकारियों के साथ मीटिंग की. उसके बाद उन्होंने कहा कि

ऑक्सीजन आने में देरी की वजह से हॉस्पिटल में सप्लाई बाधित हुई. हालांकि यह नहीं कहा जा सकता कि मौतें इस वजह से ही हुई हैं.

मेडिकल कॉलेज के डीन एसएम बंदेकर ने इंडियन एक्सप्रेस अखबार को बताया कि

हम इस मामले में अभी सारी जानकारी जुटा रहे हैं.

मेडिकल कॉलेज ने 48 कोरोनो मरीजों को लेकर जो मेडिकल बुलेटिन जारी किया है, उसमें भी ऑक्सीजन की कमी को मौत का कारण नहीं बताया गया है. मौत के कारणों के तौर पर कोविड 19, कोविड 19 निमोनिया, बाइलेटरल कोविड निमोनिया आदि वजहें बताई गई हैं. सीएम ने सप्लाई सुनिश्चित करने की बात को दोहराया.उन्होंने द इंडियन एक्सप्रेस अखबार को बताया कि

हमने सप्लायर से कहा है कि कम से कम 55 ट्रॉले ऑक्सीजन और 600 जंबो सिलेंडर सुनिश्चित करें. सप्लायरों को कहा गया है कि वह सिस्टम को तेज करें. अतिरिक्त वाहन और ड्राइवरों की व्यवस्था करें. मेडिकल कॉलेज में 25 मिनट के अंदर ऑक्सीजन पहुंचाने को सुनिश्चित करके ही प्रेशर मेंटेन किया जा सकेगा.

 

हेल्थ मिनिस्टर कुछ और ही कह रहे हैं

इस पूरे मामले पर भले ही सीएम सावंत मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी की बात मान रहे हैं लेकिन हेल्थ मिनिस्टर विश्वजीत राणे कुछ और कह रहे हैं. उनका कहना है कि 26 लोगों की मौत ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई है. इस मामले में हाई कोर्ट की निगरानी में जांच होनी चाहिए. उन्होंने यहां तक कह दिया कि इस मामले में सीएम प्रमोद सावंत ‘गुमराह’ हैं. राणे ने कहा कि

मेडिकल कॉलेज को सोमवार को 1200 जंबो ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत थी. लेकिन उन्हें मिले सिर्फ 400. मेरी समझ से सीएम को सोमवार रात 2 बजे से मंगलवार सुबह 6 बजे के बीच हुई मौतों के कारण की जांच करनी चाहिए. जिन तीन नोडल ऑफिसर को मेडिकल कॉलेज पर नजर रखने की जिम्मेदारी दी गई है उनसे सवाल पूछना चाहिए. हाई कोर्ट चाहे तो इसकी एक्सपर्ट कमेटी बना कर जांच करवा सकता है. मेरी समझ में बेहतर होगा कि हाई कोर्ट जांच करा ही ले. हाई कोर्ट को गोवा मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल के पूरे कोविड मैनेजमेंट की जांच के आदेश देने चाहिए. मुझे इसमें कोई दिक्कत नहीं है क्योंकि मेरा मन पूरी तरह से साफ है. मेरी समझ से उन्हें (सावंत) को किसी ने गुमराह किया है.

 

जब सीएम सावंत से हेल्थ मिनिस्टर राणे के इस दावे के बारे में पूछा गया तो सावंत ने कहा

कितने मरीज सिर्फ ऑक्सीजन लेवल गिरने से मरे और कितने दूसरे कारणों से, यह तो सिर्फ डॉक्टर ही बता सकता है. मैं कोई एक्सपर्ट नहीं हूं.

पहले भी दिखे हैं राणे और सावंत में मतभेद

ऐसा पहली बार नहीं है कि सीएम सावंत और स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे के बीच मतभेद सार्वजनिक हुए हों. कांग्रेस से बीजेपी में आए राणे पहले भी कोविड संकट पर सीएम सावंत से अलग राय व्यक्त कर चुके हैं. 26 अप्रैल को उन्होंने ट्वीट किया था कि अगर गोवा में कम से कम 1 महीने का लॉकडाउन नहीं लगाया जाता, तो राज्य में अगले 10 दिनों में 200-300 लोग मारे जाएंगे. हालांकि बाद में उन्होंने अपना ट्वीट हटा लिया था.

जब सीए सावंत ने राज्य में 15 दिन का कर्फ्यू लगाया तब भी राणे ने इस पर हट कर प्रतिक्रिया दी. राणे ने एक न्यूज चैनल से कहा कि ये फैसला जल्दी होना चाहिए था. कभी-कभी प्रशासनिक और आर्थिक तौर पर फैसलों में संतुलन बनाकर चलना होता है. यह एक ऐसा फैसला है जिसमें हमने निर्णय लेने में त्रुटि कर दी है.

11 मई को मुंबई हाई कोर्ट में गोवा सरकार ने एक हलफनामा दाखिल किया है. इसमें गोवा सरकार ने कहा है कि केंद्र सरकार ने राज्य का ऑक्सीजन कोटा 11 एमटी (मिट्रिक टन) से बढ़ा कर 26 एमटी किया दिया है. इसके अलावा राज्य 35 एमटी ऑक्सीजन प्राइवेट सप्लायरों से जुटाती है. उसकी रोज की खपत 55 एमटी है.

बता दें कि पिछले हफ्ते एक पीआईएल पर सुनवाई करते वक्त कोर्ट ने गोवा मेडिकल कॉलेज के डीन से भी कई सवाल पूछे थे. कोर्ट ने कहा था कि डायरेक्टर हेल्थ सर्विसेज बुधवार (12 मई) तक हलफनामा देकर ये बताएं कि राज्य सरकार के तीनों अस्पतालों में ऑक्सीजन सप्लाई का क्या हाल है? साथ ही एफिडेविट में यह भी बताएं कि ऑक्सीजन से कमी के वजह से किसी की मौत हुई है या नहीं.


वीडियो – गोवा के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री कोरोना से मौत, तो बेटी ने PPE किट पहनकर अंतिम संस्कार किया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने पीएम मोदी के लिए क्या कहा?

आज आए चुनाव नतीजे में ममता, कांग्रेस और BJP को कहां-कहां जीत हार का सामना करना पड़ा?

आज आए चुनाव नतीजे में ममता, कांग्रेस और BJP को कहां-कहां जीत हार का सामना करना पड़ा?

उपचुनाव के नतीजे एक जगह पर.

जेल से बाहर आए शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान, मन्नत के लिए रवाना

जेल से बाहर आए शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान, मन्नत के लिए रवाना

3 अक्टूबर को आर्यन खान को गिरफ्तार किया गया था.

वरुण गांधी ने कहा- UP में किसानों का फसल जलाना सरकार के लिए शर्म की बात, जेल कराऊंगा

वरुण गांधी ने कहा- UP में किसानों का फसल जलाना सरकार के लिए शर्म की बात, जेल कराऊंगा

किसानों के बहाने फिर बीजेपी पर निशाना साध रहे वरुण गांधी?