Submit your post

Follow Us

गुलाम नबी आजाद अब बीजेपी में चले जाएंगे? पद्म भूषण के ऐलान के बाद उठे सवाल

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद को पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किए जाने के बाद कांग्रेस पार्टी से मिलीजुली प्रतिक्राएं आई हैं. एक तरफ जहां कुछ नेताओं ने उन्हें बधाई दी है, दूसरी तरफ उनके ऊपर तंज भी कसा गया है. सोशल मीडिया पर उनके बीजेपी में जाने की बातें भी होने लगी हैं. इस बीच खुद गुलाम नबी आजाद ने इस तरह के प्रयासों की निंदा की है. उन्होंने ट्वीट किया,

“कनफ्जूजन फैलाने के लिए कुछ लोग प्रोपेगेंडा कर रहे हैं. मेरी ट्विटर प्रोफाइल पर ना तो कुछ जोड़ा गया है और ना ही कुछ हटाया गया है. प्रोफाइल पहले ही जैसी है.”

इससे पहले कांग्रेस पार्टी के ही दिग्गज नेता जयराम रमेश ने आजाद के ऊपर तंज कसा. उन्होंने पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री और सीपीएम के वरिष्ठ नेता बुद्धदेब भट्टाचार्य द्वारा पद्म भूषण पुरस्कार ना लेने की घोषणा की खबर शेयर करते हुए ट्वीट किया, “सही किया. वो (बुद्धदेब भट्टाचार्य) आजाद रहना चाहते हैं, गुलाम नहीं.”

वहीं दूसरी तरफ कपिल सिब्बल और शशि थरूर ने आजाद को बधाई दी. तिरुवनंतपुरम से पार्टी के सांसद और वरिष्ठ कांग्रेस नेता शशि थरूर ने ट्वीट करते हुए लिखा,

“पद्म भूषण मिलने पर गुलाम नबी आजाद जी को बधाई. दूसरी विचारधारा की सरकार द्वारा लोगों की सेवा के लिए पहचान मिलना अच्छी बात है.”

वहीं कपिल सिब्बल ने ट्वीट किया, “गुलाम नबी आजाद को पद्म भूषण. बधाई भाईजान. यह काफी विरोधाभासी है कि कांग्रेस को तब उनकी सेवाएं नहीं चाहिए, जब देश उनकी सेवा के लिए उन्हें पहचान दे रहा है.”


कपिल सिब्बल, शशि थरूर और गुलाम नबी आजाद कांग्रेस पार्टी के उस G-23 ग्रुप का हिस्सा रहे हैं, जिसने पार्टी अध्यक्षा सोनिया गांधी को एक पत्र लिखा था. पत्र में पार्टी में सुधार के लिए कई बातें लिखी गई थीं. इनमें से एक प्रमुख बात पार्टी को स्थाई अध्यक्ष देने की भी थी. इस पत्र के चलते गांधी परिवार के वफादारों ने G-23 के नेताओं को सार्वजनिक तौर पर निशाना बनाया था.

इस बीच यह भी कयास लगाए गए कि गुलाम नबी आजाद जल्द ही पार्टी छोड़कर बीजेपी में शामिल हो जाएंगे. खासकर तब, जब विपक्ष के नेता के तौर पर राज्यसभा में उनका आखिरी दिन था. अपने विदाई भाषण में आजाद ने खुले मन से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की थी. वहीं प्रधानमंत्री मोदी ने भी उनकी तारीफों के पुल बांधे थे. इस दौरान गांधी परिवार पर जानबूझकर आजाद का राज्यसभा कार्यकाल ना बढ़ाने का आरोप भी लगे.


वीडियो- RPN सिंह ने PM मोदी और BJP को लेकर कही थी यह ‘कड़वी’ बात

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

अभी ये सुविधा कुछ ही बैंको तक सीमित है.

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

2013 की बात है जब चहल मुंबई इंडियन्स की तरफ से खेलते थे.

आकार पटेल के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी करने वाली CBI अब उनसे माफी मांगेगी

आकार पटेल के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी करने वाली CBI अब उनसे माफी मांगेगी

कोर्ट ने आकार पटेल को बड़ी राहत दी है.

भारत में कोरोना के XE Variant का पहला केस मिलने के दावे पर सरकार ने क्या कहा?

भारत में कोरोना के XE Variant का पहला केस मिलने के दावे पर सरकार ने क्या कहा?

ये वेरिएंट कितना खतरनाक है, ये भी जान लें.

लल्लनटॉप अड्डा: 9 अप्रैल को मचने वाले धमाल का पूरा शेड्यूल पढ़ लो!

लल्लनटॉप अड्डा: 9 अप्रैल को मचने वाले धमाल का पूरा शेड्यूल पढ़ लो!

हंसी होगी, संगीत होगा और होंगे सौरभ द्विवेदी!

ED ने किन मामलों में सत्येंद्र जैन और संजय राउत के परिवारों की करोड़ों की संपत्ति कुर्क की है?

ED ने किन मामलों में सत्येंद्र जैन और संजय राउत के परिवारों की करोड़ों की संपत्ति कुर्क की है?

कार्रवाई पर संजय राउत भड़क गए हैं.

यूपी सरकार के लिए गोरखनाथ मंदिर हमला 'आतंकी घटना', हमलावर के पिता ने क्या बताया?

यूपी सरकार के लिए गोरखनाथ मंदिर हमला 'आतंकी घटना', हमलावर के पिता ने क्या बताया?

यूपी सरकार ने आरोपी के खिलाफ तगड़ी जांच के आदेश दे दिए हैं.

1 अप्रैल से E-Invoicing अनिवार्य, फर्जी बिल बनाने वालों की नींद उड़ी

1 अप्रैल से E-Invoicing अनिवार्य, फर्जी बिल बनाने वालों की नींद उड़ी

20 करोड़ सालाना बिक्री पर ई-इनवॉइसिंग जरूरी, टैक्स चोरी थमेगी.

रुचि सोया के FPO के 'चमत्कार' को नमस्कार करने के बजाय SEBI ने क्यों दिखाई सख्ती?

रुचि सोया के FPO के 'चमत्कार' को नमस्कार करने के बजाय SEBI ने क्यों दिखाई सख्ती?

वजह पतंजलि समूह का एक कथित संदेश बताया गया है?

योगी सरकार 2.0 में राज्यमंत्री बने नेताओं के बारे में ये बातें जानते हैं आप?

योगी सरकार 2.0 में राज्यमंत्री बने नेताओं के बारे में ये बातें जानते हैं आप?

कई पुराने तो कुछ नए चेहरों को मंत्रीमंडल में जगह मिली है.