Submit your post

Follow Us

वर्ल्ड कप 2011 वाली धोनी की आइकॉनिक फोटो पर गौतम गंभीर क्यों किलस गए?

2 अप्रैल, 2011. ये दिन आज भी बहुतों के ज़हन में रुका हुआ है. और रुकी हुई है एक आइकॉनिक तस्वीर. महेंद्र सिंह धोनी की. वानखेड़े स्टेडियम में उन्होंने गेंद को हवा में टांग दिया था और वर्ल्ड कप भारत के खाते में आ गया था. 28 साल बाद.

आज 2 अप्रैल है. 9 साल बाद बहुत से लोग इस तस्वीर को याद कर रहे हैं. ESPNcricinfo ने भी किया. लेकिन पूर्व क्रिकेटर और वर्तमान बीजेपी सांसद गौतम गंभीर इस बात से किलस गए.

ESPNCricinfo ने लिखा,

#OnThisDay, 2011 में जिस शॉट ने करोड़ों भारतीयों को जश्न से भर दिया.

इस पर गौतम गंभीर ने लिखा,

जस्ट अ रिमाइंडर. 2011 का वर्ल्ड कप पूरे भारत, पूरी भारतीय टीम और पूरे सपोर्ट स्टाफ ने जीता था. एक SIX से इतना ऑब्शेसन दिखाने का समय अब नहीं है.

आलोचना भी शुरू

कई लोग इस पर गंभीर की आलोचना भी कर रहे हैं. एक यूज़र ने ट्विटर पर लिखा,

एक प्रोफेशनल के तौर पर ये ग़लत लगता है. वो सिर्फ ये कह रहे हैं कि इस शॉट ने मैच खत्म किया और हम जीत गए. बिल्कुल, हमने सबके योगदान से वर्ल्ड कप जीता और सब कोई बराबर क्रेडिट का हकदार है. आपने भी उस रात जबरदस्त खेला और लोगों को ये पता है.

गौतम गंभीर ने बनाए थे 97 रन

श्रीलंका के ख़िलाफ हुए फाइनल में भारत को 275 रनों का लक्ष्य हासिल करना था. विरेंदर सहवाग (0) और सचिन तेंडुलकर (18 रन) के विकेट जल्दी गिर गए थे लेकिन गौतम गंभीर ने पहले विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी के साथ अच्छी पार्टनरशिप की थीं.उन्होंने कोहली के साथ 83 रन और धोनी के साथ मिलकर 99 रन जोड़े थे. गंभीर हालांकि अपनी सेंचुरी पूरी नहीं कर पाए और 97 रन बनाकर आउट हो गए. जब वो आउट हुए तो भारत को 52 गेंद पर 52 रन चाहिए थे. इसके बाद धोनी और युवराज सिंह भारत को जीत तक ले गए. धोनी 79 गेंद पर 91 रन और युवराज 24 गेंद पर 21 रन बनाकर नॉट आउट रहे.


1983 वर्ल्ड कप फाइनल में मदन लाल और कपिल देव का ये किस्सा रोंगटे खड़े करने वाला है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

डॉक्टरों ने कहा- क्वारंटीन करना पड़ेगा, तो पूरे मोहल्ले ने पत्थर मारते हुए दौड़ा लिया

ये हाल उस शहर का है, जहां से एक दिन में 13 केस आए हैं.

मरकज में पहुंचे लोगों ने हर राज्य में कोरोना वायरस के मामले बढ़ा दिए हैं

तबलीगी जमात में शामिल होने के बाद लोग अलग-अलग राज्यों के लिए रवाना हो गए थे.

कोरोना वायरस से पद्म श्री अवॉर्डी की मौत, विदेश से लौटने के बाद कई धार्मिक सभाएं की थीं

गोल्डन टेंपल के पूर्व रागी थे निर्मल सिंह.

कोरोना के मरीज़ों के लिए महिंद्रा ने जो सस्ता वेंटिलेटर बनाया, उसका डिज़ाइन चोरी किया हुआ है!

इसे सबसे पहले बनाने वाले डॉक्टर क्या कह रहे?

जयपुर: एक शख्स से मोहल्ले के 26 लोगों को कोरोना वायरस इंफेक्शन हो गया

18 दिन पहले ओमान से लौटा था शख्स.

कोरोना से लड़ने के लिए अजीम प्रेमजी ने अब सच में बहुत बड़ी रकम डोनेट कर दी है

डोनेशन की भ्रामक अफवाहों के बीच अब असली खबर आई.

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, बिना हमसे जांच कराए कोरोना की कोई ख़बर न छपे

कहा कि इससे लोग डर सकते हैं.

कोरोना: तबलीगी जमात ने दिखाई पुलिस-प्रशासन को लिखी पुरानी चिट्ठी

तबलीगी ज़मात की सफ़ाई क्या है? दस्तावेज़ क्या कहते हैं?

जिस चीज़ की ज़रूरत डॉक्टरों को सबसे पहले होती है, सरकार उसे अब मंगा रही है

15 भारतीय कंपनियों ने क्वालिटी टेस्ट पास कर लिया है.

इस रीसर्च की मानें तो भारत में लॉकडाउन 49 दिनों तक बढ़ सकता है!

और फ़ायदा क्या होगा?