Submit your post

Follow Us

आरोप- अयोध्या में जन्मभूमि ट्रस्ट ने 2 करोड़ की जमीन 10 मिनट बाद साढ़े 18 करोड़ में खरीदी

अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की खरीदी जमीन पर गंभीर आरोप लगे हैं. उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री और सपा नेता पवन पांडेय ने 13 जून को प्रेस कॉन्फ्रेंस की. वे एक जमीन के बैनामे के कागज और एक रजिस्टर्ड एग्रीमेंट के कागज लेकर आए थे. इसे दिखाते हुए पवन पांडेय ने दावा किया कि ट्रस्ट के लिए जमीन जिस दिन खरीदी गई थी, उसी दिन जमीन खरीदे जाने से महज 10 मिनट पहले ही इसी जमीन का दो करोड़ में बैनामा हुआ था. और फिर उसी दिन इसी जमीन का साढ़े 18 करोड़ में ट्रस्ट के नाम एग्रीमेंट कर दिया गया. इसी के आधार पर पवन पांडेय ने सवाल उठाए कि जिस जमीन का 10 मिनट पहले दो करोड़ रुपये में बैनामा हुआ, उसका 10 मिनट बाद साढ़े 18 करोड़ रुपये में एग्रीमेंट कैसे हो गया. यानी 10 मिनट में जमीन की कीमत साढ़े 16 करोड़ रुपये कैसे बढ़ गई?

पवन पांडेय बोले –

“राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने साढ़े 18 करोड़ रुपये में एक जमीन का रजिस्टर्ड एग्रीमेंट किया. ये रजिस्टर्ड एग्रीमेंट हुआ 18 मार्च 2021 को 7 बजकर 15 मिनट पर. यानी इस जमीन को ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय जी ने दो व्यापारियों- सुल्तान अंसारी और रवि मोहन तिवारी से खरीदा. रजिस्टर्ड एग्रीमेंट में दो गवाह लगते हैं. इसके पहले गवाह हैं अनिल मिश्रा, जो तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के ट्रस्टी हैं. इसके दूसरे गवाह हैं अयोध्या के मेयर ऋषिकेष उपाध्याय.”

इसके बाद पवन पांडेय ने कुछ और कागज उठाए, जो उनके बताने के मुताबिक इसी जमीन के बैनामे के कागज थे. बोले –

“ये बैनामे के सरकारी दस्तावेज हैं. ये बैनामा 7 बजकर 5 मिनट पर हुआ था. यानी रजिस्टर्ड एग्रीमेंट के 10 मिनट पहले. ये बैनामा हुआ है 2 करोड़ रुपये में. यानी बाबा से सुल्तान अंसारी और रवि मोहन तिवारी ने इस जमीन को 2 करोड़ रुपये में खरीदा और 18 मार्च 2021 को 7 बजकर 5 मिनट पर इसका 2 करोड़ रुपये में बैनामा हुआ. और फिर 10 मिनट बाद इसी जमीन का साढ़े 18 करोड़ रुपये में ट्रस्ट के नाम एग्रीमेंट कर दिया गया. एक और बड़ी बात ये है कि इस बैनामे में भी दो गवाह वहीं हैं, जो रजिस्टर्ड एग्रीमेंट में हैं.”

CBI जांच की मांग

पवन पांडेय ने कहा कि ये कैसे संभव है कि ट्रस्टी ने 5-10 मिनट पहले जिस जमीन के 2 करोड़ रुपये के बैनामे पर गवाह के तौर पर दस्तखत किए, उसी जमीन के 10 मिनट बाद साढ़े 18 करोड़ रुपये में गवाह बन गए. जमीन के दाम 10 मिनट में इतने कैसे बढ़ गए. उन्होंने इस पूरे मामले के CBI जांच की मांग की है. पवन पांडेय ने कहा कि गवाहों के नाम एक ही होने से साफ है कि सारा खेल ट्रस्टी और अयोध्या के मेयर को मालूम था. उन्होंने बताया कि जमीन कुल 12 हजार 80 वर्ग मीटर की है, जिसे बाबा हरिदास से खरीदा गया था.

मामले में राजनीति गर्माती दिख रही है. आरोप लगते ही ट्विटर पर #Ayodhya ट्रेंड करने लगा. AAP सांसद संजय सिंह ने ट्वीट किया –

“रवि मोहन तिवारी और सुल्तान अंसारी ने शाम 7:10 PM पर 2 करोड़ की ज़मीन ख़रीदी. शाम 7:15 PM पर राम जन्मभूमि ट्रस्ट के चंपत राय ने 18.5 करोड़ में उनसे ये ज़मीन ख़रीद ली. क्या दुनिया में कहीं 5.50 लाख रु प्रति सेकंड ज़मीन महंगी होते देखा है? ये काम किया है #चंदा_चोर_चम्पत ने”

चंपत राय बोले – आरोप तो गांधी की हत्या के भी लगे

इस मामले में जिन-जिन लोगों पर आरोप हैं, दी लल्लनटॉप ने सबसे संपर्क करने की कोशिश की. राम जन्मभूमि ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय और ट्रस्टी अनिल मिश्रा को एक से अधिक बार फोन किए, मैसेज किया. दोनों लोगों का फोन रिसीव नहीं हुआ. मैसेज का कोई रिप्लाई नहीं आया. मेयर ऋषिकेष उपाध्याय का भी फोन रिसीव नहीं हुआ. इंडिया टुडे रिपोर्टर बनबीर सिंह ने चंपत राय से संपर्क किया तो उन्होंने एक लाइन का जवाब दिया –

“सभी आरोपों की स्टडी करने के बाद ही कोई जवाब दूंगा. रही बात आरोपों की तो हम आरोपों से नहीं डरते. आरोप तो हम पर महात्मा गांधी की हत्या के भी लगे हैं.”

वहीं पवन पांडेय ने The Lallantop से बात करते हुए आरोप लगाए कि दोनों व्यापारी- सुल्तान अंसारी और रवि मोहन तिवारी अयोध्या के बड़े बिल्डर हैं और इनके मेयर ऋषिकेश उपाध्याय से अच्छे संपर्क हैं. उन्होंने कहा कि मेयर के भी कुछ करीबी लोग बिल्डर के काम में हैं और इस नाते साठ-गांठ करके ये घोटाला किया गया है.


अयोध्या विवाद के मध्यस्थता पैनल में CJI एसए बोबड़े क्यों शाहरुख खान को शामिल करना चाहते थे?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सैन्य ऑपरेशन से जुड़े 25 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड सार्वजनिक होंगे

सेना के इतिहास से जुड़ी जानकारियां सार्वजनिक करने की पॉलिसी को मंजूरी

पंजाब चुनाव: अकाली दल और बसपा गठबंधन का ऐलान, कितनी सीटों पर लड़ेगी मायावती की पार्टी?

पंजाब के अलावा बाकी चुनाव भी साथ लड़ने की घोषणा.

TMC में घर वापसी करने वाले मुकुल रॉय ने 4 साल बाद बीजेपी छोड़ने का फैसला क्यों लिया?

मुकुल रॉय को बराबर में बिठाकर ममता बनर्जी किन गद्दारों पर भड़कीं?

लक्षद्वीप: किस एक बयान के बाद फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना पर राजद्रोह का केस हो गया?

पहले TV डिबेट में बोला, फिर फेसबुक पर पोस्ट लिखा.

कोरोना वैक्सीन लेने के बाद शरीर से सिक्के-चम्मच चिपकने के दावों में कितना सच?

क्या शरीर में वाकई चुंबकीय शक्ति पैदा हो जाती है?

पावर बैंक ऐप, जिसने 15 दिन में पैसे डबल करने का झांसा दे 4 महीने में 250 करोड़ उड़ा लिए

पैसा शेल कंपनियों में लगाते, फिर क्रिप्टोकरंसी बनाकर विदेश भेज देते थे.

भूटान के बाद अब नेपाल ने पतंजलि की कोरोनिल दवा बांटने पर रोक क्यों लगा दी?

नेपाल के अधिकारियों ने IMA के उस लेटर का भी हवाला दिया है, जिसमें कोरोनिल को लेकर रामदेव को चुनौती दी गई थी.

दक्षिण में बीजेपी की मुश्किलें बढ़ीं, कर्नाटक और केरल में टॉप नेता सवालों में क्यों हैं?

मामला इतना बढ़ गया कि बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व को दखल देना पड़ा है.

आसिफ को भीड़ ने पीटकर मार डाला तो आरोपियों की रिहाई के लिए महापंचायतें क्यों हो रही हैं?

करणी सेना के नेता धमकी दे रहे- जो भी हमें रोकेंगे, उन्हें ठोक देंगे.

तमिल नेता ने अमेज़न से कहा 'फैमिली मैन 2' को बंद करो, वरना...

अमेज़न प्राइम वीडियो की हेड को लेटर लिख दी है खुली चेतावनी.